Tuesday, March 26, 2019
BREAKING NEWS
लव-अफेयर गाने का केस बना विवाद , कार्रवाई कैसे हो, पुलिस को धारा नहीं पतामनोहर की चुनावी गूंज, पानीपत की धरती में इस तरह हुआ स्वागतपार्टी उम्मीदवार की मृत्यु के बाद अगर नामांकन वापिस नहीं लिया जाता तो मतदान की प्रक्रिया स्थगित कर दी जाएगी।हरियाणा विधानसभा में नेता विपक्ष को लेकर कांग्रेस में गुटबंदी , किरण व कुलदीप सहित कई दावेदारगांव झुम्पा कलां का है मामला, ग्रामीणों का मर चुका जमीरवैश्य समाज ने फरीदाबाद से भी माँगी भाजपा की टिकटसीएम बनाओगे तो लडूंगा चुनाव -बीरेंद्र फरीदाबाद औषधि नियंत्रण विभाग ने छापा मारकर अवैध मेडिकल स्टोर का पर्दाफाश किया नोटबंदी और जी.एस.टी. ने देश की अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ी : अजादकरनाल मेरठ रोड पर दर्दनाक सड़क हादसा,2 की मौत

Entertainment

..तू सामने आता है तो तेरा सजदा कर लेता हूं

November 06, 2017 06:20 PM
रणबीर रोहिल्ला
..तू सामने आता है तो तेरा सजदा कर लेता हूं
विजय वर्धन की कविताओं और पदमजीत अहलावत के मुरथल यूनिवर्सिटी के सभागार में आयोजित हुआ कार्यक्रम सजदा
फोटो  06एसएनपी1 : सोनीपत। विजय वर्धन की शायरी कार्यक्रम में मौजूद शायर। 
रणबीर  रोहिल्ला, सोनीपत। न नमाज आती है मुझे न वजू आता है, तू सामने आता है तो तेरा सजदा कर लेता हूं। मशहूर शायर मोहम्मद अली जहूर की इन लाइनों को जब वरिष्ठ आईएएस अधिकारी विजय वर्धन ने पेश किया तो दीनबंधु छोटूराम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्विद्यालय के सभागार में मौजूद हजारों लोगों की भीड़ ने वाहवाही के साथ उनका स्वागत किया। रविवार शाम को यूनिवर्सिटी में यह मौका था विजय वर्धन की शायरी और मशहूर गायक पदमजीत अहलावत के गीतों की जुगलबंदी का। 
मशहूर शायर गुलजार साहब के साथ हुई बातचीत को शब्दों में बयां करते हुए वर्धन ने कहा कि दो लब्ज कागज पर उतार कर चीख भी लेता हूं और आवाज भी नहीं आती। उन्होंने कहा कि कुछ लम्हे हमेशा जिंदा रहते हैं बूढ़े नहीं होते रिश्तों की तरह, उनके चेहरे पर झुर्रिया नहीं गिरती, वो चलते रहते हैं गिरते रहते हैं। 
कार्यक्रम में मां के महत्व को दिखाते हुए उन्होंने शब्दों में बयां किया और कहा कि मैने जन्नत नहीं मां देखी हैं। जज्बातों को कुरेदते हुए श्री वर्धन ने कहा कि हमारे ही दिल में ठिकाना चाहिए था तो फिर तूझे जरा पहले बताना चाहिए था, चलो हम ही सही सारी बुराईयों के सबब, मगर तूझे भी जरा सा निभाना चाहिए था, अगर नसीब में तारीखियां ही लिखी थी तो फिर चराग हवाओं में जलाना चाहिए था। पुराने दिनों को याद करते हुए उन्होंने कहा कि सफर में लौट जाना चाहता है एक परिंदा आशियाना चाहता है। कोई स्कूल की घंटी बजा दे कोई एक बच्चा मुस्कराना चाहता है। हमारा हक दबा रखा है जिसने सुना है वो मौलवी हज पर जाना चाहता है। इसी बीच मशहूर गायक पदमजीत अहलावत ने अपने गीतों के माध्यम से प्रस्तुती दी। सूफियाना अंदाज में दी इस प्रस्तुती में उन्होंने पुराने दिनों की याद दिलाई। इसके साथ ही हरियाणवी चुटकुलों के माध्यम से भी उन्होंने दर्शकों को गुदगुदाने को मजबूर कर दिया।   

Have something to say? Post your comment

More in Entertainment

राजौंद -पुलिस कर्मी महिला से साथ मिले आपत्तिजनक अवस्था में , ग्रामीणों ने जमकर की धुनाई

बिना दहेज केवल 1 रुपया लेकर भाजपा नेत्री के बेटे ने कर ली शादी

स्टूडेंट बिना बुलाए शादी या पार्टियों में खाना खाने पहुंचे तो कार्रवाई होगी

दो युवतियों ने आपस में समलैंगिक शादी

प्रयास मैंटली चिल्ड्रन स्कूल एंव ओपन शैल्टर होम मेंहोली उत्सव मनाया

होली खुशी और रंगों का त्यौहार, मनाएं सादगी से : उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी

युवा बोले : जोर जबरदस्ती नही बल्कि प्यार और शालीनता का त्यौहार है होली

देवर-भाभी के रिश्तो की मिठास का प्रतीक होली,

जीवीएम में बरसे होली के रंग, छात्राओं संग शिक्षिकाएं हुई रंगों से सराबोर

कवि कुमार विश्वास ने खूब कसे नेताओं पर व्यंग