Friday, February 22, 2019
BREAKING NEWS

Business

धराशायी हुआ शेयर,डीएचएफएल में 31,000 करोड़ रुपये के कथित फर्जीवाड़े का आरोप,

January 29, 2019 07:05 PM
धराशायी हुआ शेयर,डीएचएफएल में 31,000 करोड़ रुपये के कथित फर्जीवाड़े का आरोप, 
 
दिल्ली (अटल हिन्द न्यूज )दीवान हाउसिंग फाइनेंस (डीएचएफएल ) में 31,000 करोड़ रुपये की कथित धोखाधड़ी का दावा किए जाने की रिपोर्ट्स के सामने आने के बाद कंपनी का शेयर 11 फीसद तक लुढ़क गया। कोबरापोस्ट के मुताबिक डीएचएफएल और उसकी सहयोगी कंपनियों ने गलत तरीकों का इस्तेमाल करते हुए 31,000 करोड़ रुपये से अधिक की सार्वजनिक संपत्ति का इस्तेमाल निजी संपत्ति बनाने में किया।
 
रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी ने पहले शेल कंपनियों को कर्ज दिए और फिर बाद में उसी रकम को कई संदिग्ध तरीकों से भारत के बाहर जमा किया गया और संपत्तियां खरीदी गईं। कोबरापोस्ट के इस खुलासे से हड़कंप मचा और कंपनी का शेयर 10 फीसद से अधिक तक लुढ़कते हुए एनएसई में 161.30 रुपये के स्तर पर जा पहुंचा, जो 52 हफ्तों का निचला स्तर है। बीएसई में कंपनी का शेयर 11 फीसद तक टूटते हुए 164.50 पर जा पहुंचा। बाद में इसमें कुछ रिकवरी आई और यह 8.1 फीसदी की कमजोरी के साथ 170.05 पर बंद हुआ।

 
खुलासे का असर शेयर बाजार पर भी पड़ा। मंगलवार को सेंसेक्स जहां 60 अंकों से अधिक की गिरावट के साथ बंद हुआ, वहीं निफ्टी ने भी लाल निशान में क्लोजिंग दी। कोबरापोस्ट ने दावा किया है कि डीएचएफएल ने शेल कंपनियों को बड़ी मात्रा में लोन दिए। शेल कंपनियों को लोन देकर कंपनी ने उनकी वसूली को मुश्किल बना दिया क्योंकि इन कंपनियों और निदेशकों के पास कोई संपत्ति नहीं थी।
 
खुलासे के मुताबिक, 'बैंकों ने दीवान हाउसिंग को 37,000 करोड़ रुपये का कर्ज दिया है, जिसमें एसबीआई की हिस्सेदारी सबसे ज्यादा है। एसबीआई ने जहां इस कंपनी को 11,500 करोड़ रुपये का कर्ज दे रखा है वहीं बैंक ऑफ बड़ौदा ने करीब 5,000 करोड़ रुपये का कर्ज दिया हुआ है।' रिपोर्ट के मुताबिक करीब 31 भारतीय और विदेशी बैंकों और कंपनियों ने डीएचएफएल को 97,000 करोड़ रुपये का कर्ज दे रखा है।

Have something to say? Post your comment

More in Business

ब्रास की सुनहरी नक्कासी से बने सोफा सेट से दें घर को शाही अंदाज

आयकर विभाग ने किया जींद ,नरवाना ,और सफीदों में सर्वे

देश की 25 सर्वश्रेष्ठ कंपनियों में चुनी गई एब्रो इंडिया तरावड़ी

मैडम जी ओल्या नै मार दिए सारी फसल बर्बाद हो गी सै। म्हारा किमें समाधान करों

व्यापारियों को आयकर विभाग भेज देता है अनावश्यक टैक्स नोटिस, व्यापारियों ने अधिकारियों के समक्ष जताया ऐतराज

कपास, धान की आवक, भाव बढऩे से मार्केट फीस में हुई 26 प्रतिशत बढ़ोतरी

कपास के भाव 5500 पार होने के बाद कम हुए

खानक में शीघ्र ही लंबी अवधि के टेंडर जारी किए जाएंगे-विपुल गोयल

गेंहू उत्पादक किसान खुश तो आलू व सरसो उत्पादक किसानो के चेहरे पर चिंता की लकीरे

पुरानी पुस्तकें-खरीदने व बेचने के लिए दिया बेहतरीन मंच : डा. ज्योति जुनेजा