Monday, March 18, 2019
BREAKING NEWS
कर्मगढ़ गांव में शहीद रमेश कुमार लाइब्रेरी का उद्घाटन शिक्षा ही सबसे बड़ा धन-रामनिवास सुरजाखेड़ा हरियाणा में 10 लोकसभा सीटों पर खिलेगा कमल-कृष्ण बेदीकाग्रेस नेत्री विद्या रानी दनोदा ने किए गांवों के दौरे ेदेश व प्रदेश में काग्रेस लहराएगी परचम-विद्या रानी दनोदा क्षमता से अधिक भंडारण पाए जाने पर राजस्व बिभाग की टीम ने की कार्यवाहीदेश में 53 जवान शहीद हो गए और बीजेपी सरकार उनकी शहादत पर गौरव यात्रा निकल रही है, जोकि बड़ी ही निंदनीय बात है-दुष्यंत चौटालालोकसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी पूरी तरह तैयार: गौरव गोयलगेस्ट टीचरों के 58 साल तक स्थायीत्व व छह माह में महंगाई भत्ता देने की मांग को सरकार ने गंभीरता से लिया है।पिता अपने दोनों बच्चों समेत ट्रेन के आगे कूदा, पिता-पुत्र की मौतलुहारी गांव में 109 परिवारों ने जताई भाजपा में आस्था, मोदी को बताया सशक्त प्रधानमंत्रीचप्पे-चप्पे पर चप्पल की चर्चा: दुष्यंत चौटाला

National

भारत में हैं सर्वाधिक रक्त कैंसर रोगी, अमेरिका व चीन के बाद

December 14, 2018 07:26 PM
अटल हिन्द ब्यूरो
 भारत में हैं सर्वाधिक रक्त कैंसर रोगी, अमेरिका व चीन के बाद
 
भिवानी (अटल हिन्द न्यूज )। तेजी से बदल रही जीवनशैली, खानपान में अनियमितताओं व धूम्रपान समेत कई कारणों के चलते भारत में रक्त कैंसर तेजी से फैल रहा है। विश्व में अमेरिका व चीन के बाद भारत तीसरा ऐसा देश है जहां रक्त कैंसर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। नई दिल्ली के मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल शालीमार बाग के हीमैटोलॉजी एवं अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण के कंसल्टेंट डाक्टर गौरव दीक्षित और मेडिकल ओंकोलॉजी के एसोसिएट कंसल्टेंट डाक्टर विनीत गोविंद गुप्ता ने आज यहां पत्रकारों से बातचीत में बताया कि अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण एक गैर शल्य प्रक्रिया है जिसमें क्षतिग्रस्त या रोगग्रस्त अस्थि मज्जा के स्थान पर स्वास्थ्य अस्थि मज्जा स्टेम कोशिकाओं को प्रत्यारोपित कर दिया जाता है। यह जटिल प्रक्रिया भारत के कुछ ही अस्पतालों में की जाती है, लेकिन भारत में अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण की सफलता दर अंतरराष्ट्रीय सफलता दर के बराबर है। उन्होंने कहा कि भारत अमरीका और चीन के बाद दुनिया में रक्त कैंसर के सबसे अधिक रोगियों वाला तीसरा देश है और भारत में 2018 में रक्त कैंसर के 1.17 लाख नए मामले सामने आने की संभावना है। अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण आमतौर रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को प्रभावित करने वाले कुछ प्रकार के कैंसर और कुछ प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। डाक्टर गौरव दीक्षित ने कहा कि अमेरिका में हर बड़े शहर में 2-3 बीएमटी केंद्र हैं और इस प्रकार देश भर में लगभग 150-200 केन्द्र हैं। इसके विपरीत, भारत में अमरीका की तुलना में पांच गुना जनसंख्या होने के बावजूद अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण की सुविधा वाले कुछ ही अस्पताल हैं। और इस तरह से भारत में ज्यादातर मरीजों की मौत रक्त कैंसर से नहीं होती बल्कि उपचार के इंतजार करने के कारण होती है। एक और विडंबना यह है कि भारत की 125 करोड़ की आबादी पर 100 से भी कम ऐसे कैंसर विषेशज्ञ है जो बीएमटी के लिए प्रशिक्षित हैं। इस अवसर पर डाक्टर गुप्ता ने कहा कि अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण रिफैक्टरी रक्त कैंसर के रोगियों में लंबे समय तक जीवित रहने के लिए एकमात्र इलाज है। क्योंकि इन रोगियों को कीमोथेरेपी दवाओं से कोई फायदा नहीं होता है। भारत में थैलेसीमिया से गंभीर रूप से प्रभावित 65000-67000 रोगी हैं और हर साल थैलेसीमिया के 9000-10000 नए मामलों का पता चल रहा है और थैलेसीमिया के इलाज के लिए बीटीएम सबसे उपयुक्त इलाज है।

Have something to say? Post your comment

More in National

विपुल गोयल ने होली मिलन समारोह में विधायक टेकचंद शर्मा की जमकर तारीफ की।

विपुल गोयल ने होली मिलन में टेकचंद शर्मा की जमकर तारीफ की।

"प्रभु! मैं लंका जला कर आ रहा हूँ।"

सी-विजिल यानि नागरिक सतर्कता एप निष्पक्ष और पारदर्शी चुनाव करवाने में अहम भूमिका निभाएगा- प्रियंका सोनी

जो बिना होनहार है उनका भी निकालेंगे कोई राह: बीरेंद्र सिंह

विवेक गर्ग को मिलेगा राष्ट्रीय प्रामेरिका स्पिरिट ऑफ कम्युनिटी अवार्ड

हरियाणा के जाट होने लगे भाजपा के खिलाफ लामबंद

सेना का इलेक्‍ट्रीशियन निकला आईएसआई जासूस, पाक को भेजी खुफिया जानकारी

हरियाणा कांग्रेस की समन्यवय कमेटी की से पहले हो सकती है कार्यकारी अध्यक्षों की घोषणा

सत्ताधारी, विपक्षी, अधिकारियों ने माफियाओं से मिलकर अरावली को लुटवाया