Tuesday, March 19, 2019
BREAKING NEWS
व्हाट्स योर मोबाइल नंबर ? बता रहे है मदन गुप्ता सपाटू, ज्योतिर्विद्,छतरपुर आरटीओ ने मिश्रा बस को किया जप्तइनेलो और आप के सपने हुए तार -तार चुनावी गठबंधन नहीं होने का भुगतना पड़ेगा बड़ा खामियाजाप्रदेश में हुड्डा ही पार्टी का बड़ा चेहरा होंगे , कांग्रेस ने हुड्डा की कप्‍तानी में बनाई हरियाणा की खास टीम 15 भृष्ट संकुल प्राचार्य पर लगे शिक्षक व शिक्षिकाओं से को परेशान करने के आरोपभारतीय पत्रकार कल्याण मंच ने मनाया होली मिलन समारोह, प्रदेश भर से शामिल हुए पत्रकार*कर्मगढ़ गांव में शहीद रमेश कुमार लाइब्रेरी का उद्घाटन शिक्षा ही सबसे बड़ा धन-रामनिवास सुरजाखेड़ा हरियाणा में 10 लोकसभा सीटों पर खिलेगा कमल-कृष्ण बेदीकाग्रेस नेत्री विद्या रानी दनोदा ने किए गांवों के दौरे ेदेश व प्रदेश में काग्रेस लहराएगी परचम-विद्या रानी दनोदा क्षमता से अधिक भंडारण पाए जाने पर राजस्व बिभाग की टीम ने की कार्यवाही

National

पूर्व खेल निदेशक जगदीप सिंह ने किया फर्जीवाड़ा ,बेटा ,बेटी को दिलवाई 60 लाख की पुरस्कार राशि -जांच रिपोर्ट

March 14, 2019 09:30 PM
राजकुमार अग्रवाल
पूर्व खेल निदेशक जगदीप सिंह ने किया फर्जीवाड़ा , बेटा , बेटी को दिलवाई 60 लाख की पुरस्कार राशि  -जांच रिपोर्ट 
 
 
 
चंडीगढ़(राजकुमार अग्रवाल ) हरियाणा के आईएएस  अधिकारी एवं पूर्व खेल निदेशक जगदीप सिंह, उनके अंतरराष्ट्रीय निशानेबाज बेटे विश्वजीत सिंह और बेटी गौरी श्योराण की मुश्किलें बढ़ गई हैैं। खेल विभाग से हाल ही में हटाए गए प्रधान सचिव अशोक खेमका की एक जांच रिपोर्ट में विश्वजीत और गौरी को 60 लाख रुपये की पुरस्कार राशि के फर्जी दावे पेश करने तथा पिता जगदीप सिंह के प्रभाव के चलते अत्यधिक पुरस्कार राशि हासिल करने का आरोपित ठहराया गया है।आईएएस जगदीप सिंह कांग्रेस कांग्रेस सरकार में शिक्षा मंत्री रह चुके बहादुर सिंह के बेटे हैैं। बहादुर सिंह अब जननायक जनता पार्टी में शामिल हो गए। जगदीप सिंह पहले एचसीएस अधिकारी थे। पदोन्नत होकर आईएएस बने जगदीप सिंह फिलहाल वित्त विभाग में कार्यरत हैं।
 
 
 
 
अशोक खेमका ने अपनी जांच रिपोर्ट में तत्कालीन खेल निदेशक, उनके बेटे और बेटी तीनों को धोखाधड़ी करने का आरोपित ठहराते हुए उनके खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमे दर्ज करने की सिफारिश की है।गौरी और विश्वजीत को पिछले दिनों भीम अवार्ड भी प्रदान किया जा चुका है। खेमका ने अपनी रिपोर्ट में सरकार को सुझाव दिया है कि दोनों से खिलाड़ियों के सर्वोच्च भीम पुरस्कार, प्रमाण पत्र, भीम प्रतिमा, ब्लेजर, टाई और स्कार्फ भी वापस लिया जा सकता है।अशोक खेमका ने सरकार को सलाह दी कि गलत ढंग से हासिल की गई राशि को 12 प्रतिशत वार्षिक ब्याज की दर से वापस लेकर सरकारी खजाने में जमा कराया जाए। खेल मंत्री अनिल विज ने इस जांच रिपोर्ट को मंजूरी देते हुए मुख्यमंत्री को भेजा।
 
 
 
 
 
मुख्यमंत्री ने तीनों से एक पखवाड़े के भीतर जवाब मांगने के निर्देश दिए हैैं।अशोक खेमका की जांच रिपोर्ट के मुताबिक गौरी श्योराण को 43 लाख रुपये की अतिरिक्त पुरस्कार राशि और 2013-16 के दौरान विश्वजीत सिंह को 17 लाख रुपये का भुगतान किया गया। तब जगदीप सिंह खेल निदेशक थे।अशोक खेमका की जांच रिपोर्ट में गौरी व विश्वजीत को भीम पुरस्कार भी गलत ढंग से दिए जाने की बात कही गयी है। इस पुरस्कार को पाने के लिए न्यूनतम 50 अंक की आवश्यकता होती है। बताया गया कि गौरी श्योराण की स्कोरिंग शीट ने उन्हें टीम श्रेणी में 84 अंक दिलाए थे, जबकि स्वीकृत स्कोरिंग योजना के अनुसार उनका भीम अवार्ड स्कोर 37 अंक था। इसी तरह, विश्वजीत सिंह के मामले में उनकी स्कोर शीट ने उन्हें टीम श्रेणी में 60 अंक दिए, जबकि उनका स्कोर 18 अंक था। जगदीप सिंह का कहना है कि अकेले निदेशक भीम पुरस्कार देने में सक्षम नहीं होता।
 
 
 
 
जब भीम पुरस्कार मेरे बच्चों को दिया गया, तो मैं उस समिति से हट गया था।जगदीप सिंह ने इस रिपोर्ट को खारिज करते हुए कहा कि वह सरकार के समक्ष अपना जवाब पेश करेंगे। उनके अनुसार मेरी बेटी गौरी ने 24 अंतरराष्ट्रीय पदक जीते हैं और 33 अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लिया है। हाल ही में उन्हें विश्वविश्वविद्यालय चैंपियनशिप में पुरस्कार मिला। उसके पास 85 राष्ट्रीय पदक हैं। बेटे विश्वजीत के पास 12 अंतरराष्ट्रीय और 50 राष्ट्रीय पदक हैैं। दोनों ही राष्ट्र का गौरव हैैं। कोई भी गलत तरीके से राज्य सरकार के पैसे का दावा कैसे कर सकता है। जगदीप सिंह के अनुसार न केवल मेरे बच्चे, बल्कि मैैं आश्वस्त कर सकता हूं कि हरियाणा के एक भी खिलाड़ी को गलत तरीके से कोई पैसा नहीं दिया गया।इस जांच रिपोर्ट पर मुख्यमंत्री के ओएसडी टूर आलोक वर्मा ने अशोक खेमका से कुछ सवाल-जवाब भी किए थे, जिनका जवाब देते हुए खेमका ने कहा है कि हम कानून के शासन द्वारा निर्देशित होते हैं और सार्वजनिक ट्रस्टी के रूप में कार्य करते हैं... हमारे प्रधानमंत्री भी खुद को देश का चौकीदार कहकर सार्वजनिक जीवन में सार्वजनिक विश्वास के मूल्य पर जोर दे रहे हैं।

Have something to say? Post your comment

More in National

विपुल गोयल ने होली मिलन समारोह में विधायक टेकचंद शर्मा की जमकर तारीफ की।

विपुल गोयल ने होली मिलन में टेकचंद शर्मा की जमकर तारीफ की।

"प्रभु! मैं लंका जला कर आ रहा हूँ।"

सी-विजिल यानि नागरिक सतर्कता एप निष्पक्ष और पारदर्शी चुनाव करवाने में अहम भूमिका निभाएगा- प्रियंका सोनी

जो बिना होनहार है उनका भी निकालेंगे कोई राह: बीरेंद्र सिंह

विवेक गर्ग को मिलेगा राष्ट्रीय प्रामेरिका स्पिरिट ऑफ कम्युनिटी अवार्ड

हरियाणा के जाट होने लगे भाजपा के खिलाफ लामबंद

सेना का इलेक्‍ट्रीशियन निकला आईएसआई जासूस, पाक को भेजी खुफिया जानकारी

हरियाणा कांग्रेस की समन्यवय कमेटी की से पहले हो सकती है कार्यकारी अध्यक्षों की घोषणा

सत्ताधारी, विपक्षी, अधिकारियों ने माफियाओं से मिलकर अरावली को लुटवाया