Monday, April 22, 2019
BREAKING NEWS
ललित के समर्थन में 84 पाल ने की पंचायत, टिकट काटने में षड्यंत्र रचा गया निजी स्कूलों को मिली चेतावनी, 23 अप्रैल तक सीटों की जानकारी दें, या अन्यथा होगी कार्रवाईबेकसूर धर्म पाल 3 साल से बंद हॉन्ग कॉन्ग की जेल मेंसैंकड़ों महिला पुरूषों ने एसडीएम कार्यालय का घेराव कर सरकार व पुलिस प्रशासन के खिलाफ जोरदार किया प्रदर्शनकृपया किसी भी पार्टी के प्रत्याशी वोट मांगकर शर्मिंदा न करेंवर्तमान समय में कानूनी साक्षरता का महत्व बढ़ गया है-प्रियंका सोनीकृष्णपाल गुर्जर ने चुनावी सभा में मनमोहन गर्ग को दिया विधानसभा के लिये आशीर्वाद।रोहित लामसर बने बॉडी बिल्डिंग एवं फिटनेस एसोसिएशन के मीडिया प्रभारीकैथल एसपी के साथ कैथल के गणमान्य व्यक्तियों बैठक ,कहा यातायात व्यस्था सुधारने में जनता सहयोग करे ऐलनाबाद-स्कूल संचालिका द्वारा 11वर्षीय छात्र के साथ मारपीट करने का मामला

National

एससी-एसटी एक्ट में तुरंत गिरफ्तारी से कोर्ट का इंकार ,19 फरवरी को होगी सुनवाई

January 30, 2019 02:29 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

 

 
एससी-एसटी एक्ट में तुरंत गिरफ्तारी से कोर्ट का इंकार , 19 फरवरी को होगी  सुनवाई 

 

 नई दिल्ली: (अटल हिन्द न्यूज )एससी-एसटी एक्ट में तुरंत गिरफ्तारी का प्रावधान को जोड़ने के लिए सरकार की ओर किये बदलाव पर फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाने से इनकार कर दिया है। कोर्ट इस मामले में सरकार की ओर से दायर रिव्यू पिटीशन और एससी-एसटी एक्ट 2018 को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर एक साथ 19 फरवरी को सुनवाई करेगा। 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने तुरंत गिरफ्तारी पर रोक लगाई थी। उसके बाद केंद्र सरकार ने पुराना प्रावधान फिर जोड़ा। अब फैसले के खिलाफ सरकार की रिव्यू पिटीशन और कानून में बदलाव को चुनौती पर एक साथ सुनवाई होगी। पिछले 24 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने एससी-एसटी एक्ट में सरकार की ओर से किये गए बदलाव के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए सरकार की ओर से किये गए संशोधन पर फिलहाल रोक लगाने से इनकार कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिकाओं में एससी एसटी एक्ट के मामलों में तुरंत गिरफ्तारी के प्रावधान का विरोध किया गया है। याचिका में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट ने इस एक्ट में तुरंत गिरफ्तारी पर रोक लगाई थी लेकिन सरकार ने बदलाव कर रद्द किए गए प्रावधानों को फिर से जोड़ दिया। 7 सितंबर 2018 को याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने केंद्र सरकार द्वारा एससी-एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के आदेश को निष्प्रभावी करने वाले संशोधन पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था। याचिका वकील प्रिया शर्मा और पृथ्वी राज चौहान ने दायर की है। याचिका में केंद्र सरकार के नए एससी-एसटी संशोधन कानून 2018 को असंवैधानिक बताया गया है। याचिका में कहा गया है कि इस नए कानून से बेगुनाह लोगों को फिर से फंसाया जाएगा। याचिका में मांग की गई है कि सरकार के इस नए कानून को असंवैधानिक करार दिया जाए। याचिका में मांग की गई है कि इस याचिका के लंबित रहने तक कोर्ट नए कानून के अमल पर रोक लगाए। केंद्र सरकार ने इस संशोधित कानून के जरिये एससी एसटी अत्याचार निरोधक कानून में धारा 18 ए जोड़ी है। इस धारा के मुताबिक इस कानून का उल्लंघन करने वाले के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने से पहले प्रारंभिक जांच की जरूरत नहीं है | न ही जांच अधिकारी को गिरफ्तारी करने से पहले किसी से इजाजत लेने की जरूरत है| संशोधित कानून में ये भी कहा गया है कि इस कानून के तहत अपराध करने वाले आरोपी को अग्रिम जमानत के प्रावधान का लाभ नहीं मिलेगा। 20 मार्च 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि एससी एसटी अत्याचार निरोधक कानून में शिकायत मिलने के बाद तुरंत केस दर्ज नहीं होगा। डीएसपी पहले शिकायत की प्रारंभिक जांच करके पता लगाएगा कि मामला झूठा तो नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि एफआईआर दर्ज होने के बाद अभियुक्त को तुरंत गिरफ्तार नहीं किया जाएगा। सरकारी कर्मचारियों की गिरफ्तारी से पहले सक्षम अधिकारी और सामान्य व्यक्ति की गिरफ्तारी से पहले एसएसपी की मंजूरी ली जाएगी।

Have something to say? Post your comment

More in National

मामा-भांजे पर नामांकन के दौरान बरसे अवतार भड़ाना।

फरीदाबाद कांग्रेस में फेरबदल ललित की जगह अवतार होंगे नए उम्मीदबार।

अर्जुन चौटाला रिकार्ड तोड मतों से जीत का परचम लहराऐंगे : दविंद्र बडतौली

गोयल -गुर्जर के हाथ मिलाने से फरीदाबाद का सियासी पारा गर्म

कुरूक्षेत्र की अपराध शाखा-1 के पुलिस दल ने कार्यवाही करते हुए आरोपी को किया गिरफ्तार ।

वकील फरीदाबाद कोर्ट में बैंक स्टाफ की कमी से परेशान - एडवोकेट पाराशर

चुनावी मंच पर पड़ा कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल में थप्पड़।

विधायक टेकचंद शर्मा ने कृष्णपाल गुर्जर के समर्थन में दिखाया दम ।

जिला अध्यक्ष गोपाल शर्मा ने कराए कांग्रेस के कार्यकर्त्ता बीजेपी में शामिल |

बेशर्म राजनेता -मौतों पर दुःख प्रकट करने की बजाए सेंक रहे है राजीनितिक रोटियां