Saturday, February 16, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
आयकर विभाग ने किया जींद ,नरवाना ,और सफीदों में सर्वे पूर्व चेयरमैन यशपाल प्रजापति सहित 10 पार्षदों ने वीरवार को नगर परिषद परिसर में धरना दिया आप की खुट्टा पाड़ रैली की जगह होगी शहीद श्रद्धांजलि सभा : जयहिन्दशर्मनाक -44 जवानों को शहादत को भूल ,कांग्रेस के मंच पर लगे ठुमके आम आदमी पार्टी की खुट्टा पाड़ रैली की जगह होगी शहीद श्रद्धांजलि सभाबिल्डर ने पैसे के लालच में बरसाती नाले पर ही कब्जा कर काट दिए इंडस्ट्रियल प्लॉट !दीपेंद्र का विजयरथ रोकनें के लिए भाजपा में कशमकश,नहीं मिल पा रहा जिताऊ उम्मीदवारलोकसभा में पुराने चेहरे तो विधानसभा चुनावों में युवा चेहरों को मिल सकती है तव्वजो
 
 
Literature

बोले सो निहाल-सत श्री अकाल धर्म हेत साका जिन किया, शीश दीया पर सिर न दिया

सन्नी मग्गू | November 22, 2018 05:36 PM
सन्नी मग्गू

बोले सो निहाल-सत श्री अकाल
धर्म हेत साका जिन किया, शीश दीया पर सिर न दिया
गुरु नानक देव के प्रकाशोत्सव पर नगर कीर्तन का आयोजन
सन्नी मग्गू
जींद, 22 नवंबर
पूरे विश्व को एकता, भाईचारे, ऊंच-नीच का भेदभाव मिटाने वाले प्रथम पातशाही गुरु नानक देव के प्रकाशोत्सव पर वीरवार को विशाल नगर कीर्तन का आयोजन किया गया। नगर कीर्तन में विभिन्न समुदायों के लोगों ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब की पालकी साहिब के समक्ष माथा टेक कर अपनी खुशी का इजहार किया। गुरु घर के प्रवक्ता बलविंद्र सिंह के अनुसार नगर कीर्तन में श्री गुरु ग्रंथ साहिब को पालकी में शानदार ढंग से सुशोभित किया गया तथा पालकी साहिब की अगुवाई विशेष रूप से पंजाब से मंगवाए गए मिल्ट्री बैंड के साथ-साथ गुरु के पंज प्यारे कर रहे थे तथा पीछे-पीछे समुह संगत सतनाम वाहेगुरु एवं गुरबाणी का जाप करती हुई नगर कीर्तन के साथ चल रही थी। जबकि सुखमणी साहिब की सेवादार पांच प्यारों के साथ आगे-आगे सुखमणी साहिब का सिमरण करे हुए झाडू की सेवा लगा रही थी। नगर कीर्तन गुरुद्वारा तेग बहादुर साहिब से चल कर, पुरानी अनाज मंडी, टाउन हाल, फव्वारा चौंक, पालिका बाजार, मेन बाजार, पंजाबी बाजार से होता सिंह सभा गुरुद्वारा पहुंचा। इसक बाद नगर कीर्तन रुपया चौंक, बत्तख चौंक, सफीदों गेट, रानी तालाब से होते हुए गुरुद्वारा तेग बहादुर में संपन्न हुआ। यहां पर गुरुद्वारा मैनेजर बंता सिंह व गुरुद्वारा गुरुतेग बहादुर साहिब के हैड ग्रंथी ज्ञानी गुरविंद्र सिंह, जत्थेदार गुरजिंद्र सिंह द्वारा नगर कीर्तन का स्वागत किया गया। गुरुद्वारा मैनेजर बंता सिंह व गुरुद्वारा गुरुतेग बहादुर साहिब के हैड ग्रंथी ज्ञानी गुरविंद्र सिंह ने कहा कि गुरु नानक देव जी से किसी ने पूछा कि आप इतने बड़े हैं, फिर भी आप नीचे क्यों बैठते हैं तब गुरु नानक देव जी ने कहा कि नीचे बैठने वाला आदमी कभी गिरता नहीं है। ऐसे में आज गुरु नानक देव जी की शिक्षाओं पर चल कर ही आम आदमी सुखमय जीवन बिता सकता है। इस अवसर पर भाई कन्हैया सेवा दल, भाई सोमाशाह सेवा दल, सभी सुखमणी सेवा सोसायटियां तथा गुरु तेग बहादुर सेवा दल की सेवादार शुरू से लेकर आखिर तक नगर कीर्तन की सेवा में लगे रहे। नगर कीर्तन में रणजीत आखाड़ा मुख्य आकर्षण का केंद्र रहा और गतके के साथ-साथ तलवारबाजी का शानदार प्रदर्शन किया। जबकि विभिन्न स्कूलों के बच्चे रंग बिरंगी पौशाकों में आकर्षक मुद्राएं पेश कर रहे थे। स्कूली बच्चों ने गिद्दा, डंबल व पीटी शो किया। प्रवक्ता बलविंद्र सिंह ने बताया कि नगर कीर्तन से पहले अमृत सवेरे श्रद्धालुओं ने गुरुद्वारा साहिब में जाकर अपने गुरु श्री गुरु ग्रंथ साहिब के समक्ष मत्था टेका। इस मौके पर सिंह सभा गुरुद्वारा भारत सिनेमा रोड के प्रधान सरदार किरपाल सिंह, जोगेंद्र पाहवा, टहल सिंह, शोभा सिंह, सुरेंद्र सिंह टक्कर, गुरविंद्र सिंह, अनिल ठुकराल, दर्शन सिंह कोचर, महेंद्र सिंह, कुलदीप विर्क, लाडी चीमा, रामसिंह दुग्गल, हरबंस सिंह, सरदार सिंह, जसबीर सिंह टीटी, कमलजीत ग्रेवाल व अजीत सहित गुरुद्वारा तेग बहादुर पब्लिक स्कूल का स्टाफ मौजूद रहा।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Literature News
श्रीमद् भागवत कथा का प्रारंभ आज
मदहोश होकर लोग हुए आउट आफ कंट्रोल हरिनाम संकीर्तन में
अबकि बार मकर संक्रांति पर्व 14 जनवरी नहीं बल्कि 15 जनवरी को ही मान्य - पं. रामकिशन
सांई के जीवन से साधारण इंसान को अच्छा मनुष्य बनने में प्रेरणा मिलती है : सुमित पोंदा
कैथल में पूजा अर्चना के साथ हुआ श्री साई अमृत कथा का शुभारंभ
हजरत इलाही बू अली शाह कलंदर साहिब की दरगाह पर इन्द्री में चल रहें सालाना उर्स मुबारक व भंडारे पर आज एक विशेष शोभा-यात्रा
पूर्वाचलियों को छठ पूजा की बधाई देने आधा दर्जन स्थानों पर पहुंचे मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार
15 नवंबर को मनाया जाएगा शाह कलंदर का सालाना उर्स
5 नवंबर से दीवाली के पंच पर्व आरंभ
बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है: अचल मुनि 2