Tuesday, April 23, 2019
BREAKING NEWS
ललित के समर्थन में 84 पाल ने की पंचायत, टिकट काटने में षड्यंत्र रचा गया निजी स्कूलों को मिली चेतावनी, 23 अप्रैल तक सीटों की जानकारी दें, या अन्यथा होगी कार्रवाईबेकसूर धर्म पाल 3 साल से बंद हॉन्ग कॉन्ग की जेल मेंसैंकड़ों महिला पुरूषों ने एसडीएम कार्यालय का घेराव कर सरकार व पुलिस प्रशासन के खिलाफ जोरदार किया प्रदर्शनकृपया किसी भी पार्टी के प्रत्याशी वोट मांगकर शर्मिंदा न करेंवर्तमान समय में कानूनी साक्षरता का महत्व बढ़ गया है-प्रियंका सोनीकृष्णपाल गुर्जर ने चुनावी सभा में मनमोहन गर्ग को दिया विधानसभा के लिये आशीर्वाद।रोहित लामसर बने बॉडी बिल्डिंग एवं फिटनेस एसोसिएशन के मीडिया प्रभारीकैथल एसपी के साथ कैथल के गणमान्य व्यक्तियों बैठक ,कहा यातायात व्यस्था सुधारने में जनता सहयोग करे ऐलनाबाद-स्कूल संचालिका द्वारा 11वर्षीय छात्र के साथ मारपीट करने का मामला

Business

सरकार की गलत नीतियों के कारण राइस मिले नुकसान में चल रही है - बजरंग गर्ग

November 21, 2018 04:36 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

सरकार की गलत नीतियों के कारण राइस मिले नुकसान में चल रही है - बजरंग गर्ग
हिसार - अखिल भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय महासचिव व हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने व्यापारी व किसानों से बातचीत करने के उपरांत कहा कि सरकार ने सरकारी जीरी की खरीद बंद करके किसानों को नाजायज तंग कर रही ह, ै जो उचित नहीं है। जबकि केंद्र सरकार के आदेशानुसार जीरी की खरीद 15 दिसंबर तक होनी चाहिए। मगर हरियाणा सरकार ने 15 नवंबर सेे जीरी की खरीद बंद कर दी है। राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग ने कहा कि एक तरफ मुख्यमंत्री व कृषि मंत्री कह रहे हैं कि किसान की फसल का एक-एक दाना खरीदा जाएगा। मगर किसान अपनी जीरी को बेचने के लिए मंडियों में धक्के खा रहे हैं। राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग ने केंद्र व प्रदेश सरकार से मांग की है कि वह जीरी की खरीद 15 दिसंबर तक जारी रखें। ताकि जिस किसान की फसल लेट है वह किसान अपनी जीरी को सरकारी रेट पर बेच सके। श्री गर्ग ने कहा कि एफसीआई विभाग के सरकारी अधिकारी अपनी जेबों को गरम करने के लिए राइस मिलरों के चावल की डिलीवरी समय पर ना लेने के कारण राइस मिलरों को बड़ा भारी नुकसान उठाना पड़ा है। सरकार को एफसीआई विभाग के अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही करते हुए। राइस मिलों की चावल की डिलीवरी समय पर लेने में किसी प्रकार की दिक्कत ना करने के आदेश देने चाहिए। राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग ने कहा कि सरकार की गलत नीतियों के कारण राइस मिले नुकसान में चल रही है। जबकि 100 किलो जीरी में लगभग 62 किलो चावल निकलता है। मगर केंद्र सरकार राइस मिलरांे से 67 किलो चावल ले रही है और 100 किलो जीरी पिनाई पर खर्चा लगभग 70 रूपये आता है मगर सरकार जीरी पिनाई पर 10 रूपये दे रही है। जिसके कारण राइस मिले नुकसान में चल रही है। श्री गर्ग ने कहा कि सरकार को 100 किलो जीरी पर 62 किलो चावल लेना चाहिए और 100 किलो जीरी पिनाई पर सरकार को राइस मिलरांे को 100 रूपये क्विंटल के हिसाब से देना चाहिए। ताकि बर्बाद हो रहा राइस उद्योग को बचाया जा सके।

Have something to say? Post your comment

More in Business

10 लाख 35 हजार का चेक बाउंस होने पर 6 महीने की सजा

कैथल आढ़तियों की हड़ताल तुड़वाने के लिए एस डी एम ईशा कम्बोज हुई सक्रिय

लाइसेंस रिन्यू नही हुये तो शनिवार 13 अप्रैल से सरकार के खिलाफ कमेटी प्रांगण में अनिश्चितकालीन धरना

टूटे प्रधानगिरी के दो धड़े, उद्योगपत्तियों ने नाथीराम को घोषित किया मंडी प्रधान

लोकसभा चुनाव 2019: वोट डालकर आने पर पेट्रोल पंप पर मिलेगी छूट, जानें पूरा ऑफर

1 रुपये में रेडमी नोट 7 प्रो खरीदने का शानदार मौका

कर्मचारियों की ड्यूटी चुनाव में ,क्या गेहूं की खरीद सीधे हो पाएगी

ओटीटी क्षेत्र में क्षेत्रीय सामग्री की कमी ,दर्शक अब टीवी की तुलना में मीडिया स्ट्रीमिंग पर अधिक समय दे रहे हैं

करोड़ों की जीएसटी की चोरी, कारोबारी गिरफ्तार

फ्री मोबाईल सर्विस कैंप का आयोजन