Monday, January 21, 2019
Follow us on
Haryana

आधा दर्जन बोर्ड चेयरमैनों की छुट्टी तय!जींद चुनाव के बाद

राजकुमार अग्रवाल | January 11, 2019 06:07 AM
बोर्ड चैयरमेन जवाहर सैनी का फ़ाइल फोटो
राजकुमार अग्रवाल

आधा दर्जन बोर्ड चेयरमैनों की छुट्टी तय!जींद चुनाव के बाद 
दो साल तक काम कर चुके निष्क्रिय प्रतिनिधियों की सूची तैयार
कार्यकाल के अंतिम वर्ष में नए कार्यकर्ताओं को मौका देंगे सीएम
चुनाव के मद्देनजर कार्यकर्ताओं का असंतोष खम करने की कवायद

कैथल (राजकुमार अग्रवाल )
 Mob - 09416111503     Email -atalhind@gmail.com


जींद। हाईकमान द्वारा पीठ थपथपाए जाने के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल आक्रामक हो रहे हैं। जींद उपचुनाव के बाद मुख्यमंत्री ने आधा दर्जन से अधिक ऐसे बोर्ड व निगमों के चेयरमैनों को बाहर  बिठाने का फैसला कर लिया है जिनका अपने विभाग में बेहतर प्रदर्शन नहीं है। ऐसे बोर्ड व निगम चेयरमैनों की सूची सीएमओ में तैयार हो चुकी है। जिसे जींद उपचुनाव के बाद लागू किया जाएगा। सूाों की मानें तो मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अपने विश्वस्त सीएमओ के एक वरिष्ठ अधिकारी और अपनी टीम के एक वरिष्ठ सदस्य के मायम से हरियााा में बोर्ड व निगम चेयरमैनों की कार्यप्रााली का आंकलन करवाया है। जिसके चलते उन चेयरमैनों के विभागों का आंकलन किया गया है, जिहें दो साल का समय हो चुका है और उनका प्रदर्शन संतुष्टीजनक नहीं है। उहें हटाकर नए चेयरमैन नियुक्त किए जा सकते हैं। प्रदेश सरकार अभी तक दो चेयरमैनों को उनके मौजूदा पदों से हटाकर नई नियुक्तियां कर चुकी है। राय में दो दर्जन से अधिक बोर्ड एवं निगम संचालित हैं। लोकसभा और विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सरकार उन सभी कार्यकर्ताओं को चेयरमैन बनने का मौका देना चाहती है, जो अभी तक वंचित रह गए हैं और पार्टी के लिए किसी न किसी रूप में कारगर साबित हो सकते हैं। मौजूदा चेयरमैनों को यह फार्मूला समझाया जा रहा है कि वह कुर्सी पर काबिज हो चुके हैं और अब कुछ नए कार्यकर्ताओं को मौका दिया जाना चाहिए। चेयरमैनों को हालांकि यही बात कही जा रही कि चुनाव के मद्देनजर यह पार्टी की रानीति का हिस्सा है, लेकिन ऐसे चेयरमैनों की कुर्सी अब खतरे में पड़ गई, जो सिर्फ चौधराहट के लिए चेयरमैन बने हैं और उहोंने अपने बोर्ड एवं निगम में अपेक्षित नतीजे नहीं दिए हैं। ऐसे आधा दर्जन चेयरमैन चिहित किए जा चुके हैं, जिहें किसी भी समय पार्टी और सरकार दोनों नमस्ते कह सकते हैं। जातीय समीकराों के साथ-साथ उन कार्यकर्ताओं को चेयरमैन की कुर्सी पर बैठाएगी, जिनकी पाकेट वोटों से भरी है। इस कड़ी में उन पार्टी नेताओं का नंबर भी लग सकता है, जो 500 से दो हजार मतों के अंतराल से चुनाव हारे हैं। हालांकि पार्टी ने उहें दोबारा से तैयारी करने के संकेत पहले ही दे दिए हैं, लेकिन कार्यकर्ताओं के काम कराने व इलाके में पैठ मजबूत करने की मंशा से हारे हुए कुछ उमीदवारों पर भी पार्टी चेयरमैन बनाने का दांव खेल सकती है।
इसी में बाक्स---
खराब प्रदर्शन के आधार पर मंत्रियों की हो चुकी है छुट्टी
हरियाणा में यह पहला मौका नहीं है जब खराब प्रदर्शन के आधार पर बोर्ड व निगमों को चेयरमैन को घर बिठाने की तैयारी चल रही है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने विक्रम ठेकेदार व घनश्याम सर्राफ को भी खराब प्रदर्शन के चलते मंत्री पद से हटाकर बनवारी लाल व दो अयों को मौका दिया था। इसके अलावा हालही में दो चेयरमैनों को भी बाहर बिठाकर उनके स्थान पर नई नियुक्तियां की जा चुकी हैं।

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
हरियाणा ज्ञान-विज्ञान समिति चलाएगी वार्षिक सदस्यता अभियान
कमीशन खाने वालों को दिखाएंगे बाहर का रास्ता : सुरेंद्र कमांडो
विकिरण से आम जन को बहुत कम खतरा : संदीप पाल
कार ने महिला को कूचला, महिला की मौके पर ही दर्दनाक मौत
विधायक जसविंदर सिंह का पार्थिव शरीर पंचतत्व में हुआ विलिन
घरौंडा नगरपालिका के आदेशों को ठेंगा दिखाते हुये निजी स्कूल में 65 फुट ऊँची बिल्डिंग का अवैध निर्माण जारी
डी ग्रुप भर्ती के परिणाम में कैथल जिले के 1037 लोगों का हुआ चयन
पंचायत में युवक हुए उग्र, सरपंच पर ही बोल दिया हमला गांव गुमथला में
किसानों के धैर्य को कमजोरी समझने की भूल ना करे सरकार: भाकियू
देश व समाज के उत्थान के लिए सभी लोगों को साथ मिलकर आगे बढऩा होगा - राज्यपाल