Monday, March 25, 2019
BREAKING NEWS
हरियाणा शिक्षा बोर्ड के चैयरमैन नेतृत्व में परीक्षा केंद्रों पर टीम का छापा26 से 28 मार्च तक हॉकी टूर्नामेंट का आयोजन मकान मालिक ने गांव के ही कुछ लोगों पर आग लगाने का आरोप लगायापुलिस ने रिफाइनरी के तीन अधिकारियों सहित टैंकर मालिक व चालक खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज ,धरना प्रदर्शन करने के मामले में भी मामला दर्जआचार संहिता के उल्लंघन में 342 शिकायतें मिली 334 शिकायतों का निश्चित समय में निपटानअगर यूपी में हंगामा होता तो मार देता गोली: कलराज मिश्रकौन हैं असली गद्दार ???? 1857 की क्रांति में अंग्रेजों का साथ देने वाले भोग रहे सत्ताखुदाई के दौरान मिट्टी में दबे 10 मजदूर, 2 महिला मजदूरों की मौके पर हुई मौत,8 घायलमै भी चौकीदार नही, हम भी भगत सिंह – जयहिन्दचौकीदार कहने वाले जनता के हितेषी नहीं : अभय चौटाला

Entertainment

बरकत" गाने के माध्यम से युवाओं ने दिखाई किसान की पीड़ा

July 12, 2017 06:16 PM
प्रदीप दलाल

बरकत" गाने के माध्यम से युवाओं ने दिखाई किसान की पीड़ा

बरकत गाने को यू ट्यूब पर बरकत गाने को लाखों लोगों ने देखा

युवाओं ने कहा हरियाणवी कल्चर को जिंदा करना है उनका उद्देश्य

 

कैथल(प्रदीप दलाल) पूरे विश्व के लिए अन्न पैदा वाले किसान के हाथ हमेशा खाली के खाली रह जाते हैं। धरतीपुत्र किसानों की पीड़ा से हमारे देश में हर कोई वाकिफ है, इसी पीड़ा को समझते हुए कुछ युवाओं ने इसे हरियाणवी गाने का रुप दिया है। जिसमें किसानो के जमीनी हालात को दिखाया गया है। उन्होंने इस गाने को बरकत नाम दिया है, क्योंकि किसान की जिंदगी में कभी बरकत नहीं होती। उसी बरकत के लिए वह ना जाने कितनी मेहनत करता है लेकिन उसके बाद भी सरकार की अनदेखी और प्रकृति की मार से हमेशा उसे जूझना पड़ता है और अंत में वह हारकर अपनी जिंदगी को ही खत्म कर लेता है। इसी असलियत को इन युवाओं ने एक गाने के माध्यम से प्रस्तुत किया है। बरकत गाने कि इस वीडियो को यूट्यूब पर लाखों लोग देख चुके हैं और शेयर कर चुके हैं। युवाओं ने गाने की धुन को हरियाणवी ट्रेडिशन राग में बनाया है और वीडियो को सिनेमेटिक लुक दिया है। सोशल मीडिया पर लोग युवाओं द्वारा बनाए गए गाने बरकत की खूब तारीफ कर रहे हैं। सभी युवाओं ने इस गाने के लिए खास मेहनत की थी जो युवाओं द्वारा बनाए गए वीडियो सॉन्ग में दिखाई भी देती है। इन युवाओं का यही कहना है कि वर्तमान समय में हरियाणवी गानों में अश्लीलता और फूहड़ता को परोसा जाता है लेकिन उन्होंने अपने गाने के माध्यम से कोशिश की है कि वह किसान की जमीनी हकीकत को दिखा सकें। इस गाने का निर्देशन आदित्य रोहिला ने किया है और गाने को अपनी आवाज दी है विक्रम मलिक और आदित्य रोहिला ने, गाने का यूजिक आदित्य और रविंद्र सिंह रवि ने दिया है। इसके बोल और डायरेक्शन मोहन बेताब ने की है। जबकि गाने की एडिटिंग एमपी सेगा, पंकज शाह और अमन गिल ने की है। डीओपी कहर रंधावा और भूपिंदर सिंह की है। गाने के प्रोड्यूसर दिनेश जांगड़ा और गुरमीत चौधरी हैं।

Have something to say? Post your comment

More in Entertainment

बिना दहेज केवल 1 रुपया लेकर भाजपा नेत्री के बेटे ने कर ली शादी

स्टूडेंट बिना बुलाए शादी या पार्टियों में खाना खाने पहुंचे तो कार्रवाई होगी

दो युवतियों ने आपस में समलैंगिक शादी

प्रयास मैंटली चिल्ड्रन स्कूल एंव ओपन शैल्टर होम मेंहोली उत्सव मनाया

होली खुशी और रंगों का त्यौहार, मनाएं सादगी से : उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी

युवा बोले : जोर जबरदस्ती नही बल्कि प्यार और शालीनता का त्यौहार है होली

देवर-भाभी के रिश्तो की मिठास का प्रतीक होली,

जीवीएम में बरसे होली के रंग, छात्राओं संग शिक्षिकाएं हुई रंगों से सराबोर

कवि कुमार विश्वास ने खूब कसे नेताओं पर व्यंग

रोहतक में चल रहा था सैक्स रकेट,विदेशी युवती सहित 5 गिरफ्तार