Monday, January 21, 2019
Follow us on
Punjab

मामला महिला डाक्टर की संदिग्ध मौत का -सुप्रीम कोर्ट से डा.शेखावत की जमानत याचिका रद्द-जाएगें जेल

बठिंडा से परविंदर सिंह | September 14, 2018 01:37 AM
बठिंडा से परविंदर सिंह

मामला महिला डाक्टर की संदिग्ध मौत का

-सुप्रीम कोर्ट से डा.शेखावत की जमानत याचिका रद्द-जाएगें जेल

-नीचली अदालत में याचिका रद्द होने के बाद जारी हुए गिरफतारी वारंट


बठिंडा: स्थानीय बीबी वाला रोड पर स्थित पायोनियर स्कैन सेंटर की संचालिका महिला डा.दीपशिखा की झुलस कर संदिग्ध मौत हो गई थी जिसका आरोप उसके पति डा.शेखावत पर लगा था। तब पुलिस ने आरोपी पति विभिन्न धराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया था। 5 दिसंबर 2017 को पायोनियर स्कैन सेंटर की दुसरी मंजिल पर सो रही दीपशिखा पूरी तरह झुलस गई थी जिसके इलाज के लिए मैक्स अस्पताल में भर्ती करवाया था जहा उसकी मौत हो गई थी। दीपशिखा के परिजनो ने उनकी हत्या का संदेह जाहिर किया और पुलिस को शिकायत दर्ज करवाई तो थाना सिविल लाईन पुलिस ने डा. गजेंद्र शेखावत के विरूद्ध मामला दर्ज लिया था। मामला दर्ज होते ही आरोपी डाक्टर भूमिगत हो गया था तो उसने जिला सेशन कोर्ट में अगले जमानत कि अर्जी दाखिल की 15 दिसंबर को उसकी जमानत याचिका न्यायाधीश द्वारा खारिज कर दी गई थी। नीचली अदालत के फैसले के विरूद्ध डा.शेखावत ने उच्च न्यायलय से 12 फरवरी को अग्रिम जमानत हासिल कर ली थी। उसने अपनी बेगुनाही के कई सबुत इकठ्ठे भी किए और पुलिस को गुमराह करने की कोशिश भी की। पुलिस उसके झांसे में आ गई और सबूतो के अभाव से वह इस मामले को रद्द करना चाहती थी लेकिन इसी दौरान रोयल किंगडम की संचालिका गीता ने खुलासा किया कि वह इस हत्याकांड की चश्मदीद गवाह है जिसे लेकर उसने प्रेमवार्ता भी की थी। डी.जी.पी. पंजाब सुरेश अरोड़ा से मिलकर उसने सच्चाई बताई जिससे इस मामले में एक नया मोड़ आ गया। पुलिस ने इस मामले की कलोजिंग रिर्पोट तैयार करनी शुरू कर दी थी लेकिन डी.जी.पी.के आदेश से सिविल लाईन पुलिस पीछे हट गई। 21अगस्त को अचानक हाईकोर्ट ने डा.शेखावत की जमानत याचिका रद्द कर दी और उसे नीचली अदालत में पेश होने के आदेश जारी किए। गिरफतारी के डर से आरोपी डा.शेखावत भूमिगत हो गया।

डा.शेखावत ने जमानत के लिए सुप्रीम कोर्ट में 4 सितंबर को याचिका दायर की जिसकी सुनवाई 6 सितंबर को शुरू हुई थी। लेकिन माननीय जस्टिस अरूण मिश्रा,माननीय न्यायधीश विनीत सरन की खंडपीठ ने 13 सितंबर को अपने फैसले में उसकी जमानत याचिका यह कहते हुए रद्द कर दी कि नीचली दो अदालतो ने उसकी अग्रिम याचिका पहले ही रद्द कर दी है। इसलिए इसे जमानत नहीं दी जा सकती। स्थानीय न्यालय 10 सितंबर को पेशी दौरान डा.शेखावत हाजिर नहीं हुआ न्यायधीश परसीमीत रिशी की अदालत ने डा.शेखावत गैर जमानती वारंट जारी कर 28 सितंबर को पेश करने को पुलिस को आदेश दिए।

क्या कहते है थाना प्रभारी

थाना सिविल लाईन प्रभारी इंस्पैक्टर रछपाल सिंह ने बताया कि आरोपी डा.शेखावत जिसके विरूद्ध अपनी पत्नी को आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज है। वह अभी फरार है पुलिस उसकी गिरफतारी के लिए अनेको बार छापामारी कर चुकी है। उन्होंने बताया कि सुप्रिम कोर्ट से जमानत रद्द होने का सीधा मतलब है कि उसे हर हालत में जेल जाना होगा। उन्होंने कहा कि कितनी देर और भाग लेगा आखिर उसका पकड़ा जाना तय है बेशक वह न्यायलय में आत्मसमर्पण कर ले तभी उसे जेल जाना पड़ेगा।

Have something to say? Post your comment
More Punjab News
दुष्कर्म पीडिता ने बठिंडा थाना प्रभारी पर लगाए आरोप ,कह रहा है पैसे लेकर केस दफा करो
नाबालिगों को शराब पिलाने वाले होटल में पुलिस ने की छापामरी
गुंडागर्दी का नंगा नाच, पत्रकार को घेर कर डेढ दर्जन हमलवारों ने पीटा…
अकाली दल को छोड कर गए चार पार्षद अपने साथियों समेत मनप्रीत बादल की हाजरी में होगें कांग्रेस में शामिल
आठ पुलिस वालों समेत नौ पर केस दर्ज करने के दिए आदेश पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने
बठिंडा कांग्रेस ब्लाक अध्यक्ष के घर पर हरियाणा पुलिस की छापामरी
जीरकपुर की अवैध मंडी में आग से दिनभर राख में उम्मीद ढूंढते रहे सभी दुकानदार
जीरकपुर : कांग्रेस जिला उपप्रधान की फिर बढ़ी मुश्किलें,महिला से बदतमीजी और हाथापाई करने का आरोप
बठिंडा में सुनवाई न होने पर गुस्साए लोगों ने पुलिस चौकी के आगे लगाया धरना
बठिंडा-विवाहता ने लगाया एसजीपीसी के तीन कर्मीयों पर दुष्कर्म का आरोप