Saturday, February 16, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
आयकर विभाग ने किया जींद ,नरवाना ,और सफीदों में सर्वे पूर्व चेयरमैन यशपाल प्रजापति सहित 10 पार्षदों ने वीरवार को नगर परिषद परिसर में धरना दिया आप की खुट्टा पाड़ रैली की जगह होगी शहीद श्रद्धांजलि सभा : जयहिन्दशर्मनाक -44 जवानों को शहादत को भूल ,कांग्रेस के मंच पर लगे ठुमके आम आदमी पार्टी की खुट्टा पाड़ रैली की जगह होगी शहीद श्रद्धांजलि सभाबिल्डर ने पैसे के लालच में बरसाती नाले पर ही कब्जा कर काट दिए इंडस्ट्रियल प्लॉट !दीपेंद्र का विजयरथ रोकनें के लिए भाजपा में कशमकश,नहीं मिल पा रहा जिताऊ उम्मीदवारलोकसभा में पुराने चेहरे तो विधानसभा चुनावों में युवा चेहरों को मिल सकती है तव्वजो
 
 
Uttar Pradesh

HC की फटकार, सांसदों-विधायकों पर क्यों नहीं लागू करते नई पेंशन स्कीम अच्छी है तो

अटल हिन्द ब्यूरो | February 09, 2019 10:00 AM
अटल हिन्द ब्यूरो
HC की फटकार, सांसदों-विधायकों पर क्यों नहीं लागू करते नई पेंशन स्कीम अच्छी है तो
(अटल हिन्द संवाददाता )
प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर राज्य कर्मचारी की हड़ताल पर राज्य सरकार के रवैए की तीखी आलोचना की है और पूछा है कि, बिना कर्मचारियों की सहमति के उनका अंशदान शेयर में सरकार कैसे लगा सकती है। कोर्ट ने पूछा है कि क्या सरकार असंतुष्ट कर्मचारियों से काम ले सकती है। यही नहीं कोर्ट ने कहा है कि यदि नई पेंशन स्कीम अच्छी है तो इसे सांसदों और विधायकों की पेंशन पर क्यों नहीं लागू किया जाता है।
 
कोर्ट ने कहा कि, सरकार लूट खसोट वाली करोड़ों की योजनाएं लागू करने में नहीं हिचकती और उसे 30 से 35 साल की सेवा के बाद सरकारी कर्मचारियों को पेंशन देने में दिक्कत हो रही है। कोर्ट ने पूछा कि, सरकार को क्या कर्मचारियों को न्यूनतम पेंशन देने का आश्वासन नहीं देना चाहिए। सांसदों, विधायकों को बिना नौकरी के सरकार पेंशन दे रही है तो लंबी नौकरी के बाद कर्मचारियों को क्यों नहीं दे रही। कोर्ट ने कहा कि सांसद विधायक तो वकालत समेत अन्य व्यवसाय भी कर सकते हैं फिर भी वे पेंशन के हकदार हैं। कोर्ट ने कहा कि, कर्मचारियों की हड़ताल से सरकार का नहीं लोगों का नुकसान होता है। कोर्ट में पेश कर्मचारी नेताओं को कोर्ट ने अपनी शिकायत व पेंशन स्कीम की खामियों को 10 दिन में ब्यौरे के साथ पेश करने को कहा और सरकार को इस पर विचार कर 25 फरवरी तक हलफनामा देने का निर्देश दिया है।
 
यह आदेश जस्टिस सुधीर अग्रवाल और जस्टिस राजेंद्र कुमार की खंडपीठ ने राजकीय मुद्रणालय कर्मियों की हड़ताल से हाईकोर्ट की काजलिस्ट न छपने से न्याय प्रशासन को पंगु बनाने पर कायम जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया है। कोर्ट ने राज्य सरकार से जानना चाहा कि पुरानी पेंशन स्कीम की मांग मानने में क्या कठिनाई है। यदि नई स्कीम इतनी अच्छी है तो अन्य लोगों पर क्यों नहीं लागू करते । शेयर में लगाने के बाद पैसा डूबा तो इसका जिम्मेदार कौन होगा। कोर्ट ने पूछा कि क्या सरकार को न्यूनतम पेंशन नहीं तय करना चाहिए। कोर्ट में पेश कर्मचारी नेताओं के अधिवक्ता टीपी सिंह ने बताया कि हड़ताल खत्म हो गई है। राजकीय मुद्रणालय में काम शुरू हो गया है। सरकार कर्मचारियों की मांगों पर विचार नहीं कर रही है । 2005 से नई पेंशन स्कीम लागू की गई है। जिस पर कर्मचारियों को गहरी आपत्ति है।
 
Have something to say? Post your comment
 
More Uttar Pradesh News
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को एयरपोर्ट पर रोकने के विरोध में सड़कों पर उतरे सपा समर्थक, अमेठी में फूंका गया सीएम योगी का पुतला
उत्तरप्रदेश की राजनीति में प्रियंका गांधी का धमाकेदार दस्तक
जेल में कैदियों की बुध्दि शुध्दि के लिये किया गया हवन
कुशीनगर और सहारनपुर में पचासों मौतों के बाद जागा शाहजहांपुर का अबकारी महकमा
तकनीकी और प्रौद्योगिकी परक शिक्षा से हमारा देश होगा विकसित राष्ट्र : पूर्व विधायक राधेश्याम कनौजिया
बीमा के 24 लाख हडपने के लालच में भाई ने ही कर दी भाई की हत्या -- सुभाष शाक्य
डीएम ने भूख हड़ताल पर बैठे बाबाजी को जूस पिलाकर खत्म कराई हड़ताल
जगदीशपुर में सपा की मासिक बैठक, लोकसभा चुनाव को लेकर हुयी चर्चा
कलान थाना प्रभारी हरेंद्र सिंह को किया लाइन हाजिर
प्राथमिक विद्यालय के बच्चे भी ले सकेंगे स्मार्ट क्लास का लाभ