Friday, January 18, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
सामाजिक सस्थाओं के कार्यो से प्रभावित होकर कनाडा मे रह रहे सहरावत ने बच्चो को वितरित किये वस्त्र।घरौंडा में अविश्वास प्रस्ताव के 15 दिन बाद आज पत्रकारों के समक्ष रूबरू हुए नगरपालिका प्रधान। कमीशनखोरी के चक्कर में टैंडर के बावजूद भी शुरू नही हो रहे काम तरावड़ी मेंकन्या जन्म पर नांगलमाला में किया गया कुआं पूजन कार्यक्रम का आयोजनसमाजसेवी व पत्रकार प्रिंस लाम्बा ने गौशाला में सवामणी लगा मनाया अपना 16वां जन्मदिनभूपेंद्र हुड्डा जींद के चुनावी मैदान में दिखे सुरजेवाला के साथ ,चुनाव प्रचार भी किया तरावड़ी में सप्ताह में घटी चौथी चोरी की वारदात, पुलिस नाकामअमेठीः खेममऊ ग्रामसभा में समाजवादी कार्यकर्ताओं ने लगाया चौपाल
Rajasthan

सीएचसी तिजारा कब होगी समस्याओं से मुक्त जनरेटर है मगर डीजल नहीं, मरीज हैं मगर डाॅक्टर नहीं

अटल हिन्द ब्यूरो | October 21, 2018 07:33 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

सीएचसी तिजारा कब होगी समस्याओं से मुक्त
जनरेटर है मगर डीजल नहीं, मरीज हैं मगर डाॅक्टर नहीं
आधी-अधूरी सफाई लगा रही पीएम के स्वच्छ भारत अभियान पर दाग
महिला विषेषज्ञ व नेत्र रोग विषेषज्ञ नहीं, बाहर से इलाज कराते है मरीज
लोगों को आरोप: खांसी की दवा तक उपलब्ध नहीं


धनेष विद्यार्थी, अलवर, राजस्थान:

जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तिजारा इन दिनों कई प्रकार की समस्यों को झेल रहा है। विधानसभा चुनाव को लेकर आचार संहिता लागू होने के बाद मरीजों को काफी समस्याएं झेलनी पड़ रही हैं मगर इनका अंत कब होगा, कोई नहीं जानता। यह केंद्र कई समस्याएं विभाग के लिए बीमारियां बन गई हैं, जिन्हें अब इलाज की सख्त जरूरत है मगर ऐसा करने वाला कोई नहीं।
इस सीएचसी में जहां मरीज हैं मगर पर्याप्त चिकित्सक नहीं। एक माह से यहां तैनात चिकित्सकों एवं कर्मचारियों को वेतन तक नहीं मिल रहा। इसकी वजह किसी भी चिकित्सक के पास डीडी पावर नहीं। यहां मरीजों की सुविधा के लिए सरकार ने जनरेटर उपलब्ध कराया हुआ है मगर बिजली गुल हो जाने के बाद यह जनरेटर सफेद हाथी बन जाता है। विभागीय चिकित्सकों के पास इस चलाने के लिए डीजल खरीदने का पैसा नहीं है। अब यह स्थिति मरीजों को लगातार परेषान कर रही है। प्रसूती वार्ड में गर्भवती महिलाओं के बैड पर साफ चादर उपलब्ध नहीं। शनिवार को यहां कई बैड पर चादर और दो-तीन चिकित्सक अपनी डयूटी से गायब मिले।
अस्पताल परिसर में डस्टबिन गंदगी से भरे थे और आधी-अधूरी का नजारा साफ दिख रहा था। अस्पताल के बरामदे में कर्मचारियों ने अपनी बाइक खड़ी की हुई थी। शनिवार की दोपहर तक बिजली गुल होने की वजह अधिकांष कमरों में बत्ती गुल रही। स्वास्थ्य केंद्र की समस्याओं को लेकर चिकित्सक और कर्मचारी दबी जुबान में काफी कुछ बातें कह रहे हैं। सीएचसी तिजारा के प्रभारी की नियुक्ति अथवा किसी चिकित्सक को डीडी पावर नहीं मिलने की वजह से यहां अपने मियां घर नहीं, हमें किसी का डर नहीं, कहावत सही साबित हो रही है।
इस स्वास्थ्य केंद्र में मंजूरषुदा पदो ंके मुताबिक चिकित्सक तैनात नहीं होने की वजह से यहां मरीजों को अपना इलाज कराने में भी परेषानी हो रही है। महिला चिकित्सक नहीं होने की वजह से महिला मरीजों, नेत्र विषेषज्ञ नहीं होने की वजह नेत्र रोगियों को खास तौर पर परेषानी है। चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद यहां चिकित्सकों की नियुक्ति और डीडी पावर के आदेष जारी करने का काम रूका हुआ है। इस संबंध में सीएचसी तिजारा की ओर से आधा दर्जन बार स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से पत्र व्यवहार करके उनसे डीडी पावर आवंटित करने के आग्रह किया गया मगर अब तक परिणाम षून्य रहा है।
उक्त केंद्र के कार्यवाहक चिकित्सा अधिकारी डाॅ. वीर सिंह ने बताया कि मरीजों का इलाज करना चिकित्सकों का पहला कर्तव्य है और उसे सभी चिकित्सक निभा रहे हैं। चिकित्सकों की कमी दूर करना सरकार का काम है। सरकार की ओर से उपलब्ध दवाएं मरीजों को बांटी जा रही है। जनरेटर को चलाने के लिए डीजल के लिए पैसा उपलब्ध कराए जाने के लिए सरकार को लिखित आग्रह किया गया है। जैसे ही बजट आएगा, यह समस्या दूर हो जाएगी। सफाई व्यवस्था पहले से सुधरी है। अस्पताल परिसर में कुछ समय पूर्व तक वाहन चोरी की समस्या होती थी मगर पुलिस को षिकायत करने के बाद इसका समाधान हुआ है। इसके बावजूद कुछ कर्मचारी ऐसी वारदात होने के डर से अपनी बाइकें बरामदें में खड़ा करते हैं, उनको विभागीय तौर पर ऐसा नहीं करने की हिदायत दी जाएगी।
8 माह से खराब है एक्सरे-मषीन
उक्त केंद्र के कार्यवाहक चिकित्सा अधिकारी डाॅ. वीर सिंह ने साफ तौर पर कहा कि एक्सरे मषीन खराब होने की लिखित जानकारी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को काफी समय पहले दी गई थी। उसके बाद मषीन ठीक करने के लिए आए व्यक्ति ने इसे नाॅ रिपेयरएबल होने की रिपोर्ट दी, जोकि विभाग के उच्च अधिकारियों को भिजवा दी गई है। नई मषीन आने पर लोगों को एक्सरे की सुविधा मिल पाएगी। डीडी पावर उपलब्ध कराने का निर्णय उच्च अधिकारी करेंगे और चुनाव की वजह से यह मामला अटका हुआ है।

Have something to say? Post your comment
More Rajasthan News
4 बेटियों का पिता जो पिछले 8 वर्ष से जकड़ा हुआ जंजीरों में
बाड़मेर-लोन का झांसा देकर रुपये एठने वाले वाले व्यक्ति को नही ढूंढ पा रही सदर पुलिस
मुख्यमंत्री पद अब लगाने लगा राजस्थान के अमन को आग सचिन पायलट को सीएम बनाने के पक्ष में रोड जाम
आप जिताएंगे तब आगे मंत्री पद की बात है: डाॅ. कर्ण सिंह
राजस्थान रोडवेज की बस ने 6 साल की बालिका को कुचला, मौत
पूर्व डीएसपी ने की गलती, मिली मौत
अलवर जिला: 11 सीटें पर अब 145 उम्मीदवार मैदान भाजपा ने बागियों को सब्जबाग दिखा बहलाया
अलवर जिला: सीट 11, 8 सीटों पर बागी उम्मीदवार बिगाड़ेगा कांग्रेस-भाजपा का चुनावी गणित
राजस्थान विधानसभा चुनाव -भाजपा सांसद व विधायक चुनावी टिकट नहीं मिलने से हुए बागी
चुनाव विषेष -रामगढ विधायक पर दो नंबर का पैसा लेने का आरोप