Sunday, March 24, 2019
BREAKING NEWS
10 के सिक्के नहीं लेने पर एफआईआर—-आरबीआई के टोल फ्री नंबर 144040फरीदाबाद पहुंचे प्रदेश के मुख्य चुनाव आयुक्त -लोकसभा चुनाव को लेकर अधिकारियों के साथ की समीक्षा दो दिवसीय वॉलीवाल प्रतियोगिता के पहले दिन लडकियों की प्रतियोगिता करवाईजिला अस्पताल में पड़पते आदमी की आवाज बनी कमला यादव, लेकिन उसके बाद क्या ?कुताना--शवों को रखकर धरना-प्रदर्शन करते हुए रिफाइनरी अधिकारियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी कीविकास उर्फ पिंटू हत्याकांड :- आज तक भी नही थमे परिजनों के आंसू, रो-रोकर पत्नी का भी हाल बेहालहर व्यक्ति में देश के प्रति सच्चा जनून होना चाहिए :-राजेश वशिष्ठ कुलदीप बिश्रोई की गैर-मौजूदगी सेचली भाजपा में जाने की चर्चाएंलिंग जांच की सूचना दे, दो लाख का ईनाम लेबिना दहेज केवल 1 रुपया लेकर भाजपा नेत्री के बेटे ने कर ली शादी

Chhatisgarh

मीडिया के सहयोग से बिलासपुर की बेटी की हुई घर वापसी, मीडिया को सहृदय धन्यवाद - प्रकाशपुंज पांडेय

November 16, 2018 07:22 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

मीडिया के सहयोग से बिलासपुर की बेटी की हुई घर वापसी, मीडिया को सहृदय धन्यवाद - प्रकाशपुंज पांडेय


बिलासपुर, छत्तीसगढ़ की बेटी वी. मेहर निधि जो कि विवाह के बाद अपने पति के साथ अमेरिका चली गई थी और वहाँ उसके पति ने उसके साथ मारपीट और अमानवीय व्यवहार किया। साथ ही उसके पति ने उसके खिलाफ स्थानीय अदालत में साज़िश के तहत झूठा मुकदमा भी दर्ज करवा दिया जिसके बाद निधि और उसके 5 वर्ष के बेटे का पासपोर्ट जब्त कर लिया गया। इसके बाद भी उसने हार नहीं मानी और पहुंच गई भारतीय दूतावास जहां से उसे निराशा ही हाथ लगी क्योंकि मामला न्यायालय के अधीन विचाराधीन था। यहाँ बिलासपुर में उसके भाई मेहुल ने ट्विटर के माध्यम से विदेश मंत्रालय और संबंधित विभागों तथा पीएमओ को मदद के लिए गुहार लगाई। स्थानीय विधायक और सांसद से भी मुलाकात की। दिल्ली जाकर विदेश मंत्रालय में भी निवेदन किया। पुलिस के पास भी गया लेकिन हर बार हर जगह से केवल आश्वासन ही मिला।

(MOREPIC1)  

फिर उनके एक रिश्तेदार के माध्यम से मेहुल और निधि की माँ, रायपुर के एक समाज सेवी और पत्रकार प्रकाशपुन्ज पाण्डेय से मिलकर अपनी सारी व्यथा सुनाई। प्रकाशपुन्ज पाण्डेय के मीडिया और पॉलिटिकल पृष्ठभूमि होने के कारण उन्होंने इस केस की बारीकियों को समझते हुए तमाम मीडिया हाउसेज और पत्रकारों से इस बारे में सलाह ली। प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने भी अपने स्तर पर विदेश मंत्रालय, पीएमओ, सीएमओ सहित अन्य क्षेत्रों के विशेषज्ञों तक इस बात को पहुँचाया। इस प्रकरण में मदद के लिए प्रकाशपुन्ज पाण्डेय को खासतौर पर मीडिया पर बहुत भरोसा था और उनका भरोसा सही भी निकला। प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने बिलासपुर, छत्तीसगढ़ की बेटी निधि को स्वदेश लाने के लिए अमेरिका के अपने मित्र गणेश कार जोकि अमेरिका की एक संस्था NACHA (NORTH AMERICAN CHATTISGARH ASSOCIATION) के अध्यक्ष हैं उनसे भी संपर्क किया और अमेरिका में निधि को मानसिक और आर्थिक सहयोग भी दिलवाया। ग्लिब्स के एडिटर इन चीफ, विशाल यादव जिनसे प्रकाशपुन्ज पाण्डेय के बहुत ही घनिष्ठ संबंध हैं उन्होंने भी निधि को इंसाफ दिलाने में बड़ी भूमिका निभाई। विशाल यादव की राय से प्रकाशपुंज पांडेय ने निधि के परिवार को पुलिस की सहायता लेने को कहा और एफआईआर दर्ज करने के लिए सहयोग किया। पुलिस द्वारा नॉन बेलेबल वारंट जारी किया गया और तब निधि के पति जिसने उसके खिलाफ झूठा केस दर्ज किया था उसके और उसके परिवार पर दबाव बना और वे केस वापस लेने के लिए निधी को कहने लगे। पिछले हफ्ते पुलिस की कार्रवाई के डर से मजबूरी में निधि के पति ने निधी और उसके बेटे के पासपोर्ट को अदालत से वापस दिलवाने के लिए हस्ताक्षर किए।
निधि के परिवार वालों ने निधि और उसके बेटे साकेत के घर वापसी पर समस्त मीडिया जगत को धन्यवाद किया और विशेष रूप से प्रकाशपुन्ज पाण्डेय का जिन्होंने अपरिचित होकर भी अपने मीडिया बंधुओं तक इस मामले को गंभीरता से पहुंचाया और साथ ही भारत और अमेरिका के अपने अन्य सम्पर्कों को भी इस्तेमाल किया।

प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने मीडिया के अपने सभी साथियों का धन्यवाद ज्ञापन करते हुए कहा कि आज अगर छत्तीसगढ़ की बेटी निधि अपने घर वापस लौट आई है तो इसमें मीडिया ने अहम भूमिका निभाई है साथ ही प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने पुलिस और जिन जिन लोगों ने इस मामले में सहयोग किया था सभी को हार्दिक बधाई एवं धन्यवाद दिया।

Have something to say? Post your comment