Saturday, March 23, 2019
BREAKING NEWS
हुड्डा को प्रदेश कांग्रेस कोआर्डिनेशन कमेटी का चेयरमैन नियुक्त किए जाने पर कार्यकर्ताओं में खुशी : चीमाबाबैन क्षेत्र में धूमधाम से मनाया होली का त्योहारसडक़ हादसे में एएसआई समेत तीन की मौतराजनेता नहीं कर सकेंगे वीडियो कॉन्फ्रेसिंग लगा दिया प्रतिबन्ध स्टूडेंट बिना बुलाए शादी या पार्टियों में खाना खाने पहुंचे तो कार्रवाई होगीघरौडा में केमिकल टैंकर में भीषण विस्फोट, पिता-पुत्र की मौतबोर में फंसे बच्चे को सुरक्षित निकाला गुरुनानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व पर भव्य व शानदार ढंग से आयोजित होगा कार्यक्रमअग्रवाल समाज के अध्यक्ष राजकुमार गोयल ने अनिल विज को किया टवीट,कहा जीन्द की मोर्चरी के लिए डी-फ्रिजर आए हो गया है एक सालदुरूस्त रखें रिकार्ड, साफ-सफाई का रखे विशेष ध्यान दे : डॉ. प्रियंका सोनी

Haryana

जान हुई सस्ती... हथेली पर जान रखकर करनी पड़ रही रेलवे टै्रक पार

January 09, 2019 05:59 PM
रोहित लामसर

जान हुई सस्ती...
हथेली पर जान रखकर करनी पड़ रही रेलवे टै्रक पार
फुट ओवरब्रिज न होने से ट्रेन के डिब्बों के बीच में से होकर ट्रैक पार करते हैं यात्री
तरावड़ी, 9 जनवरी (रोहित लामसर)। ऐतिहासिक नगरी तरावड़ी के रेलवे स्टेशन पर फुट ओवरब्रिज न होने के कारण यात्रियों को अपनी जान हथेली पर रखकर रेलवे ट्रैक पार करने पर मजबूर होना पड़ रहा है। यहां तक कि यात्री दूसरी तरफ जाने के लिए रेलवे ट्रैक पर खड़ी टे्रन के डिब्बों के बीच में से होकर दूसरी तरफ गुजरने पर मजबूर हैं। कई सालों से लंबित पड़ी इस मांग की तरफ आज तक भी रेलवे प्रशासन के साथ-साथ प्रदेश सरकार ने ध्यान नही दिया। रेलवे स्टेशन से रोजाना हजारों दैनिक यात्री ट्रेन में सफर करते हैं, लेकिन तरावड़ी रेलवे स्टेशन पर उन्हें कई समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। सबसे बड़ी समस्या यहां पर फुट ओवरब्रिज की है, जिससे यात्रियों को एक प्लेटफार्म से दूसरे प्लेटफार्म पर जाने के लिए जान जोखिम में डालने पर मजबूर होना पड़ता है। आपको बता दें कि रेलवे ट्रैक पार एक डोडवा बस्ती भी बनी हुई हैं। डोडवा बस्ती के लोग भी रेलवे टे्रक पार करके ही तरावड़ी शहर की तरफ आते हैं, लेकिन कई बार ऐसा होता है कि ट्रेन रेलवे ट्रैक के बीच में खड़ी हो जाती है, जिससे एक साईड से दूसरी साईड जाने के लिए रेल के डिब्बों के बीच में से या फिर ट्रेन के नीचे से गुजरना पड़ता हैै। दैनिक यात्री सुरेंद्र रोहिल्ला, सतीश पंवार, सुनील, संदीप, नेहा, चक्षु, स्मृति, पावनी, भावना, ईशा, कोमल, अमन, तानिया, ईशू समेत अन्य विद्यार्थियों ने बताया कि रेलवे स्टेशन पर फुट ओवरब्रिज होना चाहिए, ताकि यात्रियों को जान जोखिम में न डालनी पड़े। उन्होंने बताया कि फुट ओवरब्रिज न होने के कारण उन्हें जान हथेली पर रखकर रेलवे ट्रैक पार करनी पड़ती है।

बाक्स
ऐसे तो कई बार छूट जाती है ट्रेन :- दैनिक यात्री
जानकारी देते हुए यात्रियों ने बताया कि सुबह के समय अंबाला से करनाल की तरफ जाने के लिए कई पैसेंजर ट्रेने जाती हैं, जो प्लेटफार्म नंबर चार पर रूकती हैं। लेकिन रेलवे प्रशासन का टिकट घर प्लेटफार्म नंबर-1 के पास हैं। कई बार ऐसा होता है कि जब वह टिकट ले रहे होते हैं तो प्लेटफार्म नंबर-एक या दो पर कोई भी मालगाड़ी आकर खड़ी हो जाती है। जिससे दूसरे प्लेटफार्म पर जाने के लिए जान मुसीबत में आ जाती है। स्टापिज एक मिनट का होता है, लेकिन कई यात्री ऐसे हैं तो ट्रेन के नीचे से या फिर डिब्बों के बीच में से होकर दूसरे प्लेटफार्म पर नही जा सकते। ऐसे में कई बार एक प्लेटफार्म और दूसरे प्लेटफार्म के बीच कोई भी ट्रेन खड़ी होने के कारण रेलवे ट्रैक न पार होने से यात्रियों की ट्रेन भी छूट जाती है। जिससे बड़ी परेशानी होती है।

बाक्स
कई बार लिखा पत्र, लेकिन नही हुई सुनवाई :- रेल यात्री वैलफेयर एसोसिएशन तरावड़ी के अध्यक्ष रमेश गुप्ता ने बताया कि एसोसिएशन की तरफ से कई बार डी.आर.एम. को रेलवे स्टेशन की समस्याओं को लेकर पत्र लिखा गया है, लेकिन आज तक भी किसी ने संज्ञान नही लिया। उन्होनें बताया कि कई-कई बार तरावड़ी दौरे के दौरान अधिकारियों के समक्ष रेलवे फुट ओवरब्रिज की भी समस्या उठाई गई, लेकिन सुनवाई नही हुई। इसके अलावा उन्होंने टवीटर के साथ-साथ ई-मेल के माध्यम से भी पत्र भिजवाया। लेकिन उनके पास कोई जानकारी नही पहुंची।

Have something to say? Post your comment

More in Haryana

हुड्डा को प्रदेश कांग्रेस कोआर्डिनेशन कमेटी का चेयरमैन नियुक्त किए जाने पर कार्यकर्ताओं में खुशी : चीमा

बाबैन क्षेत्र में धूमधाम से मनाया होली का त्योहार

सडक़ हादसे में एएसआई समेत तीन की मौत

घरौडा में केमिकल टैंकर में भीषण विस्फोट, पिता-पुत्र की मौत

बोर में फंसे बच्चे को सुरक्षित निकाला

गुरुनानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व पर भव्य व शानदार ढंग से आयोजित होगा कार्यक्रम

अग्रवाल समाज के अध्यक्ष राजकुमार गोयल ने अनिल विज को किया टवीट,कहा जीन्द की मोर्चरी के लिए डी-फ्रिजर आए हो गया है एक साल

दुरूस्त रखें रिकार्ड, साफ-सफाई का रखे विशेष ध्यान दे : डॉ. प्रियंका सोनी

जल के लिए किसी को पीछे नहीं छोडऩा : जैन

बल्लबगढ़ गंगाजल प्रकरण में नया मोड़, टैंकरों में गंगाजल नहीं बोर का पानी था?