Friday, February 22, 2019
BREAKING NEWS

Punjab

आठ पुलिस वालों समेत नौ पर केस दर्ज करने के दिए आदेश पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने

January 13, 2019 07:52 PM

 आठपुलिस वालों समेत नौ पर केस दर्ज करने के दिए आदेश पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने

ग्यारह वर्षो के बाद मिला पीडित पुलिसकर्मी के परिवार को इंसाफ


बठिंडा। पंजाब पुलिस अपने ही विभाग केपुलिस कर्मी को इंसाफ न दे पाई तो व्लर्डहयूमन राइटस ने पीडित पुलिस कर्मी केपरिवार को इंसाफ दिलाने के लिए अदालतका दरवाजा खटखटाया। ग्यारह वर्षो कालंबा समय बीत जाने के बाद गत 11जनवरी को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट नेपीडित पुलिस कर्मी के परिवार पर कहरढाहने और परिवार को खुदकुशी के लिएमजबूर करने वाले आठ पुलिस वालों समेतनौ लोगों पर केस दर्ज करने के आदेश दिएहै। अब पीडित परिवार उक्त केस मेंनामजद किए जाने वाले पुलिस वालोंके खिलाफ हत्या का केस दर्ज करवानेके लिए अगली कारवाई करने हेतु फिर सेअदालत में पहुंचेगा ।

जिले के गांव जस्सा सिंह बहमनदीवाना निवासी पंजाब पुलिस के कांस्टेबलगुरजंट सिंह की बेटी हरजीत कौर औरसुखपाल कौर ने बातचीत के दौरानबताया कि वर्ष 2005 में उनके गांव निवासीबूटा सिंह और तेजा सिंह के साथउनके पिता का जमीनी विवाद हो गया था। जिस के बाद बूटा सिंह और तेजा सिंह नेअपने असर रसूख का उपयोग करउनके पिता व परिवार के अन्य सदस्यों परपुलिस के जरीए झुठे केस दर्ज करवाने शुरूकर दिए थे। दोनों युवतियों ने भावुक होतेहुए बताया कि 29 सतंबर 2007 में जब वोअपने पूरे परिवार के साथ घर में टीवी देेखरहे थे तो गांव के ही बूटा सिंह औरतेजा सिंह भारी पुलिस फोर्स के साथ उनकेघर दीवारें फांद कर आ घुसे और आते हीउस समय के इंस्पैक्टर महिंदर कुमार घई,एएसआई अमृतपाल सिंह भाटी ने उनकेसाथ मारपीट शुरू कर दी। दोनों युवतियों नेआरोप लगाया कि जब उन्होंने विरोध करनेका प्रयास किया तो गांव के ही बूटा सिंहऔर तेजा सिंह ने उक्त पुलिस वालों केसाथ मिलकर उनके पिता गुरजंट सिंह औरमाता जसवीर कौर पर केरोसीन तेल छिडककर आग लगा दी। आग बुझाने के लिए जबउन्होंने और उनकी तीन बहनों रामपालकौर, बेअंत कौर, वीरपाल कौर नेप्रयास किया तो वह पांचों बहने भी बूरीतरह आग में झुलस गई। दोनों बहनों नेबताया कि उनके परिवार को आग मेंझुलसता छोडकर उक्त इंस्पैक्टरमहिंदर सिंह घई, एएसआई अमृतपाल सिंहभार्टी पुलिस पार्टी समेत फरार हो गए। दोनोंबहनों ने बताया कि उनको उपचार के लिएउनके पडोसियों ने पहले रामां मंडीअस्पताल फिर बठिंडा में दाखिल करवाया।जहां से उन्हे फरीदकोट भेज दिया गया था।जहां पर उनके पिता गुरजंट सिंह, माताजसवीर कौर की मौत हो गई थी औरउसके दिनों बाद ही उनकी दो बहनों बेअंतकौर और वीरपाल कौर की भी मौत हो गई। जिस के बाद पुलिस ने उल्टा उनके परिवारपर ही विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्जकर दिया। दोनों बहनों ने बताया कि जबबठिंडा के उस समय के जिला सैशन जज नेउक्त मामलें की जांच की तो उक्त पुलिसवालों को आरोपी पाया गया लेकिन उसकेबावजूद भी पुलिस ने उन्हें इंसाफनहीं दिया। जिस के बाद 2007 में वर्ल्डहयूमन राइटस के ‌रंजन लखनपाल ने पंजाबएंड हरियाणा हाई कोर्ट में एक पीआईएलडाली। दोनों बहनों ने आरोप लगाया किजब तक उक्त् केस अदालत में चलता रहातब तक उक्त पुलिस वालें उनको धमकातेरहें। लेकिन अब अदालत ने उनके परिवारके साथ दरिंदगी करने वाले पुलिस वालों परखुदकुशी करने के लिए मजबूर करने केआरोप तहत केस दर्ज करने के आदेशदे दिए है, लेकिन अब वो उक्त पुलिस वालोंपर हत्या का केस दर्ज करवाने के लिएअदालत की शरण में जाएगें।

 

समझोता न करने पर एक बहन का घर टूटा

दोनों बहनों ने बताया कि उनकी बहनरामपाल कौर की शादी 2014 मेंमानसा निवासी एक युवक के साथ हुई थी।उन्होंने बताया कि रामपाल के पति नेएएसआई गुरजंट सिंह के कहने पर उसकीबहन पर राजीनामा करने का दवाब बनायाजब वो नहीं मानी तो उसकी बहन कोससुराल वालों ने छोड दिया।

Have something to say? Post your comment

More in Punjab

सोसाइटी ने 15 गरीब विधवा औरतों को गरम शाल बांटे

बिल्डर ने पैसे के लालच में बरसाती नाले पर ही कब्जा कर काट दिए इंडस्ट्रियल प्लॉट !

एवलांच की चपेट में मरने वाले डेरा बाबा नानक के दोनों युवकों का किया अतिंम संस्कार

जीजा की हत्या के मामले में नामजद आरोपी साला गिरफ्तार,भेजा जेल

सड़क हादसे में पिता-पुत्र की मौत, मां घायल

लिंग निधार्रिन टेस्ट करते हुये रंगे हाथों डॉक्टर समेत 6 लोग काबू

सचिव से किसान बोले- कॉरिडोर के लिये वह फ्री जमीन देने को तैयार मगर सरकार उनके हर सदस्य को सरकारी नौकरी दे

मामला श्री करतारपुर कॉरिडोर के लिये एकवाइर की जाने वाले जमीन की मुआवजा राशि का

बटाला पुलिस ने अंधे कत्ल की गुत्थी को सुलझाया- पिता ही निकला अपने बेटे का हत्यारा,आरोपी पिता गिरफ्तार

खरड़ की महिला ने पुलिस पर अपहरणकर्ता को छोड़ने के लगाए आरोप: