Monday, March 18, 2019
BREAKING NEWS
कर्मगढ़ गांव में शहीद रमेश कुमार लाइब्रेरी का उद्घाटन शिक्षा ही सबसे बड़ा धन-रामनिवास सुरजाखेड़ा हरियाणा में 10 लोकसभा सीटों पर खिलेगा कमल-कृष्ण बेदीकाग्रेस नेत्री विद्या रानी दनोदा ने किए गांवों के दौरे ेदेश व प्रदेश में काग्रेस लहराएगी परचम-विद्या रानी दनोदा क्षमता से अधिक भंडारण पाए जाने पर राजस्व बिभाग की टीम ने की कार्यवाहीदेश में 53 जवान शहीद हो गए और बीजेपी सरकार उनकी शहादत पर गौरव यात्रा निकल रही है, जोकि बड़ी ही निंदनीय बात है-दुष्यंत चौटालालोकसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी पूरी तरह तैयार: गौरव गोयलगेस्ट टीचरों के 58 साल तक स्थायीत्व व छह माह में महंगाई भत्ता देने की मांग को सरकार ने गंभीरता से लिया है।पिता अपने दोनों बच्चों समेत ट्रेन के आगे कूदा, पिता-पुत्र की मौतलुहारी गांव में 109 परिवारों ने जताई भाजपा में आस्था, मोदी को बताया सशक्त प्रधानमंत्रीचप्पे-चप्पे पर चप्पल की चर्चा: दुष्यंत चौटाला

Literature

बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है: अचल मुनि 2

October 28, 2018 04:17 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है: अचल मुनि 2
कहा: बीते हुए कल की ज्यादा चर्चा न करें बुजुर्ग तो रहेंगे सुखी


उचाना।


एसएस जैन द्वारा स्थानक में बुजुर्ग दिवस मनाया गया। गुरू अचल ने श्रद्धालुओं को फरमाते हुए कहा कि जिसमें धैर्य, स्थैर्य, सत्य, वैराग्य ही औरों को भी जो स्थिर कर सकें उसे वृद्ध कहते है। एक वृद्ध भगवान के चरणों में गया बोला कि क्या मेरा भी कल्याण हो सकता? तब भगवान ने कहा हॉं पर चार चीजें हो। खाने में तप हो, संयम हो, बोलने में तप हो, विवेक हो, सहनशीलता व क्षमा भाव हो, ब्रह्मचार्य भाव हो। वृद्ध कौन होता है ? जो भूतकाल में जीता है। हम ये थे, हम वो थे, वो वृद्ध होते है। बुढ़ापे में हममें रस आना चाहिए। जीवन में मिठास हो, कड़वाहट ना हो। अफसोस जैसे-जैसे अवस्था बढ़ रही है मानसिक व शारीरिक दुख भी बढ़ रहा है। बुजुर्ग आज अकेलापन महसूस कर रहे है तनाव ग्रस्त हो रहे है। बुजुर्ग का शाब्दिक अर्थ है बु-अहं की गंध न हो, जु- जुबान गंदी न हो, र-मण करे आत्मा में, ग- गंदा व्यवहार न हो। बुढ़ापा सुखमय किसका होता है ? जिन्होंने जवानी के जोश में होश नहीं खोया, आजादी की उमंग में मर्यादा को नहीं तोड़ा, जिन्होंने जवानी को अच्छे ढंग से जीया उनका बुढ़ापा पके हुए आम की तरह मीठा होता है।
जैन संत ने कहा कि बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है। जो जवानी में अंधे होकर दौड़ते रहे उनका बुढ़ापा बूढ़े बैल की तरह पीड़ाओं से भरा होता है। हमारे बुजुर्गों को भी कुछ बातों को ध्यान रखना चाहिए। यदि कोई मिलने के लिए आए तो उनकी मर्जी के विरोध अधिक बैठने को मजबूर न करें, फालतू की बातों में दिलचस्पी न रखे, कोई फालतू ढींग न हांके, बीते समय की अधिक चर्चा न करें, एक ही बात बार-बार न रटे, जबान पर नियंत्रण रखे खाने में भी बोलने में भी, ज्यादा न बोले व अशब्द न बोले, घर की बातें इधर-उधर न कहें, घर के सदस्य की बुराई न करें जो बुजुर्ग इन बातों को का ध्यान नहीं रखते उन्हें रोना ही पड़ता है।
उन्होंने कहा कि कुछ इंसान ऐसे भी होते है जिन्हें रोना नहीं पड़ता। कौन नहीं रोता ? जिसकी आत्मा जागृत होती है। महापुरूष कभी रोते नहीं है। प्रभु राम, भगवान महावीर, श्रीकृष्ण पर कितने ही कष्ट आये हो पर वो कभी रोये नहीं। विचार पूर्वक कार्य करने वाले को कभी रोना नहीं पड़ता। अल्प इच्छा रखने वाले को भी कभी रोना नहीं पड़ता। जो अपने आपने को बुराई से रोकता है, जो बड़ों को सम्मान करता है, जो वक्त पडऩे पर सहयोग देता है, जो भगवान पर भरोसा व दृढ़ विश्वास रखता है, जिसे कर्म सिद्धांत पर विश्वास है व उसका ज्ञान है वो भी कभी रोता नहीं है। शीतल मुनि महाराज, अतिशत मुनि ने भी श्रद्धालुओं को संबोधित किया।

Have something to say? Post your comment

More in Literature

होली आई रे .... होलिका दहन, 20 मार्च की रात्रि 9 बजे के बाद, रंग वाली होली 21 को।

गुरू मां सम्मेलन में मिलती है अनोखी अलौकिक शक्तियां : सुरेंद्र पंवार

खाटू श्याम में बाबा का मेला शुरू, श्याममय हुआ समूचा क्षेत्र, प्रतिदिन गुजरने लगे है श्याम प्रेमियों के जत्थे

शीश के दानी का सारे जग में डंका बाजे ने देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी एक अलग पहचान बनाई - लखबीर सिंह लख्खा

श्रीमद् भागवत कथा का प्रारंभ आज

मदहोश होकर लोग हुए आउट आफ कंट्रोल हरिनाम संकीर्तन में

अबकि बार मकर संक्रांति पर्व 14 जनवरी नहीं बल्कि 15 जनवरी को ही मान्य - पं. रामकिशन

सांई के जीवन से साधारण इंसान को अच्छा मनुष्य बनने में प्रेरणा मिलती है : सुमित पोंदा

कैथल में पूजा अर्चना के साथ हुआ श्री साई अमृत कथा का शुभारंभ

बोले सो निहाल-सत श्री अकाल धर्म हेत साका जिन किया, शीश दीया पर सिर न दिया