Friday, January 18, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
घरौंडा में अविश्वास प्रस्ताव के 15 दिन बाद आज पत्रकारों के समक्ष रूबरू हुए नगरपालिका प्रधान। कमीशनखोरी के चक्कर में टैंडर के बावजूद भी शुरू नही हो रहे काम तरावड़ी मेंकन्या जन्म पर नांगलमाला में किया गया कुआं पूजन कार्यक्रम का आयोजनसमाजसेवी व पत्रकार प्रिंस लाम्बा ने गौशाला में सवामणी लगा मनाया अपना 16वां जन्मदिनभूपेंद्र हुड्डा जींद के चुनावी मैदान में दिखे सुरजेवाला के साथ ,चुनाव प्रचार भी किया तरावड़ी में सप्ताह में घटी चौथी चोरी की वारदात, पुलिस नाकामअमेठीः खेममऊ ग्रामसभा में समाजवादी कार्यकर्ताओं ने लगाया चौपालघरौंडा -असन्तुष्ट 7 पार्षद आज एसडीएम घरौंडा से आगामी कारवाही के लिए मिले।
Rajasthan

मेरा-तुम्हारा एक खून, मैं तुम्हारा भाई हूं, मुझे एक मौका दो: फजल हुसैन

अटल हिन्द ब्यूरो | October 21, 2018 07:49 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

मेरा-तुम्हारा एक खून, मैं तुम्हारा भाई हूं, मुझे एक मौका दो: फजल हुसैन


गांव जारौली में ग्रामीणों की सभा को किया संबोधित


धनेष विद्यार्थी, अलवर, राजस्थान:

राजस्थान विधानसभा के तिजारा क्षेत्र से कांग्रेस टिकट के प्रबल दावेदार फजल हुसैन, जोकि हरियाणा के नूंह जिले के प्रसिद्ध मेव दिग्गज यासीन-तैयब परिवार से ताल्लुक रखते हैं, ने रविवार को अलवर जिले के तिजारा विधानसभा क्षेत्र के गांव जारोली पहुंचे। यहां ग्रामीणों ने बस अडडे के पास एक सभा में फूलमालाओं से स्वागत किया। फजल हुसैन ने कहा कि उन्होंने वरिष्ठ कांग्रेस नेता भंवर जितेंद्र सिंह के कहने पर कांग्रेस का दामन थामा और अब तिजारा विधानसभा क्षेत्र से पार्टी टिकट मांग रहे हैं। उन्होंने कहा कि वैसे तो जनता का टिकट सबसे बड़ा होता है मगर भंवर जितेंद्र पर उन्हें पूरा भरोसा है। फजल ने अपने बाप-दादा की नसीहत को मेव बिरादरी के लोगों के सामने पेष करके उनके कामों के आधार पर उन्हें विधानसभा चुनाव में वोट देने की अपील की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि मेरा आपसे खून का रिष्ता है। मेरा-आपका खून एक है, इसलिए आपको मेरा साथ देना चाहिए। उन्होंने कहा कि गलती हर आदमी से होती है, अपने को ही गले लगाया जाता है। विधानसभा चुनाव आने वाला है।
उन्होंने कहा कि मैं आपका भाई हूं, आप मुझे एक बार परख कर देखें। चुनाव तो पांच साल में जरूर आता है। अगर आपको मैं ठीक ना लगूं तो मुझे कह देना कि फजल अपने घर चला जा, मैं चला जाउंगा। भाजपा सरकार के विकास के कामों और विधायक की कार्यषैली पर भी उन्होंने तीखे सवाल उठाए। पीएम नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के निर्णय की आलोचना करते हुए फजल हुसैन ने इसे महिलाओं की पिटाई की वजह तक बता डाला। उन्होंने कहा कि एक रात अचानक नोट बंद करने की घोषणा से पहले जब किसी घर में पति ने अपनी पत्नी से रूपए मांगे तो वह कहने लगी कि घर में सब्जी खरीदने के लिए भी पैसे नहीं हैं मगर दूसरे दिन नोटबंदी के बाद उसने पैसे निकाल दिए तो पति ने उसे पीट डाला।
कार्यक्रम के बाद में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने भाजपा विधायक मामन सिंह का नाम लिए बगैर वसुंधरा राजे सरकार में हुए कामों की जमकर खिलाफत की। उन्होंने कहा कि इस इलाके के बच्चों को रोजगार नहीं मिला। इन्हें आईकार्ड देखकर बाहर से ही भगा दिया जाता है। भिवाड़ी सबसे अधिक राजस्व देता है मगर हमारे बच्चों को रोजगार नहीं मिला। षिक्षा क्षेत्र में लड़कियों की संख्या घटी है। स्वास्थ्य सेवाएं बद से बदतर हुई हैं। पोलटेक्निक या आईटीआई नहीं खुले। लड़कियों को पढने के लिए कहां भेजे, आप हालात से वाकिफ हैं। रोड का हाल आप देख सकते हैं। अस्पतालों में एक्सरे मषीन नहीं, सोनोग्राफी मषीन नहीं। आज गरीबी इतनी है कि लोगों के लिए पेट पालना मुष्किल हो गया है। डिवल्पमेंट नाम की कोई चीज नहीं।
बाॅक्स
जारौली के मेव समुदाय से संबंधित ग्रामीणों ने आरोप लगाया किस सभा में बाहरी लोगों को बुलवाया गया था। उनके गांव ने एक सहमति के साथ विधायक एवं पूर्व मंत्री धुरू मियां के विकास कार्याें पर मुहर लगाई है। आने वाले विधानसभा में कांग्रेस पार्टी का जो उम्मीदवार होगा, उसे ही अपना वोट देंगे। अहम बात यह है कि इस गांव में मेव, अनुसूचित जाति, यादव एवं अन्य समाज के लोग रहते हैं। चूंकि तिजारा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक मामन सिंह यादव से इस बार लोग खफा हैं, इसलिए भाजपा के खिलाफ बगावत हो रही है। उधर बसपा टिकट पर पिछले विधानसभा चुनाव में किस्मत आजमाने उतरे होषियार सिंह से लोगों को कोई नाराजगी नहीं। कांग्रेस ने पिछली बार फजल हुसैन को चुनाव मैदान में उतारा था और वे दूसरे नंबर पर रहे थे और इस बार कांग्रेस टिकट के लिए कई चेहरों ने अपना पासा फैंका है। मेव नेता अब्दुल फजल हुसैन भंवर जितेंद्र सिंह के विष्वास पर चुनावी दंगल में उतरे हैं और उन्हें पूरा विष्वास है कि भंवर अपने वायदे के मुताबिक उन्हें चुनावी वैतरिणी पार कराएंगे और टिकट दिलाने में भी उनकी हाईकमान के पास पैरवी करेंगे। फिलहाल फजल हुसैन के प्रति जारौली के ग्रामीणों की नाराजगी और इस सभा के आयोजन के बाद मतदान के दिन यानी 7 दिसंबर तक उंट किस करवट बैठेगा, यह आने वाला वक्त बताएगा !

Have something to say? Post your comment
More Rajasthan News
4 बेटियों का पिता जो पिछले 8 वर्ष से जकड़ा हुआ जंजीरों में
बाड़मेर-लोन का झांसा देकर रुपये एठने वाले वाले व्यक्ति को नही ढूंढ पा रही सदर पुलिस
मुख्यमंत्री पद अब लगाने लगा राजस्थान के अमन को आग सचिन पायलट को सीएम बनाने के पक्ष में रोड जाम
आप जिताएंगे तब आगे मंत्री पद की बात है: डाॅ. कर्ण सिंह
राजस्थान रोडवेज की बस ने 6 साल की बालिका को कुचला, मौत
पूर्व डीएसपी ने की गलती, मिली मौत
अलवर जिला: 11 सीटें पर अब 145 उम्मीदवार मैदान भाजपा ने बागियों को सब्जबाग दिखा बहलाया
अलवर जिला: सीट 11, 8 सीटों पर बागी उम्मीदवार बिगाड़ेगा कांग्रेस-भाजपा का चुनावी गणित
राजस्थान विधानसभा चुनाव -भाजपा सांसद व विधायक चुनावी टिकट नहीं मिलने से हुए बागी
चुनाव विषेष -रामगढ विधायक पर दो नंबर का पैसा लेने का आरोप