Friday, February 22, 2019
BREAKING NEWS

Punjab

अकाली दल और भाजपा में हुआ समझौता ,सुखबीर बादल में की अमित शाह में मुलाक़ात

February 03, 2019 05:39 PM
अकाली दल और भाजपा में हुआ समझौता ,सुखबीर बादल में की अमित शाह में मुलाक़ात 
 
चंडीगढ़,(अटल हिन्द संवाददाता ) शिरोमणि अकाली दल और भारतीय जनता पार्टी के संबंधों में पैदा खटास समाप्‍त हो गई है। भाजपा ने कुछ मुद्दों पर शिअद के गुस्से के बाद इन्‍हें दूर करने की पहल की है और इसके बाद दोनों दलों के बीच आई दूरी भी फिलहाल खत्‍म हो गई है। बताया जाता है कि भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह और शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल के बीच दिल्ली में हुई मुलाकात के बाद दाेनों दलों के बीच आया गतिरोध दूर हुआ है। अब शिअद की कोर कमेटी पूरे मामले पर विचार के लिए आज बैठक करेगी।अमित शाह व सुखबीर बादल के बीच हुई दो घंटे तक बैठक, नाराजगी वाले मुद्दों को दूर करने का फैसला| अति विश्‍वसनीय सूत्रों के अनुसार अमित शाह और सुखबीर बादल की बैठक शुक्रवार रात नई दिल्‍ली में हुई। बताया जाता है कि उनकी बैठक रात साढ़े सात बजे से लेकर साढ़े नौ बजे तक चली। आखिरकार वे इस नतीजे पर पहुंचे की शिरोमणि अकाली दल को जिन मुद्दों को लेकर भारतीय जनता पार्टी से नाराजगी है वे दूर कर लिए जाएंगे। फैसला किया गया कि दोनों पार्टियों के सीनियर नेताओं को एक साथ बैठा कर लंबित मुद्दों पर बात की जाएगी और इसे संसदीय चुनाव से पहले हल कर लिया जाएगा।
 
शिरोमणि अकाली दल तख्त श्री हजूर साहब के प्रबंधकीय बोर्ड में प्रधान पद को लेकर महाराष्ट्र सरकार द्वारा किए गए संशोधन से नाराज है। इस संशोधन के अनुसार प्रधान का चयन बोर्ड के सदस्य न करके महाराष्‍ट्र सरकार करेगी। याद रहे कि 2016 में फणडवीस सरकार ने 1956 के एक्ट में संशोधन करके प्रधान चुनने का अधिकार सरकार के पास ले लिया। इससे पहले 17 सदस्यीय बोर्ड ही अपने प्रधान का चयन करता था जिसमें विभिन्न राज्यों से एक एक प्रतिनिधि इसमें सदस्य है।
 
श्री हजूर साहिब प्रबंधकीय बोर्ड में संशोधन हो सकता है वापस
अब माना जा रहा है कि जल्द ही महाराष्ट्र सरकार द्वारा श्री हजूर साहब प्रबंधकीय बोर्ड में यह संशोधन को वापस ले लिया जाएगा। काबिले गौर है कि इस मामले में आरएसएस की संस्था राष्ट्रीय सिख संगत हस्तक्षेप कर रही थी। इससे शिरोमणि अकाली दल में खासी नाराजगी थी। दोनों पार्टियों के नेताओं ने इस मामले में एक दूसरे से बात भी करनी चाही। लेकिन,बताया जाता है कि भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रधान अमित शाह द्वारा अकाली नेताओं को समय नहीं दिए जाने के कारण उनमें नाराजगी और बढ़ गई। इस बात को लेकर शिअद के कुछ नेताओं ने राजग से संबंध तोड़ने तक का बयान दे दिया। इतना ही नहीं मोदी सरकार द्वारा पेश किए गए बजट पर भी शिअद ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। यही नहीं पार्टी ने 3 फरवरी को श्री आनंदपुर साहब में अपनी कोर कमेटी की मीटिंग भी बुला ली जिसमें संबंधों को बनाए रखने संबंधी फैसला किया जाना था।

Have something to say? Post your comment

More in Punjab

सोसाइटी ने 15 गरीब विधवा औरतों को गरम शाल बांटे

बिल्डर ने पैसे के लालच में बरसाती नाले पर ही कब्जा कर काट दिए इंडस्ट्रियल प्लॉट !

एवलांच की चपेट में मरने वाले डेरा बाबा नानक के दोनों युवकों का किया अतिंम संस्कार

जीजा की हत्या के मामले में नामजद आरोपी साला गिरफ्तार,भेजा जेल

सड़क हादसे में पिता-पुत्र की मौत, मां घायल

लिंग निधार्रिन टेस्ट करते हुये रंगे हाथों डॉक्टर समेत 6 लोग काबू

सचिव से किसान बोले- कॉरिडोर के लिये वह फ्री जमीन देने को तैयार मगर सरकार उनके हर सदस्य को सरकारी नौकरी दे

मामला श्री करतारपुर कॉरिडोर के लिये एकवाइर की जाने वाले जमीन की मुआवजा राशि का

बटाला पुलिस ने अंधे कत्ल की गुत्थी को सुलझाया- पिता ही निकला अपने बेटे का हत्यारा,आरोपी पिता गिरफ्तार

खरड़ की महिला ने पुलिस पर अपहरणकर्ता को छोड़ने के लगाए आरोप: