Monday, January 21, 2019
Follow us on
Haryana

गोपाल कांडा ‘कई मामों का भांजा’ मुहावरा सार्थक करने में लगे

राजकुमार अग्रवाल | January 10, 2019 06:10 AM
राजकुमार अग्रवाल

गोपाल कांडा ‘कई मामों का भांजा’ मुहावरा सार्थक करने में लगे
चंडीगढ़ (अटल हिन्द न्यूज ) जननायक जनता पार्टी के सुप्रीमों एवं सांसद दुष्यंत चौटाला ने हरियाणा लोकहित पार्टी के अध्यक्ष एवं पूर्व गृह राज्य मंत्री गोपाल कांडा के साथ मुलाकात करके नए राजनीतिक समीकरणों को जन्म दे दिया है। दोनों नेताओं के बीच राजनीतिक गठबंधन की बिसात तैयार हो चुकी है जिसे आने वाले दिनों में अमली रूप दिया जा सकता है। अगर यह गठबंधन अथवा विलय सिरे चढ़ जाता है तो सिरसा लोकसभा क्षेत्र में नए राजनीतिक समीकरण पैदा होंगे। जिसका सीधा असर कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर व इनेलो सुप्रीमों अभय सिंह चौटाला पर होगा।
गोपाल कांडा ने वर्ष 2009 में निर्दलीय रूप से चुनाव लड़ते हुए इनेलो के पदम जैन को हराया था। इसके बाद कांडा ने तत्कालीन हुड्डा सरकार को समर्थन दे दिया और उन्हें गृहराज्य मंत्री बना दिया गया। इसके बाद गोपाल कांडा एयर होस्टेस गीतिका शर्मा कांड फंस गए। जेल से बाहर आते ही गोपाल कांडा ने हुड्डा सरकार से समर्थन वापस ले लिया और हरियाणा लोकहित पार्टी के नाम से अपने राजनीतिक दल का गठन कर दिया। गोपाल कांडा ने वर्ष 2014 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान प्रदेश की 82 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़ें किए थे। हालांकि उनका कोई भी प्रत्याशी ज्यादा वोट नहीं ले सका। लेकिन गोपाल कांडा सिरसा व उनके भाई गोबिंद कांडा रानियां से बेहद कम मतों के अंतर से चुनाव हारे थे। चुनाव हारने के बाद गोपाल कांडा हरियाणा की राजनीति में अधिक सक्रिय नहीं रहे अलबत्ता उन्होंने सिरसा नगर पालिका में अपने कई पार्षदों को चुनाव जितवाया।
अब ताजा राजनीतिक समीकरणों के बीच गोपाल कांडा व इनेलो से बाहर होकर जननायक जनता पार्टी का गठन करने वाले दुष्यंत चौटाला के बीच हुई बैठक चर्चा का विषय बनी हुई है। यह बैठक गुरूग्राम स्थित गोपाल कांडा के कार्यालय में हुई है। पूर्व गृह राज्य मंत्री गोपाल के बुजुर्ग भी चौटाला गांव के है। गोपाल कांडा को राजनीति में लाने का श्रेय औमप्रकाश चौटाला व अजय चौटाला को ही जाता है। दोनों नेताओं के बीच करीब दो घंटे चली बैठक पूरी तरह से राजनीतिक थी। अगर यह बैठक विलय अथवा गठबंधन का रूप लेती है तो आने वाले दिनों में सिरसा लोकसभा क्षेत्र में अभय चौटाला की मुश्किलें बढ़ सकती है।
पूर्व मुख्यमंत्री औम प्रकाश चौटाला के गृह जिला सिरसा में पांच विधानसभा क्षेत्र है। जिनमें डबवाली से नैना चौटाला, कालावाली (आरक्षित) सीट से अकाली दल के बलकौर सिंह, रानियां से इनेलो के रामचन्द्र कंबोज, सिरसा से इनेलो के मक्खन लाल सिंगला और ऐलनाबाद से स्वयं अभय सिंह चौटाला विधायक है। पिछले चुनाव में गोपाल कांडा ने अपनी पार्टी के बैनर तले सिरसा से चुनाव लड़ा और करीब 43 हजार वोट हासिल किए लेकिन यह 2000 वोट से हार गए। इसी तरह गोबिंद कांडा ने रानियां से चुनाव लड़ा और करीब 42000 वोट लिए लेकिन यह 2500 वोट से चुनाव हार गए। कालांवाली से हलोपा प्रत्याशी ने पिछले चुनाव में करीब 15000 वोट हासिल किए थे। वैसे गोपाल कांडा खुद पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा के इर्द-गिर्द घुमते रहते हैं कई बार हुड्डा के दिल्ली निवास पर उनको देखा गया है इसके साथ-साथ हरियाणा कांग्रेस विधायक दल की नेता किरण चौधरी भी गोपाल कांडा के निवास पर कई बार जल-पान कर चुकी है। बताया जाता है कि गोपाल कांडा कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के भी सम्पर्क में है। ऐसी स्थिती में कई मामों का भांजा भूखा रह जाता है ये मुहावरा गोपाल कांडा पर सार्थक न हो जाए। ऐसा प्रतीत होता है, बाकि समय बताएंगा।

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
कमीशन खाने वालों को दिखाएंगे बाहर का रास्ता : सुरेंद्र कमांडो
विकिरण से आम जन को बहुत कम खतरा : संदीप पाल
कार ने महिला को कूचला, महिला की मौके पर ही दर्दनाक मौत
विधायक जसविंदर सिंह का पार्थिव शरीर पंचतत्व में हुआ विलिन
घरौंडा नगरपालिका के आदेशों को ठेंगा दिखाते हुये निजी स्कूल में 65 फुट ऊँची बिल्डिंग का अवैध निर्माण जारी
डी ग्रुप भर्ती के परिणाम में कैथल जिले के 1037 लोगों का हुआ चयन
पंचायत में युवक हुए उग्र, सरपंच पर ही बोल दिया हमला गांव गुमथला में
किसानों के धैर्य को कमजोरी समझने की भूल ना करे सरकार: भाकियू
देश व समाज के उत्थान के लिए सभी लोगों को साथ मिलकर आगे बढऩा होगा - राज्यपाल
सोनीपत जेल में विचाराधीन कैदी ने बाथरूम में फंदा लगाकर की आत्महत्या