Thursday, April 18, 2019
BREAKING NEWS
अखबार सप्लायर के साथ मारपीट व लूटपाट कर जान से मारने की धमकीकैथल-जब सिर पर छत ही नहीं रहेगी तो कैसा मतदान, कैसा लोकतंत्र ?चुनाव बहिष्कार की चेतावनीमंडी में गंदगी होने पर गेहूं उतारने में आ रही दिक्कत से परेशान किसानों में भारी रोषभिवानी-महेेंद्रगढ लोकसभा से आरपीआई पार्टी के प्रत्याशी कूंदन चौधरी ने अपना नामाकंन पर्चा दाखिल किया।प्राईवेट बस, ट्राला व कम्बाईन आपस में टकराय ,3 बच्चों सहित लगभग 2 दर्जनों लोग घायल बेटी से बड़ा कोई धन नहीं: गर्ग वर्ष का हर दिन कंजक पूजन के रूप में मनाएं: संदीप गर्गलोकसभा चुनाव से बिजेन्द्र और भव्य हिसार से रख रहे हैं राजनीति में पहला कदमसांसद रमेश कौशिक पत्रकारों और जनता के समर्थन के बिना आप कुछ भी नहीं हो बेशर्म राजनेता -मौतों पर दुःख प्रकट करने की बजाए सेंक रहे है राजीनितिक रोटियां

World

फिर ठुकराया भारत ने चीन का न्योता , बीआरआई में नहीं होगा शामिल

April 08, 2019 06:30 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

एक बार फिर ठुकराया भारत ने चीन का न्योता , बीआरआई में नहीं होगा शामिल

भारत ने चीन के उस न्योते को ठुकरा दिया है जिसमें उसने बेल्ट एंड रोड फोरम की इस महीने होने वाली दूसरी बैठक में शामिल होने के लिए भारत को आधिकारिक निमंत्रण भेजा था। भारत ने इससे पहले 2017 में हुई पहली बैठक का भी बहिष्कार किया था।
भारत का इसे लेकर साफ कहना है कि चीन की यह योजना उसकी संप्रभुता का उल्लंघन करती है। पाकिस्तान के साथ मिलकर चीन ने चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर (सीपीईसी) बनाया है जो विवादित गिलगित-बलिस्तान क्षेत्र से होकर गुजरती है।
चीन को उम्मीद थी कि भारत बीआरआई को लेकर अपने फैसले पर पुनर्विचार करेगा और इसमें हिस्सा लेगा। पिछले साल दोनों देशों के संबंधों में आए बदलाव के बाद उसे उम्मीद थी कि भारत इस बार बैठक में शामिल जरूर होगा। अप्रैल 2018 को वुहान में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अनौपचारिक बैठक की थी। जिससे लग रहा था कि भारत बैठक में अपना प्रतिनिधि भेजेगा।

बैठक में हिस्सा लेने के लिए चीनी अधिकारियों ने विदेश मंत्रालय को पिछले महीने निमंत्रण भेजा था लेकिन भारत ने सीपीईसी को लेकर जारी अपनी चिंता को फिर दोहराया। माना जा रहा है कि बीजिंग स्थित भारतीय दूतावास से पर्यवेक्षक के तौर पर भी कोई इस कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लेगा।

वुहान बैठक से आए रिश्तों में सुधार पर चीन ने उस समय दरार डालने का काम किया जब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के रास्ते में अड़ंगा लगाया। जैश वही संगठन है जिसने 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली थी।
जैश के आतंकी आदिल अहमद डार ने सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाया था। जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। यह चौथी बार था जब चीन ने अजहर पर लगने वाले बैन के रास्ते को रोका था। चीन के इस कदम ने भारत को सोचने पर मजबूर कर दिया है कि वह जूनियर लेवल (कनिष्ठ स्तर) पर भी इस कार्यक्रम का हिस्सा बने या नहीं। इस कार्यक्रम में राज्य और सरकार के 40 मुखिया हिस्सा लेंगे जिसमें रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भी शामिल हैं।

बता दें कि बीआरआई बैठक ऐसे समय पर हो रही है जब चीन परियोजना के ढांचे पर काम शुरू कर रहा है। भारत एशिया का अकेला ऐसा देश नहीं है जो इस परियोजना का विरोध कर रहा है। श्रीलंका, मालदीव और पाकिस्तान भी दूसरे देशों में चीनी ढांचों के निर्माण का विरोध करते रहे हैं।

क्या है आपके लिए खास
भारत सरकार ने बीआरआई में शामिल न होकर एक बार फिर से इस बात को स्पष्ट कर दिया है कि वह भारत की एकता, अखंडता और संप्रुभता को प्रभावित करने वाले किसी कार्यक्रम का हिस्सा नहीं बनेगा। चीन की सीपीईसी योजना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से होकर गुजरती है जिसका भारत विरोध करता रहा है। इसके अलावा चीन की कर्ज देने की नीति का भारत सहित बहुत से विश्लेषक विरोध कर रहे हैं क्योंकि यह एक तरह का औपनिवेशिककरण है।

Have something to say? Post your comment

More in World

सऊदी अरामको की नजर आरआईएल के रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल की 25 फीसदी हिस्सेदारी पर, बातचीत जारी

एफिल टावर को टक्कर देने वाली इमारत में लगी भीषण आग, अपने ट्वीट से घिरे डोनाल्ड ट्रंप

बीआरआई फोरम बैठक का फिर बहिष्कार कर सकता है भूटान, भारत का देगा साथ

अमेरिका से आई 15 साल की छात्रा रेहा जैन,बदल गया मन अब करेगी ये काम

पिहोवा के गांव नैंसी गांव का मर्चेंट नेवी कैप्टन अशोक कुमार तेल तस्करी के आरोप में ईरान में गिरफ्तार

फ्लाइट में ये क्या पहन कर आ गई लड़की…कहना पड़ा…ढक लो या उतर जाओ…

बहनों ने कर ली अपने भाई से शादी..अब दोनों एक साथ मां बनी,

यूएस के विद्यार्थी सीखेगें भारतीय संस्कार व शिक्षा पद्धति

जेल में जब मेरे स्तन काटे गए !

ज्योतिसर का 5 हजार वर्ष पुराना वट वृक्ष देख गदगद हुई अमेरिका की शिक्षिका रेबिका पोलार्ड़