Thursday, January 17, 2019
Follow us on
Uttar Pradesh

सीएम योगी के कार्यक्रम से निराश होकर लौटे स्थानीय लोग व भाजपा कार्यकर्ता

सुरजीत यादव | December 21, 2018 06:48 PM
सुरजीत यादव

सीएम योगी के कार्यक्रम से निराश होकर लौटे स्थानीय लोग व भाजपा कार्यकर्ता
24 माह में बनेगा पूर्वांचल एक्सप्रेस वे, दोनों ओर होगा औद्योगिक गलियारा- सीएम योगी

अमेठी। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी के बाजार शुकुल विकास खण्ड के भटमऊ गांव स्थित यूपीडा के द्वितीय फेज के कार्यालय का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस के दोनों ओर औद्योगिक गलियारा बनाकर युवाओं को रोज़गार दिया जाएगा। जमीन अधिग्रहण के लिये किसानों को उचित मुआवजा दिया जाएगा। इसके साथ ही निर्माण के दौरान जो सड़के खराब होंगी उनकी मरम्मत भी कराई जाएगी। यह एक्सप्रेस वे पूर्वी उत्तर प्रदेश के विकास में मील का पत्थर साबित होगा।

 

निर्धारित कार्यक्रम से लगभग एक घण्टे विलम्ब हेलीकाप्टर द्वारा भटमऊ के हैलीपैड पर उतरने पर मुख्यमंत्री का राज्य मंत्री सुरेश पासी, जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया। यहां से सड़क मार्ग से मुख्यमंत्री यूपीडा के कार्यालय पहुंचे। उन्होंने अधिकारियों से मुआवजा वितरण समयबद्ध तरीके से पूरा करने और मिट्टी का काम तालाबों से ही करने के निर्देश दिए। लगभग दस मिनट अधिकारियों के साथ बैठक कर वे बाहर निकल लिए। हैलीपैड पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अमेठी जनपद आजादी के बाद से लगातार वीवीआईपी जनपद होने के बाद भी पिछड़ा रहा है। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के निर्माण में अमेठी का विकास होगा।

 

निराश होकर लौटे ग्रामीण व स्थानीय कार्यकर्ता
शुकुल बाजार भटमऊ गॉव के आस-पास के लोग व कुछ क्षेत्रीय भाजपा कार्यकर्ता सुबह से ही मुख्यमंत्री के आने का इन्तजार करते रहे परन्तु उन्हे कार्यक्रम स्थल से निराश होकर लौटना पड़ा। किसी कार्यकर्ता को मुख्यमंत्री से मिलने नहीं दिया गया। जबकि स्थानीय लोग भी मुख्यमंत्री से मिलकर स्थानीय समास्याओं से अवगत कराना चाहते थे। जबकि मुख्यमंत्री का उड़नखटोला निर्धारित समय से बहुत विलम्ब करके भटमऊ गॉव में जैसे ही उतरा, मुख्यमंत्री ने कार्यदायी संस्था के अधिकारियों से निर्माण कार्य का जायजा लेने उनके बीच पहॅुचे। फिर भी लोगों ने ये आशा संजायें रखा कि शायद मुख्यमंत्री जी अन्त में ग्रामीणों की व्यथा कथा जरूर सुनेगें। किन्तु उनकी आशा दबी की दबी रह गयी। हुआ यूॅ कि जैसे ही मुख्यमंत्री जी समीक्षा बैठक के बाद हैलीपेड स्थल पर पहुॅचे तो ग्रामीणों ने घेर लिया। किन्तु योगी जी उड़न खटोले में बैठ मौके से वापस चले गये। ग्रामीणों को अपने प्रदेश के मुखिया से व्यथा कथा सुनाने का हाथ में आया मौका भी निकल गया। लोग निराश होकर लौटते देखे गये । वहीं भाजपा स्थानीय कार्यकर्ताओं में आक्रोश भी देखने को मिला। इस रवैया के बाद लोगों के बीच से जो आवास उठती सुनायी दी, क्या वह भाजपा के आगामी चुनाव तक बना रह कर उसको क्षति पहुॅचाने में कामयाब हो सकेगा। बहरहाल यह तो बाद की बात है लेकिन मुख्यंमंत्री जिस कार्य के लिए आये थे उसको निपटाकर चलते बने, भले ही जनता और कार्यकर्ता कुछ भी सोचें।

 

अमेठी। आज प्रदेश के मुखिया जहाँ जिले अमेठी में पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के प्रगति की समीक्षा बैठक कर रहे थे, वही आँगनबाड़ी कार्यकत्रिया व सहायिका अपनी मांगों को लेकर जिला मुख्यालय कलेक्ट्रेट परिसर में धरना प्रदर्शन कर रही थी। शुक्रवार सुबह से आंगनबाड़ी कर्मचारी व सहायिका एसोसिएशन अमेठी के जिलाध्यक्ष आशा बौद्ध के नेतृत्त्व में जिले की आंगनबाड़ी कार्यकत्रिया व सहायिका कलेक्ट्रेट परिसर में इकट्ठा हुई। उनका यह आरोप है कि 7 जून 2018 को कृषि उत्पादन आयुक्त व मुख्यमंत्री के बीच उनकी मांगों को लेकर वार्ता हुई।

जिसमें 8 सूत्रीय मांगों को मान लेने का आश्वासन दिया गया। परन्तु अब तक इन मांगों पर कोई जमीनी कार्यवाही नही हुई। अपनी मांगो से आजिज व नाराज होकर कर्मी सड़क पर उतरने को विवश हो गए। जिलाध्यक्ष आशा बौद्ध ने अपने सम्बोधन में कहा कि 20 जनवरी 2019 तक यदि हमारी मांगो पर मुख्यमंत्री ने अमल नही किया तो उसके बाद जिले के सभी कार्यकत्रिया व सहायिका कलमबंद, कामबन्द अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे। इस मौके पर सम्बोधित करते हुए जिला सरंक्षक देश राज तिवारी ने कहा कि यदि सरकार हमारी मांगे नही मानती तो हम उग्र आंदोलन करने को विवश होंगे। जिसके लिए जिम्मेदार खुद प्रदेश सरकार व प्रशासन होगा। विदित हो कि 8 मांगो में मानदेय बढोत्तरी, कार्यकत्री सहायिका को राज्य कर्मचारी का दर्जा, धरने के दौरान रोका गया वेतन अविलम्ब जारी करना, आबादी के हिसाब से मिनी कार्यकत्री को पूर्ण कार्यकत्री का दर्जा, धरने के दौरान विभिन्न जिलों के दर्ज हुए फर्जी मुकदमे को वापस लेना, मुख्यसेविका के सीधी भर्ती के बजाय कार्यकत्रियों को पदोन्नति से मुख्यसेविका का दर्जा देना, आँगन बाड़ी कार्यकत्री व सहायिका को सामाजिक सुरक्षा, इ पी एफ के दायरे में लाना तथा मृतको के बीमा राशि का त्वरित भुगतान व कार्यकत्रियों को 30 दिन संवैतनिक वेतन की सुविधा दिए जाने की मांगें थे। जिसे प्रदेश के मुखिया वादा करने के बाद भी पूरा करने से मुकर रहे है। इस मौके पर जिला महामंत्री आशा यादव, उषा मिश्रा मिश्रा, सरोज शुक्ला, रीता मिश्रा, भानमती सरोज, कलावती, कमलेश, मिथलेश, अमरावती यादव,लवलेश श्रीवास्तव, किरन सोनकर, पुष्पा सिंह, श्यामपती सैकड़ों कार्यकत्रियां मौजूद रही।

Have something to say? Post your comment
More Uttar Pradesh News
गोंडा-टीम को उत्क्रिस्ट कार्यो के लिए किया गया सम्मानित
गोंडा-जिला निर्वाचन अधिकारी ने वोटर्स अवेयरनेस फोरम की किया लान्चिंग
लीपापोती -पीड़िता के पति को नहीं मिल रहा न्याय मृतक के पास 3 बच्चे भी
मोदी के 11 मंत्रियों में से 7 पर हार का खतरा ?2019 के लोकसभा चुनावों के मद्देनजर उत्तरप्रदेश में
सपा-बसपा गठबंधन पर बोले अखिलेश, 25 मिनट की मुलाकात ने मिटा दी 25 साल की दुश्मनी
सम्पूर्ण समाधान दिवस में नहीं पहुॅचे पूर्ति अधिकारी एवं अधिशासी अभियन्ता तो वेतन रोकने का हुआ आदेश
दर्दनाक हादसा यूपीः जलती हुई स्कूली वैन में तड़पते रहे बच्चे, गाड़ी का गेट लॉक छोड़कर भाग गया चालक
शुकुल बाजार बड़ौदा बैंक की साख गिराने में लगे खुद शाखा प्रबन्धक
थाना मान्धाता पुलिस का बड़ा कारनामा ग्रामीणों ने पिस्टल सहित पकड़वाया थानाध्यक्ष अर्जुन सिंह ने 12 बोर कट्टे में चालान कर दिया 307 के आरोपी को पकड़ने के बाद नही लगाया गया धारा 307
IAS बी चन्द्रकला के आवास पर CBI का छापा...