Tuesday, January 22, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
महागठबंधन.राजनैतिक दलों का देश हित चुनाव जीत कर सत्ता हासिल करने तक ही सीमित है?गोण्डा जिले के पसका मेला में सट्टेबाज व जुआरियों की रही चांदी, पुलिस प्रशासन मौन।पीएम मोदी से लोग नाराज होते तो महागठबंधन की जरुरत क्यों पड़तीः अरुण जेटलीपैरोल रद्द होने से भड़के ओ पी चौटाला ,कहा दिग्विजय ने पीठ में घोंपा छुरा बर्तन साफ कर रही महिला को गंडासे से काटकर निर्मम हत्या शहरी मतदाताओं की जुबान खुलती है बस इतनी...सारे बढिय़ा, माड़ा तो कोई नहीं कहीं भाजपा सरकार की नौटंकी तो नहीं है आईएमटी!जिला निर्वाचन अधिकारी अमेठी ने आगामी लोकसभा निर्वाचन को लेकर किया समीक्षा बैठक, अधिकारियों को दिया आवश्यक दिशा निर्देश
Literature

बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है: अचल मुनि 2

अटल हिन्द ब्यूरो | October 28, 2018 04:17 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है: अचल मुनि 2
कहा: बीते हुए कल की ज्यादा चर्चा न करें बुजुर्ग तो रहेंगे सुखी


उचाना।


एसएस जैन द्वारा स्थानक में बुजुर्ग दिवस मनाया गया। गुरू अचल ने श्रद्धालुओं को फरमाते हुए कहा कि जिसमें धैर्य, स्थैर्य, सत्य, वैराग्य ही औरों को भी जो स्थिर कर सकें उसे वृद्ध कहते है। एक वृद्ध भगवान के चरणों में गया बोला कि क्या मेरा भी कल्याण हो सकता? तब भगवान ने कहा हॉं पर चार चीजें हो। खाने में तप हो, संयम हो, बोलने में तप हो, विवेक हो, सहनशीलता व क्षमा भाव हो, ब्रह्मचार्य भाव हो। वृद्ध कौन होता है ? जो भूतकाल में जीता है। हम ये थे, हम वो थे, वो वृद्ध होते है। बुढ़ापे में हममें रस आना चाहिए। जीवन में मिठास हो, कड़वाहट ना हो। अफसोस जैसे-जैसे अवस्था बढ़ रही है मानसिक व शारीरिक दुख भी बढ़ रहा है। बुजुर्ग आज अकेलापन महसूस कर रहे है तनाव ग्रस्त हो रहे है। बुजुर्ग का शाब्दिक अर्थ है बु-अहं की गंध न हो, जु- जुबान गंदी न हो, र-मण करे आत्मा में, ग- गंदा व्यवहार न हो। बुढ़ापा सुखमय किसका होता है ? जिन्होंने जवानी के जोश में होश नहीं खोया, आजादी की उमंग में मर्यादा को नहीं तोड़ा, जिन्होंने जवानी को अच्छे ढंग से जीया उनका बुढ़ापा पके हुए आम की तरह मीठा होता है।
जैन संत ने कहा कि बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है। जो जवानी में अंधे होकर दौड़ते रहे उनका बुढ़ापा बूढ़े बैल की तरह पीड़ाओं से भरा होता है। हमारे बुजुर्गों को भी कुछ बातों को ध्यान रखना चाहिए। यदि कोई मिलने के लिए आए तो उनकी मर्जी के विरोध अधिक बैठने को मजबूर न करें, फालतू की बातों में दिलचस्पी न रखे, कोई फालतू ढींग न हांके, बीते समय की अधिक चर्चा न करें, एक ही बात बार-बार न रटे, जबान पर नियंत्रण रखे खाने में भी बोलने में भी, ज्यादा न बोले व अशब्द न बोले, घर की बातें इधर-उधर न कहें, घर के सदस्य की बुराई न करें जो बुजुर्ग इन बातों को का ध्यान नहीं रखते उन्हें रोना ही पड़ता है।
उन्होंने कहा कि कुछ इंसान ऐसे भी होते है जिन्हें रोना नहीं पड़ता। कौन नहीं रोता ? जिसकी आत्मा जागृत होती है। महापुरूष कभी रोते नहीं है। प्रभु राम, भगवान महावीर, श्रीकृष्ण पर कितने ही कष्ट आये हो पर वो कभी रोये नहीं। विचार पूर्वक कार्य करने वाले को कभी रोना नहीं पड़ता। अल्प इच्छा रखने वाले को भी कभी रोना नहीं पड़ता। जो अपने आपने को बुराई से रोकता है, जो बड़ों को सम्मान करता है, जो वक्त पडऩे पर सहयोग देता है, जो भगवान पर भरोसा व दृढ़ विश्वास रखता है, जिसे कर्म सिद्धांत पर विश्वास है व उसका ज्ञान है वो भी कभी रोता नहीं है। शीतल मुनि महाराज, अतिशत मुनि ने भी श्रद्धालुओं को संबोधित किया।

Have something to say? Post your comment
More Literature News
मदहोश होकर लोग हुए आउट आफ कंट्रोल हरिनाम संकीर्तन में
अबकि बार मकर संक्रांति पर्व 14 जनवरी नहीं बल्कि 15 जनवरी को ही मान्य - पं. रामकिशन
सांई के जीवन से साधारण इंसान को अच्छा मनुष्य बनने में प्रेरणा मिलती है : सुमित पोंदा
कैथल में पूजा अर्चना के साथ हुआ श्री साई अमृत कथा का शुभारंभ
बोले सो निहाल-सत श्री अकाल धर्म हेत साका जिन किया, शीश दीया पर सिर न दिया
हजरत इलाही बू अली शाह कलंदर साहिब की दरगाह पर इन्द्री में चल रहें सालाना उर्स मुबारक व भंडारे पर आज एक विशेष शोभा-यात्रा
पूर्वाचलियों को छठ पूजा की बधाई देने आधा दर्जन स्थानों पर पहुंचे मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार
15 नवंबर को मनाया जाएगा शाह कलंदर का सालाना उर्स
5 नवंबर से दीवाली के पंच पर्व आरंभ
सोनीपत-बाबा जिन्दा मेले में हजारों भक्तों ने माथा टेका