Tuesday, March 26, 2019
BREAKING NEWS
लव-अफेयर गाने का केस बना विवाद , कार्रवाई कैसे हो, पुलिस को धारा नहीं पतामनोहर की चुनावी गूंज, पानीपत की धरती में इस तरह हुआ स्वागतपार्टी उम्मीदवार की मृत्यु के बाद अगर नामांकन वापिस नहीं लिया जाता तो मतदान की प्रक्रिया स्थगित कर दी जाएगी।हरियाणा विधानसभा में नेता विपक्ष को लेकर कांग्रेस में गुटबंदी , किरण व कुलदीप सहित कई दावेदारगांव झुम्पा कलां का है मामला, ग्रामीणों का मर चुका जमीरवैश्य समाज ने फरीदाबाद से भी माँगी भाजपा की टिकटसीएम बनाओगे तो लडूंगा चुनाव -बीरेंद्र फरीदाबाद औषधि नियंत्रण विभाग ने छापा मारकर अवैध मेडिकल स्टोर का पर्दाफाश किया नोटबंदी और जी.एस.टी. ने देश की अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ी : अजादकरनाल मेरठ रोड पर दर्दनाक सड़क हादसा,2 की मौत

Business

मशरूम की खेती बनी किसानों के लिए फायदे का सौदा

December 02, 2016 03:18 PM
General
मशरूम की खेती बनी किसानों के लिए फायदे का सौदा---------------------
बेराजगार युवा व किसानों के लिए मार्गदर्शक बनें रजवन्त सिंह----------------------
 
बाबैन 2 दिसम्बर (राकेश शर्मा) लगातार बढ़ रही महगांई ओर प्राकृतिक आपदाओं का शिकार हो रही खेती आज किसानों के लिए घाटे का सौदा बनती जा रही है। इस घाटे ओर नुकशान को देखते हुए अब किसान गेहु व धान की खेती छोडकर अब मशरूम की खेती ओर अग्रसर हो रहे है कुछ ऐसा ही कार्य कर रहे बाबैन क्षेत्र के गांव बीड़ मगौली के रहने वाले छोटे से किसान ने जो कारनामा किया है वह आज किसानों ओर बेराजगार युवाओं के लिए मार्गदर्शक बन गये है। वैसे तो रजवन्त सिंह काफी समय से हलवाई का काम करता है लेकिन उस काम को छोड़कर खुम्ब की खेती पर अपनी किस्मत अजमायी ओर सफल हो गये। रजवन्त सिंह का कहना है उसने बेकार पड़े कमरे में लोहे की राडो के सहारे पौलोथिन में बेकार पड़ी पराली की भुस्सी ओर नारियल की भुस्सी से कार्य शुरू किया ओर दस से पन्द्रह दिनों में खुम्ब तैयार हा जाती हैै ओर उसे बेचकर वह हर महीने 10 से 12 हजार रूपये कमा लेता है जिससे वह बेहद खुश है। रजवन्त सिंह का कहना है यदि छोटे किसान इस तरह से खुम्ब का उत्पादन करे तो उनकी भी पौ बारह हो जायेगी जिससे उनके सामने अन्य विकल्प खुल जाएगें।  
 
खुम्ब खाने से क्या क्या है फायदे---------------
खुम्ब को मशरूम भी कहा जाता है ओर इसमें उतना ही प्रोटीन होता है जिसना मांस में होता है मिली जानकारी के अनुसार इसमें लाईसिन नामक एमिनों अम्ल की अधिकता रहती है। साथ ही खनिज लवण विटामिन बी, सी, ओर डी पर्याप्त मात्रा मे मिलता है। यह मधुमेह, रक्तचाप, कब्ज, मोटापा व हदय रोग के अलावा अन्य बिमारीयों में भी लाभदाय है। जो छोटे बच्चों से लेकर बूढ़ो तक के फायदेमंद होता है।  

Have something to say? Post your comment

More in Business

फ्री मोबाईल सर्विस कैंप का आयोजन

पतंजलि दूध न बेंचने के लिए दबाव बनाने लगे अमूल दूध वाले

बगैर लाईसैंस गोदाम में रखे थे 595 बैग यूरिया, कृषि विभाग ने किया सील

आठ करोड़ का देनदार एक्सपोर्टर काबू ,जेल भेजा

कृष्ण मित्तल ने सुरेश चौधरी को हरा कर नई अनाज मंडी कैथल की प्रधानगी मिली

राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने किसानों का आह्वान किया कि सभी किसान प्रकृति से जुड़े और प्राकृतिक खेती को अपनाएं

आईटीआई पास छात्रों का 8 मार्च को होगा आईटीआई उमरी में कैम्पस साक्षात्कार का आयोजन 

सीए डी.सी.गर्ग चार्टर्ड एकाउटेन्टस की फरीदाबाद शाखा के चेयरमैन नियुक्त

बजट में सभी का ख्याल रखा गया है: राजन मुथरेजा

बजट की पक्ष ने की सराहना तो विषक्ष ने नकारा