Tuesday, September 25, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
क्यों करना चाहिए व किसलिए जरूरी है श्राद्ध?सावधान, क्षेत्र में एक बार फिर चोर गिरोह सक्रिय, दुकान का शटर तोडक़र उड़ाया लाखों का सामानअमेठी सांसद राहुल गांधी की अध्यक्षता में जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति की हुयी बैठक, राज्यमंत्री सुरेश पासी भी रहे मौजूद, बैठक में कई बार नाराज हुये अमेठी सांसद, जानिए क्यों ?घरौंडा-कई घंटे की बरसात से फ्लाईओवर पर मिट्टी व सड़क धँसीनीमा महेंद्रगढ़ ईकाई की नई कार्यकारिणी गठितअनुठी पहल: अपनी मुहिम के तहत अनेकों गांवों में पौधारोपण अभियान चला किए 500 फलदार पौधे वितरितछात्र संघ चुनाव को लेकर अभाविप की जिला स्तरीय बैठक आयोजितराजकीय प्राथमिक पाठशाला ढाणी श्योपुरा में मनाया गया राष्ट्रीय पोषण दिवस
Haryana

लम्बोरा एकेडमी में पौधारोपण कर बच्चों को किया पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक

सतनाली से प्रिंस लांबा की रिपोर्ट | July 12, 2018 07:16 PM
सतनाली से प्रिंस लांबा की रिपोर्ट

लम्बोरा एकेडमी में पौधारोपण कर बच्चों को किया पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक
बिना पौधारोपण किए सुखद भविष्य की कल्पना करना बेकार: लम्बोरा


नांगल चौधरी (प्रिंस लांबा)।

 

मानव और प्रकृति का निकटतम संबंध रहा है। यह स्पष्ट है कि प्राणी जगत बिना प्रकृति के अपना अस्तित्व खो देगा। अत: हमें स्वयं को सुरक्षित रखने के लिए और पर्यावरण संरक्षण, सन्तुलन हेतु पौधारोपण कर उनकी सुरक्षा करनी होगी। उक्त विचार इनेलो के वरिष्ठ नेता व लम्बोरिया एकेडमी के चेयरमैन हजारी लाल लम्बोरा ने एकेडमी प्रांगण में पौधारोपण करते हुए व्यक्त किए।

पौधारोपण कर बच्चों को संबोधित करते हुए लम्बोरा ने कहा कि मानव अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने के बहाने प्रकृति के दोहन पर उतर आया है, जो रास्ता विनाश की ओर जा रहा है। महानगरों में ही नहीं बल्कि धीरे-धीरे ग्रामीण आंचल में भी वायु प्रदूषण चरम बिंदु की ओर बढ़ रहा है तथा नदियां भी प्रदूषित हो चुकी हैं। इसके बावजूद भी मानव सुखद भविष्य के सपने देख रहा है। अगर वास्तव में ही आने वाला कल सुखद चाहिए तो प्रत्येक मनुष्य को पौधारोपण के लिए आगे आना होगा तभी प्रकृति को बचाया जा सकता है।

उन्होंने बच्चों को पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक करते हुए कहा कि सभी बच्चों को अपने स्कूल, घर, नहर, नालों, पार्कों या अन्य सार्वजनिक जगहों पर पौधारोपण करना चाहिए। उनका नामकरण अपने पूर्वजों, महानपुरूषों, गुरूजनों, परिवार के सदस्यों के नाम से अथवा अपने खुद के नाम से पट्टी लगाकर कर सकते हैं तथा इस पर रोपित की गई तिथि को भी अंकित कर सकते हैं। प्रत्येक बच्चे को तीन पौधे पहला अपने दादा-दादी या माता-पिता के नाम, दूसरा गुरूजनों के नाम तथा तीसरा पौधा अपने वातावरण के नाम पर लगाने चाहिएं। हजारी लाल लम्बोरा ने कहा कि ऐसा करने से केवल प्राकृतिक संतुलन बना रहेगा बल्कि अन्य लोग भी प्रेरणा लेकर पौधारोपण में सहयोग करेंगे।

 


फोटो कैप्शन: एकेडमी प्रांगण में पौधारोण करते हुए स्टॉफ व बच्चे।

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
क्यों करना चाहिए व किसलिए जरूरी है श्राद्ध?
सावधान, क्षेत्र में एक बार फिर चोर गिरोह सक्रिय, दुकान का शटर तोडक़र उड़ाया लाखों का सामान
घरौंडा-कई घंटे की बरसात से फ्लाईओवर पर मिट्टी व सड़क धँसी
नीमा महेंद्रगढ़ ईकाई की नई कार्यकारिणी गठित
अनुठी पहल: अपनी मुहिम के तहत अनेकों गांवों में पौधारोपण अभियान चला किए 500 फलदार पौधे वितरित
छात्र संघ चुनाव को लेकर अभाविप की जिला स्तरीय बैठक आयोजित
राजकीय प्राथमिक पाठशाला ढाणी श्योपुरा में मनाया गया राष्ट्रीय पोषण दिवस
डालनवास के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी की 95 वर्षीय पत्नी मोहरी देवी का निधन
सफीदों में डिटेक्टिव स्टाफ ने सात अवैध हथियारों के साथ यूपी का सप्लायर किया गिरफ्तार
बहुचर्चित रेवाड़ी गैंग रेप मामले में दो मुख्य आरोपी काबू