Thursday, April 18, 2019
BREAKING NEWS
अखबार सप्लायर के साथ मारपीट व लूटपाट कर जान से मारने की धमकीकैथल-जब सिर पर छत ही नहीं रहेगी तो कैसा मतदान, कैसा लोकतंत्र ?चुनाव बहिष्कार की चेतावनीमंडी में गंदगी होने पर गेहूं उतारने में आ रही दिक्कत से परेशान किसानों में भारी रोषभिवानी-महेेंद्रगढ लोकसभा से आरपीआई पार्टी के प्रत्याशी कूंदन चौधरी ने अपना नामाकंन पर्चा दाखिल किया।प्राईवेट बस, ट्राला व कम्बाईन आपस में टकराय ,3 बच्चों सहित लगभग 2 दर्जनों लोग घायल बेटी से बड़ा कोई धन नहीं: गर्ग वर्ष का हर दिन कंजक पूजन के रूप में मनाएं: संदीप गर्गलोकसभा चुनाव से बिजेन्द्र और भव्य हिसार से रख रहे हैं राजनीति में पहला कदमसांसद रमेश कौशिक पत्रकारों और जनता के समर्थन के बिना आप कुछ भी नहीं हो बेशर्म राजनेता -मौतों पर दुःख प्रकट करने की बजाए सेंक रहे है राजीनितिक रोटियां

Punjab

पंजाब में 118 नेताओं के लोकसभा चुनाव लड़ने पर चुनाव आयोग ने लगाई रोक

April 10, 2019 06:34 PM
अटल हिन्द ब्यूरो
पंजाब में 118 नेताओं के लोकसभा चुनाव लड़ने पर चुनाव आयोग ने लगाई रोक
चंडीगढ़(अटल हिन्द ब्यूरो ) लोकसभा चुनाव  2019 के चलते  चुनाव आयोग ने पंजाब के 118 नेताओं के  चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया है। ये नेता पिछली बार चुनाव लड़े थे और चुनाव खर्च का ब्‍योरा नहीं दिया था। इन्‍होंने आयोग को पिइस बारे में कोई संतोषजनक जवाब भी नहीं दिया था। इसके बाद आयोग ने इन्हें चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य करार दिया गया है। ये नेता अब तीन साल तक चुनाव नहीं लड़ पाएंगे।चुनाव आयोग ने सभी जिला चुनाव अफसरों को यह सूची भेज दी है। आगामी 19 मई को होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन प्रक्रिया शुरू होने पर चुनाव अधिकारी आयोग इन नेताओं के नामांकन नहीं लेगा या फिर नामांकन पत्रों की जांच के समय नामांकन खारिज कर देगा।जिन उम्मीदवारों के चुनाव लड़ने पर रोक लगाई गई है, उनमें ज्यादातर आजाद लड़ने वाले हैं, जबकि कुछ छोटी पार्टियों के हैं। चुनाव आयोग ने द रिप्रेजेंटेशन ऑफ पीपुल एक्ट 1951 की धारा 10ए के तहत इन नेताओं के चुनाव लड़ने पर रोक लगाई है। इस धारा के मुताबिक चुनाव खर्च के बारे में जानकारी न देना अयोग्यता का आधार बनता है। अगर उम्मीदवार ने तय वक्त पर इस एक्ट के मुताबिक चुनाव खर्चे की जानकारी नहीं दी या फिर उसके बारे में मांगे गए स्पष्टीकरण का संतोषजनक जवाब नहीं दिया तो ऐसे उम्मीदवार के आदेश के तीन साल तक चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी जाती है।चुनाव आयोग द्वारा चुनाव अफसरों को भेजी गई नेताओं की इस सूची में पहले नंबर पर लुधियाना जिला है, जहां 26 नेताओं को अयोग्य करार दिया गया है। इसके बाद 17 नेताओं के साथ संगरूर दूसरे और 15 नेताओं के साथ जालंधर तीसरे स्थान पर है। वहीं 11 उम्मीदवारों के साथ अमृतसर चौथे स्थान पर है।इनके अलावा पठानकोट से तीन, गुरदासपुर से चार, तरनतारन से नौ, कपूरथला से छह, मोहाली से पांच, मोगा से चार, फिरोजपुर के तीन, श्री मुक्तसर साहिब से एक, बठिंडा के तलवंडी साबो से एक, मानसा से तीन, बरनाला के धूरी से दो, पटियाला से पांच, फतेहगढ़ साहिब से दो, फरीदकोट से एक नेता शामिल है। इनमें 94 नेताओं की तीन साल की रोक 7 जून 2019 को खत्म हो रही है लेकिन चुनाव अप्रैल-मई में हो रहे हैं। वहीं, 24 नेताओं पर यह रोक आठ अक्टूबर 2021 तक जारी रहेगी।

Have something to say? Post your comment

More in Punjab

अकाली दल ने बठिंडा के डीपीआरओ तथा मानसा के एपीआरओ के खिलाफ भी शिकायत दी

महिलाओं से अवैद्घ संबंधों से तंग आकर पत्नी और बेटे ने मिलकर करवाया था कत्ल,पत्नी,बेटे समेत आठ लोग गिरफ्तार

मामला कांग्रेसी सरपंच नवदीप सिंह की हत्या का मृतक सरपंच के अभिभावक अस्पताल में चार घंटे पोस्टमार्टम होने का इंतजार करते रहे

कांग्रेसी सरपंच पर बार-बार कार चढ़ाकर मौत के घाट उतारा,दो घायल

हथियारों के साथ सोशल मीडिया पर फोटो अपलोड करने वालों की अब खैर नही

इमीग्रेशन कंपनी के मालिक ने पत्नी व दो बच्चों सहित की खुदकशी

यू-ट्यूब पर ‌असलाह बनाने की तकनीक सीखी फिर खुद हथियार बना डाले

पिता अपने दोनों बच्चों समेत ट्रेन के आगे कूदा, पिता-पुत्र की मौत

पडोसन ने कहा तेरी अपतिजनक वीडियों वाइरल हो रही है तो विवाहिता ने जहरीली चीज निगल ली,हालत नाजुक

विदेश भेजने के नाम पर 9 लाख 25 हजार रूपये ठगे