Tuesday, March 26, 2019
BREAKING NEWS
लव-अफेयर गाने का केस बना विवाद , कार्रवाई कैसे हो, पुलिस को धारा नहीं पतामनोहर की चुनावी गूंज, पानीपत की धरती में इस तरह हुआ स्वागतपार्टी उम्मीदवार की मृत्यु के बाद अगर नामांकन वापिस नहीं लिया जाता तो मतदान की प्रक्रिया स्थगित कर दी जाएगी।हरियाणा विधानसभा में नेता विपक्ष को लेकर कांग्रेस में गुटबंदी , किरण व कुलदीप सहित कई दावेदारगांव झुम्पा कलां का है मामला, ग्रामीणों का मर चुका जमीरवैश्य समाज ने फरीदाबाद से भी माँगी भाजपा की टिकटसीएम बनाओगे तो लडूंगा चुनाव -बीरेंद्र फरीदाबाद औषधि नियंत्रण विभाग ने छापा मारकर अवैध मेडिकल स्टोर का पर्दाफाश किया नोटबंदी और जी.एस.टी. ने देश की अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ी : अजादकरनाल मेरठ रोड पर दर्दनाक सड़क हादसा,2 की मौत

Rajasthan

मेरा-तुम्हारा एक खून, मैं तुम्हारा भाई हूं, मुझे एक मौका दो: फजल हुसैन

October 21, 2018 07:49 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

मेरा-तुम्हारा एक खून, मैं तुम्हारा भाई हूं, मुझे एक मौका दो: फजल हुसैन


गांव जारौली में ग्रामीणों की सभा को किया संबोधित


धनेष विद्यार्थी, अलवर, राजस्थान:

राजस्थान विधानसभा के तिजारा क्षेत्र से कांग्रेस टिकट के प्रबल दावेदार फजल हुसैन, जोकि हरियाणा के नूंह जिले के प्रसिद्ध मेव दिग्गज यासीन-तैयब परिवार से ताल्लुक रखते हैं, ने रविवार को अलवर जिले के तिजारा विधानसभा क्षेत्र के गांव जारोली पहुंचे। यहां ग्रामीणों ने बस अडडे के पास एक सभा में फूलमालाओं से स्वागत किया। फजल हुसैन ने कहा कि उन्होंने वरिष्ठ कांग्रेस नेता भंवर जितेंद्र सिंह के कहने पर कांग्रेस का दामन थामा और अब तिजारा विधानसभा क्षेत्र से पार्टी टिकट मांग रहे हैं। उन्होंने कहा कि वैसे तो जनता का टिकट सबसे बड़ा होता है मगर भंवर जितेंद्र पर उन्हें पूरा भरोसा है। फजल ने अपने बाप-दादा की नसीहत को मेव बिरादरी के लोगों के सामने पेष करके उनके कामों के आधार पर उन्हें विधानसभा चुनाव में वोट देने की अपील की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि मेरा आपसे खून का रिष्ता है। मेरा-आपका खून एक है, इसलिए आपको मेरा साथ देना चाहिए। उन्होंने कहा कि गलती हर आदमी से होती है, अपने को ही गले लगाया जाता है। विधानसभा चुनाव आने वाला है।
उन्होंने कहा कि मैं आपका भाई हूं, आप मुझे एक बार परख कर देखें। चुनाव तो पांच साल में जरूर आता है। अगर आपको मैं ठीक ना लगूं तो मुझे कह देना कि फजल अपने घर चला जा, मैं चला जाउंगा। भाजपा सरकार के विकास के कामों और विधायक की कार्यषैली पर भी उन्होंने तीखे सवाल उठाए। पीएम नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के निर्णय की आलोचना करते हुए फजल हुसैन ने इसे महिलाओं की पिटाई की वजह तक बता डाला। उन्होंने कहा कि एक रात अचानक नोट बंद करने की घोषणा से पहले जब किसी घर में पति ने अपनी पत्नी से रूपए मांगे तो वह कहने लगी कि घर में सब्जी खरीदने के लिए भी पैसे नहीं हैं मगर दूसरे दिन नोटबंदी के बाद उसने पैसे निकाल दिए तो पति ने उसे पीट डाला।
कार्यक्रम के बाद में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने भाजपा विधायक मामन सिंह का नाम लिए बगैर वसुंधरा राजे सरकार में हुए कामों की जमकर खिलाफत की। उन्होंने कहा कि इस इलाके के बच्चों को रोजगार नहीं मिला। इन्हें आईकार्ड देखकर बाहर से ही भगा दिया जाता है। भिवाड़ी सबसे अधिक राजस्व देता है मगर हमारे बच्चों को रोजगार नहीं मिला। षिक्षा क्षेत्र में लड़कियों की संख्या घटी है। स्वास्थ्य सेवाएं बद से बदतर हुई हैं। पोलटेक्निक या आईटीआई नहीं खुले। लड़कियों को पढने के लिए कहां भेजे, आप हालात से वाकिफ हैं। रोड का हाल आप देख सकते हैं। अस्पतालों में एक्सरे मषीन नहीं, सोनोग्राफी मषीन नहीं। आज गरीबी इतनी है कि लोगों के लिए पेट पालना मुष्किल हो गया है। डिवल्पमेंट नाम की कोई चीज नहीं।
बाॅक्स
जारौली के मेव समुदाय से संबंधित ग्रामीणों ने आरोप लगाया किस सभा में बाहरी लोगों को बुलवाया गया था। उनके गांव ने एक सहमति के साथ विधायक एवं पूर्व मंत्री धुरू मियां के विकास कार्याें पर मुहर लगाई है। आने वाले विधानसभा में कांग्रेस पार्टी का जो उम्मीदवार होगा, उसे ही अपना वोट देंगे। अहम बात यह है कि इस गांव में मेव, अनुसूचित जाति, यादव एवं अन्य समाज के लोग रहते हैं। चूंकि तिजारा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक मामन सिंह यादव से इस बार लोग खफा हैं, इसलिए भाजपा के खिलाफ बगावत हो रही है। उधर बसपा टिकट पर पिछले विधानसभा चुनाव में किस्मत आजमाने उतरे होषियार सिंह से लोगों को कोई नाराजगी नहीं। कांग्रेस ने पिछली बार फजल हुसैन को चुनाव मैदान में उतारा था और वे दूसरे नंबर पर रहे थे और इस बार कांग्रेस टिकट के लिए कई चेहरों ने अपना पासा फैंका है। मेव नेता अब्दुल फजल हुसैन भंवर जितेंद्र सिंह के विष्वास पर चुनावी दंगल में उतरे हैं और उन्हें पूरा विष्वास है कि भंवर अपने वायदे के मुताबिक उन्हें चुनावी वैतरिणी पार कराएंगे और टिकट दिलाने में भी उनकी हाईकमान के पास पैरवी करेंगे। फिलहाल फजल हुसैन के प्रति जारौली के ग्रामीणों की नाराजगी और इस सभा के आयोजन के बाद मतदान के दिन यानी 7 दिसंबर तक उंट किस करवट बैठेगा, यह आने वाला वक्त बताएगा !

Have something to say? Post your comment

More in Rajasthan

लोकसभा आम चुनाव 2019 प्रति उम्मीदवार अधिकतम 70 लाख की राशि खर्च कर सकेंगे

राजस्थान -पीएम किसान सम्मान निधि योजना की हुई शुरूआत

हत्या के मुकदमे में मुझे साजिशन नाजायज फंसाया: अकबर खान

केन्द्रीय मंत्री निहालचंद, पूर्व मंत्री जोगेश्वर गर्ग सहित 17 को हाईकोर्ट का नोटिस

युवक को पेड़ से बांधकर जमकर पिटाई की

निर्माण विकास कार्यों की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देवेंः- शिक्षा राज्यमंत्री

जिला न्यायाधीश ने किया जेल का निरीक्षण

सरजूदास महाराज बने अखिल भारतीय संत समिति के प्रदेशाध्यक्ष

शादी समारोह से लौटते वक्त कार और वैन में भिड़ंत, 12 लोगों की मौत

सम्भांग स्तरीय बैठक एक फरवरी को बीकानेर में