Thursday, April 18, 2019
BREAKING NEWS
अखबार सप्लायर के साथ मारपीट व लूटपाट कर जान से मारने की धमकीकैथल-जब सिर पर छत ही नहीं रहेगी तो कैसा मतदान, कैसा लोकतंत्र ?चुनाव बहिष्कार की चेतावनीमंडी में गंदगी होने पर गेहूं उतारने में आ रही दिक्कत से परेशान किसानों में भारी रोषभिवानी-महेेंद्रगढ लोकसभा से आरपीआई पार्टी के प्रत्याशी कूंदन चौधरी ने अपना नामाकंन पर्चा दाखिल किया।प्राईवेट बस, ट्राला व कम्बाईन आपस में टकराय ,3 बच्चों सहित लगभग 2 दर्जनों लोग घायल बेटी से बड़ा कोई धन नहीं: गर्ग वर्ष का हर दिन कंजक पूजन के रूप में मनाएं: संदीप गर्गलोकसभा चुनाव से बिजेन्द्र और भव्य हिसार से रख रहे हैं राजनीति में पहला कदमसांसद रमेश कौशिक पत्रकारों और जनता के समर्थन के बिना आप कुछ भी नहीं हो बेशर्म राजनेता -मौतों पर दुःख प्रकट करने की बजाए सेंक रहे है राजीनितिक रोटियां

World

यूएस के विद्यार्थी सीखेगें भारतीय संस्कार व शिक्षा पद्धति

February 06, 2019 06:19 PM
रणबीर रोहिल्ला

यूएस के विद्यार्थी सीखेगें भारतीय संस्कार व शिक्षा पद्धति
जेम्स मेडीसन विश्वविद्यालय की टीम ने किया डीसीआरयूएसटी का दौरा
रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत। अमेरिका के विद्यार्थी भारतीय संस्कार और शिक्षा पद्धति सीखने के लिए भारत आएंगे। अमेरिका जेम्स मेडीसन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर का मानना है कि सीखने के लिए भारत देश सर्वोत्तम है। उन्होंने भारत की वैदिक शिक्षा पद्धति की प्रशंसा की। डीसीआरयूएसटी के साथ जेम्स मेडीसन विश्वविद्यालय जल्द एमओयू करेगा। अमेरिका के हैरिसनबर्ग में स्थित जेम्स मेडीसन विश्वविद्यालय के सहायक शैक्षणिक अधिष्ठाता प्रो. स्टीव परसेल, सहायक प्रोफेसर स्मिता माथुर व क्रिस्टोफर वाइली की टीम ने दीनबंधू छोटूराम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय मुरथल का दौरा किया। उन्होंने विश्वविद्यालय की शिक्षा पद्धति के बारे में गहन जानकारी प्राप्त की। इस दौरान उन्होंने विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों से भी बातचीत की। सहायक प्रोफेसर माथुर ने कहा कि भारत में विद्यार्थी शिक्षा के साथ-साथ भारतीय संस्कार सीखते हैं। इसके साथ साथ मेडिटेशन करते हैं, जिससे शांति मिलती है। शांति शिक्षा के लिए आवश्यक है। उन्होंने कहा कि भारत की वैदिक शिक्षा पद्धति बेहतरीन शिक्षा पद्धति थी। गुरूकुल परंपरा में गुरू निर्देश देता था और विद्यार्थी अभ्यास करते थे। विश्वविद्यालय में स्थित सेवरा में विद्यार्थियों द्वारा गरीब बच्चों को दी जा रही शिक्षा की भी जेम्स मेडिसन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ने तारीफ की। कुलपति प्रो. राजेंद्र कुमार अनायत ने कहा कि जेम्स मेडीसन विश्वविद्यालय की तरफ से डीसीआरयूएसटी के साथ एमओयू की इच्छा प्रकट की गई है। सहमति पत्र पर हस्ताक्षर होने से दोनों देश के विद्यार्थियों को एक दूसरे की संस्कृति को जानने का अवसर मिलेगा। शिक्षा पद्धति में एक दूसरे के अनुभव से दोनों देशों को लाभ मिलेगा। अमेरिका के विद्यार्थियों को भी भारत की शिक्षा पद्धति से और भारतीय विद्यार्थियों को अमेरिका की शिक्षा पद्धति से काफी कुछ सीखने को मिलेगा। उन्होंने कहा कि केवल ज्ञान ही बांटने से बढता है। इस अवसर पर रजिस्ट्रार प्रो. अनिल खुराना, प्रो. जेएस. सैनी, प्रो. आर.सी. नोटियाल, प्रो. सुजाता राणा, प्रो. राजबीर सिंह, प्रो. चित्ररेखा काबरे, प्रो. ज्योति शर्मा पाण्डेय, प्रो. किरण नेहरा, प्रो. अजय मोंगा व डा. सीमा चावला उपस्थित थे।

Have something to say? Post your comment

More in World

सऊदी अरामको की नजर आरआईएल के रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल की 25 फीसदी हिस्सेदारी पर, बातचीत जारी

एफिल टावर को टक्कर देने वाली इमारत में लगी भीषण आग, अपने ट्वीट से घिरे डोनाल्ड ट्रंप

बीआरआई फोरम बैठक का फिर बहिष्कार कर सकता है भूटान, भारत का देगा साथ

फिर ठुकराया भारत ने चीन का न्योता , बीआरआई में नहीं होगा शामिल

अमेरिका से आई 15 साल की छात्रा रेहा जैन,बदल गया मन अब करेगी ये काम

पिहोवा के गांव नैंसी गांव का मर्चेंट नेवी कैप्टन अशोक कुमार तेल तस्करी के आरोप में ईरान में गिरफ्तार

फ्लाइट में ये क्या पहन कर आ गई लड़की…कहना पड़ा…ढक लो या उतर जाओ…

बहनों ने कर ली अपने भाई से शादी..अब दोनों एक साथ मां बनी,

जेल में जब मेरे स्तन काटे गए !

ज्योतिसर का 5 हजार वर्ष पुराना वट वृक्ष देख गदगद हुई अमेरिका की शिक्षिका रेबिका पोलार्ड़