Sunday, April 21, 2019
BREAKING NEWS
फुरलक गांव में जोहड़ के घाट में धांधली लोकसभा आम चुनाव जीतने के लिए बनी भाजपा नेताओं की रणनीति -23 मई का चुनाव परिणाम विस चुनाव की पटकथा लिखेगा 23 कन्याओं के विवाह का साक्षी बनेगा शहर नरवानाचेतावनी- गली में कोई लीडर वोट मांगने न आये, नोटा का बटन दबाकर नेताओं का करेंगे विरोधलोकसभा चुनाव को लेकर बाबैन में निकाला फ्लग मार्चमिस ब्यूटीफुल का ताज सजा वैशाली व अंशप्रीत के सिर परनहर में कूदे देश के तीसरे बड़े चावल एक्सपोर्टर रोहित गर्ग का शव मिला ,रोहित और साक्षी के बीच हुआ था झगड़ा?हरियाणा के सभी वकीलों का टोल फ्री हो: जयहिन्दकलायत-सरकारी स्कूलों में पढ़ेंगे शिमला गांव के बच्चे पंचायत ने शुरू किया अभियानकलायत सोसाइटी सदस्यों का आरोप, कैथल सोसाइटी को लाभ पहुंचाने के लिए प्रबंधक कर रहा अपनी शक्तियों का दुरुपयोग

Business

कपास, धान की आवक, भाव बढऩे से मार्केट फीस में हुई 26 प्रतिशत बढ़ोतरी

February 06, 2019 04:57 PM
अटल हिन्द ब्यूरो


पौने दो करोड़ से अधिक बढ़ी इस बार मार्केट फीस
उचाना।
इस बार कपास, धान की आवक बीते साल से अधिक रहने, फसल के भाव भी बीते साल से अधिक मिलने से मार्केट कमेटी की मार्केट फीस में बढ़ोतरी हुई है। सीजन की शुरूआत से कपास, धान के भाव किसानों को बीते साल से अधिक मिल रहे है। किसानों की उम्मीद के अनुरूप बेशक भाव इस बार न मिले हो लेकिन बीते साल से अधिक भाव फसलों के रहे है। किसानों को कपास के भाव छह हजार रुपए तक, धान 1121 के भाव चार हजार तक पहुंचने की उम्मीद सीजन में थी। कपास के भाव 5200 रुपए प्रति क्विंटल से 5500 रुपए प्रति क्विंटल रहे तो धान 1121 के भाव भी 3500 रुपए प्रति क्विंटल के आस-पास रहे। दोनों फसलों के भाव बीते साल की अपेक्षा सीजन की शुरूआत से बीते साल की अपेक्षा अधिक किसानों को मिले है।
मार्केट कमेटी सचिव जोगिंद्र सिंह ने बताया कि अब तक 9 करोड़ 16 लाख 47 हजार मार्केट फीस आ चुकी है। बीते साल अब तक 7 करोड़ 29 लाख 94 हजार रुपए फीस आई थी। इस साल 1 करोड़ 86 लाख 53 हजार रुपए की फीस अधिक आई है। अब तक कपास की 3 लाख 24 हजार 320 क्विंटल फसल आ चुकी है जबकि बीते साल 2 लाख 53 हजार 790 क्विंटल कपास आई थी। बासमति धान की अब तक 1 लाख 74 हजार क्विंटल फसल आई थी। बीते साल 1 लाख 49 हजार क्विंटल बासमति आई थी।
किसान रामसरूप, दलबीर, बलजीत, रामकुमार ने कहा कि इस बार फसल की सीजन की शुरूआत से बीते साल की अपेक्षार भाव तो अधिक मिले है लेकिन किसानों को जो उम्मीद थी उससे कम भाव फसलों के रहे है। इस बार फसल का उत्पादन भी किसानों की उम्मीद से कम हुआ है। ऐसे में फसलों के भाव अधिक मिलते तो कुछ हद तक आर्थिक रूप से किसानों को फायदा मिलता।

Have something to say? Post your comment

More in Business

10 लाख 35 हजार का चेक बाउंस होने पर 6 महीने की सजा

कैथल आढ़तियों की हड़ताल तुड़वाने के लिए एस डी एम ईशा कम्बोज हुई सक्रिय

लाइसेंस रिन्यू नही हुये तो शनिवार 13 अप्रैल से सरकार के खिलाफ कमेटी प्रांगण में अनिश्चितकालीन धरना

टूटे प्रधानगिरी के दो धड़े, उद्योगपत्तियों ने नाथीराम को घोषित किया मंडी प्रधान

लोकसभा चुनाव 2019: वोट डालकर आने पर पेट्रोल पंप पर मिलेगी छूट, जानें पूरा ऑफर

1 रुपये में रेडमी नोट 7 प्रो खरीदने का शानदार मौका

कर्मचारियों की ड्यूटी चुनाव में ,क्या गेहूं की खरीद सीधे हो पाएगी

ओटीटी क्षेत्र में क्षेत्रीय सामग्री की कमी ,दर्शक अब टीवी की तुलना में मीडिया स्ट्रीमिंग पर अधिक समय दे रहे हैं

करोड़ों की जीएसटी की चोरी, कारोबारी गिरफ्तार

फ्री मोबाईल सर्विस कैंप का आयोजन