Monday, January 21, 2019
Follow us on
Haryana

कैथल,प्रशासन व सरकार द्वारा चिप घोटाला में दोषियों की गिरफ्तारी व कार्रवाई न होने से किसानों में रोष

कृष्ण प्रजापति की रिपोर्ट | January 11, 2019 09:06 PM
कृष्ण प्रजापति की रिपोर्ट

कैथल,प्रशासन व सरकार द्वारा चिप घोटाला में दोषियों की गिरफ्तारी व कार्रवाई न होने से किसानों में रोष

जिला प्रशासन किसानो की समस्याओं को लेकर नहीं है चिंतित : आर्य

कैथल, 11 जनवरी (कृष्ण प्रजापति): शुगर मिल चिप घोटाले की जांच को लेकर जिलेभर के किसान 16वें दिन भी अनशन पर बैठे। जिला प्रशासन व सरकार की ओर से दोषियों की गिरफ्तारी व कार्रवाई नहीं होने से व प्रशासन की कार्यप्रणाली से धरने पर बैठे किसान दु:खी और परेशान हैं। किसानो ने कहा कि प्रशासन द्वारा शुगर मिल घोटालों के लिए तीन-तीन कमेटी बनाई गई लेकिन अभी तक निष्कर्ष जीरो चल रहा है। सरकार ने किसानों की मांग पर एमडी कैथल को तो बदल दिया लेकिन किसान इससे पूरी तरह संतुष्ट नहीं हैं क्योंकि किसान एमडी का तबादला केवल इसलिए चाहते थे कि सिर्फ घोटाले की जांच को प्रभावित कर रहे थे। रणदीप आर्य ने कहा कि किसानों को खुशी तब होगी जब उनको चिप घोटाले में पूर्ण रूप से न्याय मिलेगा। डिप्टी कमिश्नर किसानों की बात तो बड़े ध्यान से सुनते हैं लेकिन कार्य की दृष्टि से अच्छा परिचय नहीं है। एमडी कैथल के ट्रांसफर ऑर्डर या तबादले का पता किसानों को 10 तारीख को ही लग गया था लेकिन 11 तारीख शाम को एमडी कैथल से चार्ज ले लिया गया इससे भी किसान असंतुष्ट हैं क्योंकि ऐसे अधिकारी को तबादले के आर्डर होते ही उसके कार्य से सेवानिवृत्त कर देना चाहिए था ऐसा भी तब हुआ जब किसान शाम को 3:30 और 4:00 बजे के बीच में डीसी साहब के पास एमडी का चार्ज लेने के लिए बोलने गए। प्रशासन की कार्यप्रणाली मे कोई ऐसे बिंदु नहीं है जिससे किसान खुश हो। एसपी कैथल ने तो 9 तारीख को ऑफिस में गए भारतीय किसान संघ के लोगों को यहां तक बोल दिया कि आप के धरने पर बैठे रहने का मुझ पर कोई असर नहीं है। ऐसे स्थान पर बैठे अधिकारी के लिए ऐसे अशोभनीय शब्द ठीक नहीं है, इसकी भी कैथल के किसान निंदा करते हैं। इससे किसानों का मानना है कि कैथल एसपी किसानों को किसी हुड़दंग बाजी के लिए व रोड जाम करने के लिए उकसा रहे हैं और किसानों के खिलाफ पर्चा दर्ज करने के इंतजार में हैं ऐसे में प्रशासन और सरकार से किसानों को न्याय पाना किसानों के लिए जी का जंजाल बन रहा है। अगर ऐसा ही चलता रहा व जल्दी कार्रवाई नहीं हुई तो भारतीय किसान संघ और गन्ने के किसान मंगलवार और बुधवार तक एक बड़ी पंचायत बुलाकर ठोस निर्णय लेंगे। रणदीप सिंह आर्य ने एसपी कैथल को सुझाव दिया था कि एविडेंस एक्ट 65बी के तहत किसी भी इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर से सर्टिफिकेट लेकर दोषियों को गिरफ्तार कर सकते हैं लेकिन सुझाव देने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई। इससे निष्कर्ष निकलता है कि इन अधिकारियों को किसानों की कोई चिंता नहीं है और केवल चिप घोटाले के दोषियो को बचाने में लगे हुए हैं। इस मौके पर जिलाध्यक्ष सतीश कुमार ग्योंग, जिला उपाध्यक्ष श्री राम मोहना, जिला उपाध्यक्ष पालाराम, प्रेम सिंह खेड़ी राय वाली, जगदीश आर्य खुराना, रकम सिंह, मियां पूर्व सरपँच बलवंती, सूरजभान, रमेश नैना, राजीव नैना, छोटा राम कयोडक, रकम सिंह टीक, ऋषि पाल नैना, महेंद्र फतेहपुर, दीपक वालिया, प्रदीप नरड, गुलाब नरड, कुलविंदर दानीपुर, दरबारा दानीपुर, जरनैल दानीपुर, सनी वालिया, सुखदेव फतेहपुर, रामफल फतेहपुर, महावीर धौंस, विक्रम कयोडक, किसान रकम सिंह, मगर सिंह दयोरा सहित जिले भर के किसान मौजूद रहे।

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
कमीशन खाने वालों को दिखाएंगे बाहर का रास्ता : सुरेंद्र कमांडो
विकिरण से आम जन को बहुत कम खतरा : संदीप पाल
कार ने महिला को कूचला, महिला की मौके पर ही दर्दनाक मौत
विधायक जसविंदर सिंह का पार्थिव शरीर पंचतत्व में हुआ विलिन
घरौंडा नगरपालिका के आदेशों को ठेंगा दिखाते हुये निजी स्कूल में 65 फुट ऊँची बिल्डिंग का अवैध निर्माण जारी
डी ग्रुप भर्ती के परिणाम में कैथल जिले के 1037 लोगों का हुआ चयन
पंचायत में युवक हुए उग्र, सरपंच पर ही बोल दिया हमला गांव गुमथला में
किसानों के धैर्य को कमजोरी समझने की भूल ना करे सरकार: भाकियू
देश व समाज के उत्थान के लिए सभी लोगों को साथ मिलकर आगे बढऩा होगा - राज्यपाल
सोनीपत जेल में विचाराधीन कैदी ने बाथरूम में फंदा लगाकर की आत्महत्या