Monday, January 21, 2019
Follow us on
Entertainment

चार माह तक नही गूंजेेंगी शहनाइयां

एएच ब्यूरो | July 03, 2017 09:13 PM
एएच ब्यूरो

चार माह तक नही गूंजेेंगी शहनाइयां
( पोहड़का)

ऐलनाबाद
इस वर्ष मांगलिक कार्यों की खूब धूम रही। जून माह मेेंं सबसे अधिक विवाह हुए है। जुलाई में विवाह के कार्यक्रम देवशयनी से पूर्व तक रहेंगे। ऐसे मेंं विवाह के कार्य तीन दिन शेष है। इस के बाद देवउठनी ग्यारस तक मांगलिक कार्यो मेंं विराम लग जाएगा। पंडित रामरतन सारस्वा एवं पंडित महावीर शर्मा ने बताया कि देवशयनी एकादशी चार जुलाई को है। इसके साथ ही मांगलिक कार्यक्रमों पर विराम लग जाएगा। इस दिन विशाखा नक्षत्र, सिद्ध योग मेंं तुला, वृृश्चिक के मध्य से वृश्चिक राशि मेंं गमन चन्द्र मेेंं विष्णु शयनोत्सव होगा। क्षीर सागर मेंं चार मास तक विष्णु भगवान विश्राम के लिए जाएंगे। इसके साथ ही सभी देवी देवता भी विश्राम करेंगे। उन्होंने बताया कि ऐसी मान्यता है कि देवशयन के दौरान प्रभु विश्राम करते है। किसी भी शुभ व मांगलिक कार्यक्रम मेंं देवी-देवताओं की उपस्थिति से कार्य की सम्पन्नता मानी जाती है। इस लिए देवशयन में कार्यक्रम नहीं किए जाते। 31 अक्टूबर को देवउठनी एकादशी के दिन भगवान जागेगें। इस चार माह में मांगलिक व शुभ कार्य वर्जित होगें। इस दौरान पूजन भजन कीर्तन एवं कथाश्रवण का विशेष महत्व माना जाता है। इस समय भगवान की कथा के कार्यक्रम होगें। उन्होंने बताया कि इन चार माह में श्रावण मास मेंं शिव पूजन इसके बाद जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी, नवरात्रि जैसे महत्वपूर्ण पर्व व त्योहार मनाए जाएंगे।
बॉक्स:-
नवंबर व दिसंबर में है ये सावे :-
देवउठनी एकादशी के बाद वैवाहिक कार्यक्रम पुन: शुरू हो जाएंगे। इस वर्ष के अंतिम दो माह मेें भी खूब शहनाइयां बजेंगी। नवंबर में छह 19, 20, 23, 28 एवं 29 तथा दिसंबर मेंं सात 3,4,8,9,10,11 एवं 12 विवाह के मुहुर्त है। इन तिथियों मेंं विवाह के कार्यक्रम होगें।

Have something to say? Post your comment
More Entertainment News
20 साल बडे जीजा के साथ करवाई रही थी 15 वर्षीय नाबालिग लडक़ी की शादी, शादी रूकी
फिल्में दिलाऐंगी मुल्तानी भाषा को अलग पहचान : रमेश मल्हौत्रा
मेहनत पहुंचाएगी टीवी के परदे पर : बीरबल खोसला
जर्मनी के कलाकारों के मुख से भी निकला एंडी हरियाणा
मशहूर हरियाणवी सिंगर मासूम शर्मा कल कैथल में
दुनिया में अश्लील पोस्टर नहीं लगेंगे। अश्लील किताबें नहीं छपेगी
उम्र के आखिरी पड़ाव में समझ आई प्यार की कीमत, ‘‘द लास्ट डिसीजन’’ने दिया संदेश
स्कूलो में बच्चों की एक कलास थियेटर की भी लगनी चाहिए- अभिनेता यशपाल शर्मा।
बहु ने कहा-मेरे ससुर ने मुझे वो दिया जो पति नही दे पाया, सुहागरात से अबतक ससुर ही मेरे काम आए…?
नचले इंडिया 3 के नेशनल लेवल का हुआ आयोजन।