Friday, February 22, 2019
BREAKING NEWS

National

एससी-एसटी एक्ट में तुरंत गिरफ्तारी से कोर्ट का इंकार ,19 फरवरी को होगी सुनवाई

January 30, 2019 02:29 PM

 

 
एससी-एसटी एक्ट में तुरंत गिरफ्तारी से कोर्ट का इंकार ,19 फरवरी को होगी  सुनवाई 

 

 नई दिल्ली: (अटल हिन्द न्यूज )एससी-एसटी एक्ट में तुरंत गिरफ्तारी का प्रावधान को जोड़ने के लिए सरकार की ओर किये बदलाव पर फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाने से इनकार कर दिया है। कोर्ट इस मामले में सरकार की ओर से दायर रिव्यू पिटीशन और एससी-एसटी एक्ट 2018 को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर एक साथ 19 फरवरी को सुनवाई करेगा। 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने तुरंत गिरफ्तारी पर रोक लगाई थी। उसके बाद केंद्र सरकार ने पुराना प्रावधान फिर जोड़ा। अब फैसले के खिलाफ सरकार की रिव्यू पिटीशन और कानून में बदलाव को चुनौती पर एक साथ सुनवाई होगी। पिछले 24 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने एससी-एसटी एक्ट में सरकार की ओर से किये गए बदलाव के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए सरकार की ओर से किये गए संशोधन पर फिलहाल रोक लगाने से इनकार कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिकाओं में एससी एसटी एक्ट के मामलों में तुरंत गिरफ्तारी के प्रावधान का विरोध किया गया है। याचिका में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट ने इस एक्ट में तुरंत गिरफ्तारी पर रोक लगाई थी लेकिन सरकार ने बदलाव कर रद्द किए गए प्रावधानों को फिर से जोड़ दिया। 7 सितंबर 2018 को याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने केंद्र सरकार द्वारा एससी-एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के आदेश को निष्प्रभावी करने वाले संशोधन पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था। याचिका वकील प्रिया शर्मा और पृथ्वी राज चौहान ने दायर की है। याचिका में केंद्र सरकार के नए एससी-एसटी संशोधन कानून 2018 को असंवैधानिक बताया गया है। याचिका में कहा गया है कि इस नए कानून से बेगुनाह लोगों को फिर से फंसाया जाएगा। याचिका में मांग की गई है कि सरकार के इस नए कानून को असंवैधानिक करार दिया जाए। याचिका में मांग की गई है कि इस याचिका के लंबित रहने तक कोर्ट नए कानून के अमल पर रोक लगाए। केंद्र सरकार ने इस संशोधित कानून के जरिये एससी एसटी अत्याचार निरोधक कानून में धारा 18 ए जोड़ी है। इस धारा के मुताबिक इस कानून का उल्लंघन करने वाले के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने से पहले प्रारंभिक जांच की जरूरत नहीं है | न ही जांच अधिकारी को गिरफ्तारी करने से पहले किसी से इजाजत लेने की जरूरत है| संशोधित कानून में ये भी कहा गया है कि इस कानून के तहत अपराध करने वाले आरोपी को अग्रिम जमानत के प्रावधान का लाभ नहीं मिलेगा। 20 मार्च 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि एससी एसटी अत्याचार निरोधक कानून में शिकायत मिलने के बाद तुरंत केस दर्ज नहीं होगा। डीएसपी पहले शिकायत की प्रारंभिक जांच करके पता लगाएगा कि मामला झूठा तो नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि एफआईआर दर्ज होने के बाद अभियुक्त को तुरंत गिरफ्तार नहीं किया जाएगा। सरकारी कर्मचारियों की गिरफ्तारी से पहले सक्षम अधिकारी और सामान्य व्यक्ति की गिरफ्तारी से पहले एसएसपी की मंजूरी ली जाएगी।

Have something to say? Post your comment

More in National

हरियाणा पुलिस कांस्टेबल के 500 पद अब सामान्य श्रेणी से भरे जाएंगे

चमत्कारी उम्मीदवारों के सहारे लोकसभा चुनाव की नैया पार करने की तैयारी में भाजपा

हरियाणा में एक साथ नहीं होंगे लोकसभा-विधानसभा चुनाव- सीएम

युवक की चाकुओं से गोदकर हत्या

एसएमसी सदस्यों के प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया

डिपो धारकों का कमीशन 100 रूपए प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 150 रूपए प्रति क्विंटल

मनोज यादव ने पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) का पदभार ग्रहण किया

गुरुकुलों की परीक्षा अब हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड आयोजित करेगा

लाडवा विधानसभा क्षेत्र से शहीद परिवारों के लिए भेजेंगे मदद : गर्ग

शहीदी दिवस के रूप में मनाया जाए 14 फरवरी का दिन