सोनीपत शराब घोटाले का आरोपी जसवीर सिंह रोहतक से गिरफ्तार,5 दिन की रिमांड पर

सोनीपत शराब घोटाले का आरोपी जसवीर सिंह रोहतक से गिरफ्तार,5 दिन की रिमांड पर

 

 

सोनीपत(अटल हिन्द ब्यूरो ) खरखौदा शराब तस्करी के आरोपित हरियाणा पुलिस के बर्खास्त इंस्पेक्टर जसबीर सिंह बुधवार सुबह रोहतक के सांपला में गिरफ्तार हो गया। एसआइटी ने दोपहर में उसको ड्यूटी मजिस्ट्रेट न्यायाधीश जोगेंद्री देवी के आवास पर पेश किया। न्यायाधीश ने आरोपित को पांच दिन के रिमांड पर एसआइटी को सौंप दिया है। एसआइटी के डीएसपी नरेंद्र कादयान ने बताया कि जसबीर ने खरखौदा के गोदाम से करीब नौ-दस हजार पेटी शराब चोरी होने की बात स्वीकार की है। अभी उससे शराब घोटाले और चोरी के संदर्भ में महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त की जानी है। एसआइटी ने न्यायालय से आठ दिन का रिमांड मांगा था,लेकिन अदालत ने पांच दिन का रिमांड स्वीकृत किया है।

हरियाणा में बीजेपी के लिए हालात नाजुक,इसलिए प्रधानगी सौंपने में हो रही है देरी ?

 

 

शराब घोटाले के मुख्य साजिशकर्ता थे जसबीर
खरखौदा में शराब तस्करी-चोरी की साजिश तत्कालीन एसएचओ जसबीर ने बनाई थी। लॉकडाउन में शराब के ठेके बंद थे। ऐसे में शराब नहीं मिल रही थी। लोगों में शराब की मांग बढ़ गई थी। वह किसी भी कीमत पर शराब खरीदने के लिए तैयार थे। जसबीर ने लोगों की इसी मांग का फायदा उठाया। हाईवे बंद हो जाने के चलते पंजाब से शराब की अवैध आपूर्ति नहीं हो पा रही थी। ऐसे में गोदाम में रखी शराब को चोरी करके बेचने की साजिश रची गई। जसबीर ने अपना प्लान भूपेंद्र को समझाया और शराब गोदाम से चोरी की जाने लगी। एसआइटी के सामने इसका खुलासा पहले ही भूपेंद्र और एएसआइ जयपाल ने किया था।

big news- सोनीपत में 3 करोड़ की शराब से भरे ट्रक पकड़े,तार किस बड़े चेहरे से जुड़े हुए हैं ???

 

तस्करी की शराब नहीं आई तो रची साजिश
लॉकडाउन में पंजाब से तस्करी की शराब नहीं आ पा रही थी। भूपेंद्र ने इस बाबत खरखौदा थाने के तत्कालीन एसएचओ जसबीर से मदद मांगी थी। जयबीर ने पहले पंजाब से शराब के ट्रक मंगवाने की संभावना तलाशी, लेकिन उम्मीद नजर रही आई। ऐसे में भूपेंद्र के साथ मिलकर गोदाम में रखी केस प्रॉपर्टी की शराब को बेचने की साजिश बनाई गई। गोदाम से शराब निकालकर उसकी बिक्री शुरू करा दी गई। लॉकडाउन में लोगों को शराब की ज्यादा तलब थी। ऐसे में गोदाम से चोरी कर शराब को गांवों और ठेकों तक बिक्री करने वालों को दिया गया। ठेके बंद होने के चलते उनके बाहर ही ठेकेदारों को सप्लाई दी गई। इससे हुई आमदनी में जसबीर और भूपेंद्र सहभागी रहे। तस्करी की शराब को दिल्ली, उत्तर प्रदेश और राजस्थान तक भेजा जाता था। जसबीर कहता था कि गोदाम में रखी शराब का रिकार्ड हमको कोर्ट में पेश करना है। निर्णय के बाद हमको ही इसको नष्ट कराना है। ऐसे में किसी से डरने की वजह क्या है। गोदाम से शराब चोरी का प्लान जसबीर ने भूपेंद्र को समझाया था। उसके बाद दोनों ही इसमें शामिल हो गए थे। लॉकडाउन के चलते मांग ज्यादा था। ऐसे में शराब मनमाने दामों पर बेची जा रही थी। भूपेंद्र और जसबीर ने गोदाम से शराब निकलवाई और जरूरत वाले ठेकेदारों को इसकी पूर्ति दी। इसका खुलासा पहले ही एएसआइ जयपाल कर चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Breaking News