Saturday, March 23, 2019
BREAKING NEWS
हुड्डा को प्रदेश कांग्रेस कोआर्डिनेशन कमेटी का चेयरमैन नियुक्त किए जाने पर कार्यकर्ताओं में खुशी : चीमाबाबैन क्षेत्र में धूमधाम से मनाया होली का त्योहारसडक़ हादसे में एएसआई समेत तीन की मौतराजनेता नहीं कर सकेंगे वीडियो कॉन्फ्रेसिंग लगा दिया प्रतिबन्ध स्टूडेंट बिना बुलाए शादी या पार्टियों में खाना खाने पहुंचे तो कार्रवाई होगीघरौडा में केमिकल टैंकर में भीषण विस्फोट, पिता-पुत्र की मौतबोर में फंसे बच्चे को सुरक्षित निकाला गुरुनानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व पर भव्य व शानदार ढंग से आयोजित होगा कार्यक्रमअग्रवाल समाज के अध्यक्ष राजकुमार गोयल ने अनिल विज को किया टवीट,कहा जीन्द की मोर्चरी के लिए डी-फ्रिजर आए हो गया है एक सालदुरूस्त रखें रिकार्ड, साफ-सफाई का रखे विशेष ध्यान दे : डॉ. प्रियंका सोनी

National

वैश्य समाज की महिलाओं का शक्ति सम्मेलन 27 जनवरी को कुरूक्षेत्र में

January 05, 2019 01:14 PM
राजकुमार अग्रवाल

27 जनवरी को कुरूक्षेत्र में होने वाला शक्ति सम्मेलन 33 प्रतिशत महिलाओं के आरक्षण की मांग करेंगा
चंडीगढ़। संसद और विधानमंडलों में महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण का बिल लोकसभा में जल्द पारित करने की मांग के उद्देश्य से वैश्य समाज की महिलाओं का शक्ति सम्मेलन 27 जनवरी को कुरूक्षेत्र में होगा। ये जानकारी आज अग्रवाल वैश्य समाज की महिला इकाई की अध्यक्षा सुशीला सर्राफ ने प्रैस को दी। श्रीमती सर्राफ ने कहा कि पश्चिम बंगाल में स्थानीय निकायों में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण दिया है। इसी प्रकार पंचायती राज एवं नगर निगम के चुनावों में भी देश के कई प्रदेशों में महिलाओं को 10 प्रतिशत से 50 प्रतिशत तक के आरक्षण प्राप्त है। लेकिन दुर्भाग्य की बात है भारत में संसद और विधानमंडलों में 33 प्रतिशत आरक्षण देने के लिए आधी आबादी को संघर्ष करना पड़ रहा है। सुशीला सर्राफ ने कहा कि 2010 में महिला आरक्षण विधेयक राज्यसभा में पारित हो गया था। लेकिन सत्तारूढ़ पार्टी के घोषणा पत्र में ये मुद्दा सम्मिलित होने के बावजूद भी आज तक इस बिल पर चर्चा नहीं की गई है। सत्तारूढ़ पार्टी का ये अंतिम सत्र है इसलिए इससे यह उम्मीद भी नहीं की जा सकती की महिलाओं को उनके अधिकार मिलेंगे। श्रीमती सर्राफ ने कहा कि देश की आधी आबादी को स्वयं संघर्ष करके अपने अधिकारों को पाना पड़ेगा। सर्राफ ने महिलाओं को सजग एवं सशक्त रहने की अपील करते हुए कहा कि नारी शक्ति के उत्थान के लिए एवं अधिकारों की सुरक्षा के लिए 27 जनवरी को पूरे प्रदेश की महिलाएं कुरूक्षेत्र में एकत्रित होकर राजनीतिक अधिकारों पर गहन चिंतन करें ताकि हमारे अधिकारों को प्राप्त करने के लिए विभिन्न राजनीतिक दलों पर दबाव बनाया जा सकें। श्रीमती सर्राफ ने खेद व्यक्त किया कि लोकसभा में केवल 11.5 प्रतिशत व राज्यसभा में 12.5 प्रतिशत महिला सदस्य है। इसी प्रकार हरियाणा की विधानसभा में भी महिलाओं की संख्या 90 में से मात्र 13 है। जो 14.4 प्रतिशत है। सुशीला सर्राफ ने कहा कि समाज के उत्थान में नारी शक्ति की अहम भूमिका है। इसी के अनुरूप अग्रवाल वैश्य समाज भी वैश्य महिलाओं के सशक्तिरण के प्रति कटिबद्ध है और अपने उद्देश्य को पूरा करने के लिए शक्ति सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है। इस सम्मेलन में प्रदेशभर से समाज की महिलाओं को आमंत्रित किया जाएगा और राजनीतिक, सामाजिक, आत्मनिर्भरता जैसे मुद्दों पर जागरूक किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अग्रवाल वैश्य समाज के प्रदेशाध्यक्ष अशोक बुवानीवाला की प्रेरणा से आयोजित इस शक्ति सम्मेलन में अधिक से अधिक वैश्य महिलाऐं हिस्सा लेगी। श्रीमती सर्राफ ने कहा कि आज महिलाओं को राजनीति में आने की आवश्यकता है और आगामी चुनावों को देखते हुए वैश्य महिलाओं में नेतृत्व क्षमता विकसित करने के उद्देश्य से प्रदेशस्तर पर दूसरे शक्ति सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। सुशीला सर्राफ ने कहा कि अग्रवाल वैश्य समाज आज प्रदेशाध्यक्ष अशोक बुवानीवाला के नेतृत्व में अपनी अलग पहचान बना चुका है। वैश्य एकता के प्रयास के साथ अग्रवाल वैश्य समाज निरंतर आगे बढ़ रहा है। इसी कड़ी में महिलाओं का मजबूत संगठन बनाकर वैश्य समाज की महिलाओं को स्वाबलंबी, नेतृत्वशील बनकर आम जन-जीवन में होने वाले कार्यकर्मों में अग्रणी भूमिका निभाने के लिए जागरूक किया जा रहा है।

Have something to say? Post your comment