Saturday, February 16, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
आयकर विभाग ने किया जींद ,नरवाना ,और सफीदों में सर्वे पूर्व चेयरमैन यशपाल प्रजापति सहित 10 पार्षदों ने वीरवार को नगर परिषद परिसर में धरना दिया आप की खुट्टा पाड़ रैली की जगह होगी शहीद श्रद्धांजलि सभा : जयहिन्दशर्मनाक -44 जवानों को शहादत को भूल ,कांग्रेस के मंच पर लगे ठुमके आम आदमी पार्टी की खुट्टा पाड़ रैली की जगह होगी शहीद श्रद्धांजलि सभाबिल्डर ने पैसे के लालच में बरसाती नाले पर ही कब्जा कर काट दिए इंडस्ट्रियल प्लॉट !दीपेंद्र का विजयरथ रोकनें के लिए भाजपा में कशमकश,नहीं मिल पा रहा जिताऊ उम्मीदवारलोकसभा में पुराने चेहरे तो विधानसभा चुनावों में युवा चेहरों को मिल सकती है तव्वजो
 
 
Fashion/Life Style

व्यर्थ समझ फेंकी जाने वाली लकड़ी को उपयोगी वस्तुओं में तब्दील कर रहे अरशद

अटल हिन्द ब्यूरो | February 08, 2019 07:22 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

लकड़ी के छोटे से छोटे व्यर्थ टुकड़े को भी दिया गिफ्टा आईटम का सुंदर रूप
व्यर्थ समझ फेंकी जाने वाली लकड़ी को उपयोगी वस्तुओं में तब्दील कर रहे अरशद
पिहोवा 8 फरवरी
लकड़ी के छोटे से छोटे टुकड़े को भी बेहतरीन सुंदर रूप प्रदान कर लोगों के लिए उपयोगी बनाया जा सकता है, यदि इस अनूठी कला के दर्शन करने हों तो आपको अंतर्राष्ट्रीय सरस्वती महोत्सव-2019 के तहत आयोजित शिल्प मेले का भ्रमण करना होगा। यहां उत्तरप्रदेश के सहारनपुर जिले से आये अरशद व्यर्थ समझी जाने वाली लकडिय़ों को आकर्षक रूप में प्रदर्शित कर रहे हैं।
अरशद बताते हैं कि व्यर्थ पड़ी लकडिय़ों को तराशने का प्रयास किया तो एक से बढकऱ एक सुंदर आकृतियां बनने लगी। बस फिर वे पीछे नहीं हटे। उन्होंने बेकार समझ कर फेंकी जाने वाली लकडिय़ों के टुकड़े, फट्टियों, डंडियों, पेड़ की गांठ-जड़ आदि को एकत्रित करना शुरु कर दिया। इसके बाद अपनी कल्पनाशक्ति तथा प्रतिभा के बल पर उन्होंने व्यर्थ की लकडिय़ों को उपयोगी वस्तुओं में परिवर्तित करना प्रारंभ कर दिया। अंतर्राष्ट्रीय सरस्वती महोत्सव के शिल्प मेले में आरिफ ने अपनी इस कला को प्रदर्शित किया है। छोटी से छोटी लकड़ी के टुकडों को उन्होंने चाबी के छल्लों, अंग्रेजी के अक्षर, रसोई के सामान तथा महिलाओं-युवतियों की श्रंगार वस्तुओं का रूप दिया है। इनकी यहां अच्छी मांग है। लकड़ी के थोड़े बड़े टुकड़ों से वे रसोईघर के अन्य सामानों का रूप दे रहे हैं। कुछ और बड़ी लकडिय़ां मिलती हैं तो उसकी सहायता से दिवार घड़ी तथा मूढ़े एवं बैठने की वस्तुएं बना रहे हैं। लकड़ी की फट्टियों से वे कुर्सियां भी बना रहे हैं।
इसके अलावा वे लकड़ी का फर्नीचर बनाने में महारत रखते हैं। यहां उन्होंने 20 हजार रुपये से लेकर 1 लाख 20 हजा रुपये की कीमत तक के सोफे भी प्रदर्शित किये हुए हैं। इसके अलावा डायनिंग टेबल, झूले, बैड, झूला कुर्सियों का अच्छा खजाना देखा जा सकता है। वे कहते हैं कि उन्हें अपनी शिल्पकला का प्रदर्शन करने के लिए कुरुक्षेत्र गीता महोत्सव व सरस्वती महोत्सव का बेसब्री से इंतजार रहता है। अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्स्व व सरस्वती महोत्सव जैसे मेले शिल्पकारों के लिए एक संजीवनी है।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Fashion/Life Style News
युवती ने नन्दोई पर रेप का आरोप जड़ किया ब्लैकमेल
बेटियां समाज की सबसे बड़ी पूंजी, बढ़ाती है सम्मान : दीपक सहारण
ऋषिकेश की दीया पांडेय चुनी गई फैशन एक्स क्वीन
फैशन डिजायनिंग में स्वर्णिम भविष्य निर्माण की अपार संभावना : ललिता
ब्यूटी-पार्लर की कार्यशाला के दूसरे दिन सुशीला ने छात्राओं को फेशियल करना सिखाया
जींद प्रशासन ने रूकवाई नाबालिग लडके की शादी
रंगीला हरियाणा देश की खातिर जान लुटा दे ना सीखा डर जाणा
कल से शुरू होगा 12 स्थित हूडा कंनेंशन सेंटर में चार दिवासीय थियेटर फेस्टिवल
साइकिल चलाने से बचेगा पर्यावरण-अजय क्रांतिकारी
बुलबुल ने सम्भाली गुरू की पदवी,पहनाया गया सोने का ताज