Friday, February 22, 2019
BREAKING NEWS

Business

कपास, धान की आवक, भाव बढऩे से मार्केट फीस में हुई 26 प्रतिशत बढ़ोतरी

February 06, 2019 04:57 PM


पौने दो करोड़ से अधिक बढ़ी इस बार मार्केट फीस
उचाना।
इस बार कपास, धान की आवक बीते साल से अधिक रहने, फसल के भाव भी बीते साल से अधिक मिलने से मार्केट कमेटी की मार्केट फीस में बढ़ोतरी हुई है। सीजन की शुरूआत से कपास, धान के भाव किसानों को बीते साल से अधिक मिल रहे है। किसानों की उम्मीद के अनुरूप बेशक भाव इस बार न मिले हो लेकिन बीते साल से अधिक भाव फसलों के रहे है। किसानों को कपास के भाव छह हजार रुपए तक, धान 1121 के भाव चार हजार तक पहुंचने की उम्मीद सीजन में थी। कपास के भाव 5200 रुपए प्रति क्विंटल से 5500 रुपए प्रति क्विंटल रहे तो धान 1121 के भाव भी 3500 रुपए प्रति क्विंटल के आस-पास रहे। दोनों फसलों के भाव बीते साल की अपेक्षा सीजन की शुरूआत से बीते साल की अपेक्षा अधिक किसानों को मिले है।
मार्केट कमेटी सचिव जोगिंद्र सिंह ने बताया कि अब तक 9 करोड़ 16 लाख 47 हजार मार्केट फीस आ चुकी है। बीते साल अब तक 7 करोड़ 29 लाख 94 हजार रुपए फीस आई थी। इस साल 1 करोड़ 86 लाख 53 हजार रुपए की फीस अधिक आई है। अब तक कपास की 3 लाख 24 हजार 320 क्विंटल फसल आ चुकी है जबकि बीते साल 2 लाख 53 हजार 790 क्विंटल कपास आई थी। बासमति धान की अब तक 1 लाख 74 हजार क्विंटल फसल आई थी। बीते साल 1 लाख 49 हजार क्विंटल बासमति आई थी।
किसान रामसरूप, दलबीर, बलजीत, रामकुमार ने कहा कि इस बार फसल की सीजन की शुरूआत से बीते साल की अपेक्षार भाव तो अधिक मिले है लेकिन किसानों को जो उम्मीद थी उससे कम भाव फसलों के रहे है। इस बार फसल का उत्पादन भी किसानों की उम्मीद से कम हुआ है। ऐसे में फसलों के भाव अधिक मिलते तो कुछ हद तक आर्थिक रूप से किसानों को फायदा मिलता।

Have something to say? Post your comment

More in Business

ब्रास की सुनहरी नक्कासी से बने सोफा सेट से दें घर को शाही अंदाज

आयकर विभाग ने किया जींद ,नरवाना ,और सफीदों में सर्वे

देश की 25 सर्वश्रेष्ठ कंपनियों में चुनी गई एब्रो इंडिया तरावड़ी

मैडम जी ओल्या नै मार दिए सारी फसल बर्बाद हो गी सै। म्हारा किमें समाधान करों

व्यापारियों को आयकर विभाग भेज देता है अनावश्यक टैक्स नोटिस, व्यापारियों ने अधिकारियों के समक्ष जताया ऐतराज

धराशायी हुआ शेयर,डीएचएफएल में 31,000 करोड़ रुपये के कथित फर्जीवाड़े का आरोप,

कपास के भाव 5500 पार होने के बाद कम हुए

खानक में शीघ्र ही लंबी अवधि के टेंडर जारी किए जाएंगे-विपुल गोयल

गेंहू उत्पादक किसान खुश तो आलू व सरसो उत्पादक किसानो के चेहरे पर चिंता की लकीरे

पुरानी पुस्तकें-खरीदने व बेचने के लिए दिया बेहतरीन मंच : डा. ज्योति जुनेजा