Thursday, January 17, 2019
Follow us on
Literature

भगवान शंकर ने भस्मासुर को भेंट किया भस्म कंगण

July 18, 2017 07:07 PM
भगवान शंकर ने भस्मासुर को भेंट किया भस्म कंगण 
लाडवा, 18 जुलाई(संजय गर्ग): प्रसिद्व महशिवपुराण कथा वाचक राकेश कुमार गौतम ने कहा कि शंकर भगवान इतने भोले हंै कि एक बार एक असुर द्वारा उनकी भक्ति करने पर उसे भस्म कंगण ही भेंट में दे दिया था। 
राकेश कुमार गौतम श्री बालाजी शक्तिपीठ धाम में आयोजित 8 दिवसीय महाशिवपुराण कथा के तीसरे दिन की कथा में भस्मासुर की कथा सुना रहे थे। उन्होंने बताया कि एक बार भस्मासुर राक्षस ने भगवान शंकर की पूजा-अराधना व तपस्या की। जिससे प्रसन्न होकर भगवान शंकर ने उसे वरदान के रूप में एक ऐसा कंगण दिया कि उसे जिसके भी सिर के ऊपर से घुमाया जाए तो वह तुरंत भस्म हो जाए। परंतु भस्मासुर ने कंगण प्राप्त करते ही उसे भगवान शंकर पर ही अजमानें का प्रयास किया था। जिस पर भगवान शंकर को भी काफी परेशानियां उठानी पड़ी थी। वहंी उन्होंने अमरकथा सुनाते हुए कहा कि एक बार जब शंकर भगवान ने पार्वती को अमरकथा सुनाई तो वह एक शुकशावक ने भी सुन ली और वह अगले जन्म में शुकदेव मुनि के रूप में विख्यात हुए। गौतम द्वारा गाए गए भजनों पर श्रद्वालु झूमने पर विवश हो गए। वहीं आचार्य अखिलेश शास्त्री ने भी शिव महिमा का गुणगान किया। इस अवसर पर मंदिर प्रबंधक जितेन्द्र शास्त्री, विजय गोयल, विजय मितल, विकास शर्मा, डा. अशोक बंसल, बिजेश शर्मा, शुभम गर्ग, भावना गर्ग, गीता आनन्द, शिवानी गर्ग, आशा ढ़ीगड़ा, कृष्णा गोयल, सविता रानी, सुनीता ढ़ीगड़ा, उषा वधवा सहित भारी संख्या में श्रद्वालु उपस्थित थे। 
Have something to say? Post your comment
More Literature News
अबकि बार मकर संक्रांति पर्व 14 जनवरी नहीं बल्कि 15 जनवरी को ही मान्य - पं. रामकिशन
सांई के जीवन से साधारण इंसान को अच्छा मनुष्य बनने में प्रेरणा मिलती है : सुमित पोंदा
कैथल में पूजा अर्चना के साथ हुआ श्री साई अमृत कथा का शुभारंभ
बोले सो निहाल-सत श्री अकाल धर्म हेत साका जिन किया, शीश दीया पर सिर न दिया
हजरत इलाही बू अली शाह कलंदर साहिब की दरगाह पर इन्द्री में चल रहें सालाना उर्स मुबारक व भंडारे पर आज एक विशेष शोभा-यात्रा
पूर्वाचलियों को छठ पूजा की बधाई देने आधा दर्जन स्थानों पर पहुंचे मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार
15 नवंबर को मनाया जाएगा शाह कलंदर का सालाना उर्स
5 नवंबर से दीवाली के पंच पर्व आरंभ
बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है: अचल मुनि 2
सोनीपत-बाबा जिन्दा मेले में हजारों भक्तों ने माथा टेका