प्यार को  लॉक नहीं कर पाया लॉकडाउन,अधिकतर प्रेमी जोड़े(love couple) पंजाब और हरियाणा से

लॉकडाउन भी प्यार को नहीं कर पा रहा लॉक,अधिकतर प्रेमी जोड़े पंजाब और हरियाणा से कोर्ट…

लड़का और लड़की का दो दिन साथ रहना भी लिव इन रिलेशनशिप

लड़का और लड़की का दो दिन साथ रहना भी लिव इन रिलेशनशिप: पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट…

enjoy-लडकियां अकेले में क्या करती है ? क्या वो,,,,,,,,,जब लड़कियाँ पो……… देखती हैं

Every fourth user in a porn site is a woman पोर्न साईट में हर चौथी यूजर…

enjoy-सेक्स में ज़्यादा इंजॉय के लिए लोग ग्लिटर कैप्सूल का इस्तेमाल

  सेक्स में ज़्यादा इंजॉय के लिए लोग ग्लिटर कैप्सूल का इस्तेमाल ग्लिटर कैप्सूल क्या है?…

‘गुरु’ जी की विदेश(abroad) भ्रमण जाने की ललक

कोरोना संकट में……… ‘गुरु’ जी की विदेश भ्रमण जाने की ललक मास्टर और जेबीटी टीचर जाना…

Real life health I have to have sex every day

Real life health I have to have sex every day Ceri Walker, 20, from Canterbury, Kent,…

Women orgasm only once every 2 to 3 weeks through masturbation or homosexual activities.

Let’s imagine for a moment that men and women have the same level of reactivity (mating…

A woman cannot be pregnant every time she engages in sexual intercourse.

Someone must have a trigger to have a sex drive that urges them to engage in…

ब्वॉयज (Boys)लॉकर रूम (Locker Room)चैट ग्रुप के बारे में सुनके आपको कैसा लगा?

 

ब्वॉयज लॉकर रूम चैट ग्रुप के बारे में सुनके आपको कैसा लगा?

How did you like hearing about Boys’ Locker Room Chat Group?

शाम्भवी पाठक

दिल्ली के 17–18 साल के लड़कों ने इंस्टाग्राम पर ब्वॉयज लॉकर रूम नाम से एक ग्रुप बना रखा था । इस ग्रुप में ये लोग लड़कियों कि परमिशन के बिना उनकी तस्वीरों को एडिट करके पेज पर अपलोड करते थे तथा वहां पर आपत्तिजनक कॉमेंट भी करते थे। उनमें से कई लड़कियां तो बालिग भी नहीं थीं, 14–15 वर्ष की थीं। ये लोग यहीं तक नहीं रुके । ये लोग लड़कियों का रेप करने का भी प्लान करते थे । जो लड़कियां अपने बॉयफ्रेंड को अपनी तस्वीरें भेजी थीं, उनको सार्वजनिक करते थे।

https://www.thequint.com/neon/gender/boys-locker-room-south-delhi-teenage-boys-discuss-gangraping-women

 

हालांकि यह पहला मामला नहीं है ऐसा। अभी हाल में ही मुंबई के एक बहुत ही प्रतिष्ठित विद्यालय से भी ऐसी ही एक घटना सामने आयी थी जहां पर 13–14 वर्ष के लड़कों ने वॉट्सएप ग्रुप बना रखा था और वो अपनी कक्षा की लड़कियों के बारे में आपत्तिजनक बातें करते थे। और फेसबुक पर बहुत से ऐसे पेज संचालित होते हैं जिन पर लड़कियों की तस्वीरें डाली जाती हैं बिना उनके परमिशन के और फिर दूसरे पुरुष उन पर घटिया कॉमेंट करते हैं।

 

यहां कोरा पर भी कुछ लोग अपनी विकृत मानसिकता दर्शाते हैं और भद्दे प्रश्न पूछते हैं , और कुछ तो इतने दुस्साहसी होते हैं कि सीधा इनबॉक्स में आ जाते हैं। लड़कियों से पता नहीं कितनी नफरत है। अंग्रेज़ी कोरा पर लड़कियों की तुलना बच्चे पैदा करने वाली मशीन से करने वाले उत्तर हो या फिर जो लड़की वर्जिन ना हो उसका बलात्कार करना चाहिए जैसे उत्तर सब हजारों अपवोट्स पाते हैं। और क्या मजाल कि कोई लड़की इन सब बातों की शिकायत कर दे।

https://www.google.com/amp/s/www.vice.com/amp/en_in/article/dyganm/the-bois-locker-room-chat-exposes-indias-rape-culture-and-how-it-starts-so-young

 

पुरुषों की एक पूरी फौज आ जाएगी उनको डिफेंड करने। आपको फेमिनाजी, फेमिनिस्ट ,गोल्ड डिगर साबित किया जाएगा और कोई जसलीन कौर वाला केस का उदाहरण देकर बताएंगे कि सब औरतें वैसी ही घटिया किस्म की होती हैं । लेकिन पुरुष की बात होगी तो बताएंगे की सब ऐसे नहीं होते ।

 

 

भाई साहब आप ही बता दीजिए की कैसे पहचान करें की कौन अच्छा है और कौन बुरा ? दिल्ली और मुंबई दोनों जगह की घटनाओं में तो सब अच्छे परिवारों के पढ़े लिखे लड़के थे जिनको देखकर शायद ही किसी लड़की को लगेगा की उनकी मानसिकता इतनी विकृत हो सकती है। यहां हिंदी कोरा पर दिन रात एक चरित्रहीन लड़की की पहचान वाला प्रश्न घूमता रहता है, हजारों प्रश्न में लड़कियों के वर्जिन होने उनके संस्कार का प्रमाण लेने वाले कैसी स्त्री से विवाह करना चाहिए और पता नहीं क्या – क्या यही सब विषय रहते हैं । अरे भाई कोई हमको ये भी बता दो की चरित्रहीन लड़के की पहचान कैसे करें?

https://www.google.com/amp/s/www.indiatimes.com/amp/trending/wtf/eight-students-of-ib-school-suspended-after-whatsapp-chat-about-raping-classmates-surfaces-502628.html

 

 

एडिट: जैसा कि मैंने पहले ही अपने उत्तर में लिखा था , कुछ महान लोग यहां डिफेंड करने को अा चुके हैं। उनमें से जिन्होंने घटिया भाषा में टिप्पणी की थी उन सबको रिपोर्ट करके हटवा दिया है। कुछ लोगों का कहना है कि लड़कियों का भी तो एक ऐसा ही ग्रुप सामने आया है तो उस बारे में क्या कहना है? मैं इस बारे में कहना चाहती हुं कि मैं एक लड़की हूं तो इसका मतलब ये नहीं की मैं विकृत मानसिकता वाली दूसरी लड़कियों का साथ दूंगी । लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि मैं यह उत्तर हटा लूंगी क्योंकि लॉकर रूम तो सिर्फ एक घटना है बाकी की घटनाओं का क्या ? आप एक मामले में कुतर्क करके दुसरे मामलों को दबाने का नहीं सोच सकते । और एक महान आत्मा हैं यहां जिनका कहना है कि अगर लड़की गलत ना हो तो फिर लड़के कि हिम्मत नहीं होती।

अंजली फ़िल्म(Film) प्रोडक्शन्स एवम सिटीसीएस फैमिली का संयुक्त अभियान के अंतर्गत विभिन्न एक्टिविटीज़

प्रेरणा अभियान-रक्तदान के मुद्दे पर हुआ पोस्टर जागरूकता प्रयास अंजली फ़िल्म प्रोडक्शन्स एवम सिटीसीएस फैमिली का…

Translate »
error: Content is protected !!
Breaking News