Friday, January 18, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
सामाजिक सस्थाओं के कार्यो से प्रभावित होकर कनाडा मे रह रहे सहरावत ने बच्चो को वितरित किये वस्त्र।घरौंडा में अविश्वास प्रस्ताव के 15 दिन बाद आज पत्रकारों के समक्ष रूबरू हुए नगरपालिका प्रधान। कमीशनखोरी के चक्कर में टैंडर के बावजूद भी शुरू नही हो रहे काम तरावड़ी मेंकन्या जन्म पर नांगलमाला में किया गया कुआं पूजन कार्यक्रम का आयोजनसमाजसेवी व पत्रकार प्रिंस लाम्बा ने गौशाला में सवामणी लगा मनाया अपना 16वां जन्मदिनभूपेंद्र हुड्डा जींद के चुनावी मैदान में दिखे सुरजेवाला के साथ ,चुनाव प्रचार भी किया तरावड़ी में सप्ताह में घटी चौथी चोरी की वारदात, पुलिस नाकामअमेठीः खेममऊ ग्रामसभा में समाजवादी कार्यकर्ताओं ने लगाया चौपाल
Entertainment

..तू सामने आता है तो तेरा सजदा कर लेता हूं

रणबीर रोहिल्ला | November 06, 2017 06:20 PM
रणबीर रोहिल्ला
..तू सामने आता है तो तेरा सजदा कर लेता हूं
विजय वर्धन की कविताओं और पदमजीत अहलावत के मुरथल यूनिवर्सिटी के सभागार में आयोजित हुआ कार्यक्रम सजदा
फोटो  06एसएनपी1 : सोनीपत। विजय वर्धन की शायरी कार्यक्रम में मौजूद शायर। 
रणबीर  रोहिल्ला, सोनीपत। न नमाज आती है मुझे न वजू आता है, तू सामने आता है तो तेरा सजदा कर लेता हूं। मशहूर शायर मोहम्मद अली जहूर की इन लाइनों को जब वरिष्ठ आईएएस अधिकारी विजय वर्धन ने पेश किया तो दीनबंधु छोटूराम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्विद्यालय के सभागार में मौजूद हजारों लोगों की भीड़ ने वाहवाही के साथ उनका स्वागत किया। रविवार शाम को यूनिवर्सिटी में यह मौका था विजय वर्धन की शायरी और मशहूर गायक पदमजीत अहलावत के गीतों की जुगलबंदी का। 
मशहूर शायर गुलजार साहब के साथ हुई बातचीत को शब्दों में बयां करते हुए वर्धन ने कहा कि दो लब्ज कागज पर उतार कर चीख भी लेता हूं और आवाज भी नहीं आती। उन्होंने कहा कि कुछ लम्हे हमेशा जिंदा रहते हैं बूढ़े नहीं होते रिश्तों की तरह, उनके चेहरे पर झुर्रिया नहीं गिरती, वो चलते रहते हैं गिरते रहते हैं। 
कार्यक्रम में मां के महत्व को दिखाते हुए उन्होंने शब्दों में बयां किया और कहा कि मैने जन्नत नहीं मां देखी हैं। जज्बातों को कुरेदते हुए श्री वर्धन ने कहा कि हमारे ही दिल में ठिकाना चाहिए था तो फिर तूझे जरा पहले बताना चाहिए था, चलो हम ही सही सारी बुराईयों के सबब, मगर तूझे भी जरा सा निभाना चाहिए था, अगर नसीब में तारीखियां ही लिखी थी तो फिर चराग हवाओं में जलाना चाहिए था। पुराने दिनों को याद करते हुए उन्होंने कहा कि सफर में लौट जाना चाहता है एक परिंदा आशियाना चाहता है। कोई स्कूल की घंटी बजा दे कोई एक बच्चा मुस्कराना चाहता है। हमारा हक दबा रखा है जिसने सुना है वो मौलवी हज पर जाना चाहता है। इसी बीच मशहूर गायक पदमजीत अहलावत ने अपने गीतों के माध्यम से प्रस्तुती दी। सूफियाना अंदाज में दी इस प्रस्तुती में उन्होंने पुराने दिनों की याद दिलाई। इसके साथ ही हरियाणवी चुटकुलों के माध्यम से भी उन्होंने दर्शकों को गुदगुदाने को मजबूर कर दिया।   
Have something to say? Post your comment
More Entertainment News
20 साल बडे जीजा के साथ करवाई रही थी 15 वर्षीय नाबालिग लडक़ी की शादी, शादी रूकी
फिल्में दिलाऐंगी मुल्तानी भाषा को अलग पहचान : रमेश मल्हौत्रा
मेहनत पहुंचाएगी टीवी के परदे पर : बीरबल खोसला
जर्मनी के कलाकारों के मुख से भी निकला एंडी हरियाणा
मशहूर हरियाणवी सिंगर मासूम शर्मा कल कैथल में
दुनिया में अश्लील पोस्टर नहीं लगेंगे। अश्लील किताबें नहीं छपेगी
उम्र के आखिरी पड़ाव में समझ आई प्यार की कीमत, ‘‘द लास्ट डिसीजन’’ने दिया संदेश
स्कूलो में बच्चों की एक कलास थियेटर की भी लगनी चाहिए- अभिनेता यशपाल शर्मा।
बहु ने कहा-मेरे ससुर ने मुझे वो दिया जो पति नही दे पाया, सुहागरात से अबतक ससुर ही मेरे काम आए…?
नचले इंडिया 3 के नेशनल लेवल का हुआ आयोजन।