Monday, March 25, 2019
BREAKING NEWS
26 से 28 मार्च तक हॉकी टूर्नामेंट का आयोजन मकान मालिक ने गांव के ही कुछ लोगों पर आग लगाने का आरोप लगायापुलिस ने रिफाइनरी के तीन अधिकारियों सहित टैंकर मालिक व चालक खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज ,धरना प्रदर्शन करने के मामले में भी मामला दर्जआचार संहिता के उल्लंघन में 342 शिकायतें मिली 334 शिकायतों का निश्चित समय में निपटानअगर यूपी में हंगामा होता तो मार देता गोली: कलराज मिश्रकौन हैं असली गद्दार ???? 1857 की क्रांति में अंग्रेजों का साथ देने वाले भोग रहे सत्ताखुदाई के दौरान मिट्टी में दबे 10 मजदूर, 2 महिला मजदूरों की मौके पर हुई मौत,8 घायलमै भी चौकीदार नही, हम भी भगत सिंह – जयहिन्दचौकीदार कहने वाले जनता के हितेषी नहीं : अभय चौटालाप्रियंका गांधी के राजनीति में आने से पार्टी को मिली है मजबूती: जिंदल

Fashion/Life Style

तुम किसी स्त्री को निर्वस्त्र कर सकते हो, नग्न नहीं।

December 09, 2017 02:35 PM
राजकुमार अग्रवाल

तुम किसी स्त्री को निर्वस्त्र कर सकते हो, नग्न नहीं। 

तुम किसी स्त्री को निर्वस्त्र कर सकते हो, नग्न नहीं। और जब तुम निर्वस्त्र कर लोगे तब स्त्री और भी गहन वस्त्रों में छिप जाती है। उसका सारा सौंदर्य तिरोहित हो जाता है; उसका सारा रहस्य कहीं गहन गुहा में छिप जाता है। तुम उसके शरीर के साथ बलात्कार कर सकते हो, उसकी आत्मा के साथ नहीं। और शरीर के साथ बलात्कार तो ऐसे है जैसे लाश के साथ कोई बलात्कार कर रहा हो। स्त्री वहां मौजूद नहीं है। तुम उसके कुंआरेपन को तोड़ भी नहीं सकते, क्योंकि कुंआरापन बड़ी गहरी बात है।
लाओत्से वैज्ञानिक की तरह जीवन के पास नहीं गया निरीक्षण करने। उसने प्रयोगशाला की टेबल पर जीवन को फैला कर नहीं रखा है। और न ही जीवन का डिसेक्शन किया है, न जीवन को खंड-खंड किया है। जीवन को तोड़ा नहीं है। क्योंकि तोड़ना तो दुराग्रह है; तोड़ना तो दुर्योधन हो जाना है। द्रौपदी नग्न होती रही है अर्जुन के सामने। अचानक दुर्योधन के सामने बात खतम हो गई; चीर को बढ़ा देने की प्रार्थना उठ आई। वैज्ञानिक पहुंचता है दुर्योधन की तरह प्रकृति की द्रौपदी के पास; और लाओत्से पहुंचता है अर्जुन की तरह--प्रेमातुर; आक्रामक नहीं, आकांक्षी; प्रतीक्षा करने को राजी, धैर्य से, प्रार्थना भरा हुआ। लेकिन द्रौपदी की जब मर्जी हो, जब उसके भीतर भी ऐसा ही भाव आ जाए कि वह खुलना चाहे और प्रकट होना चाहे, और किसी के सामने अपने हृदय के सब द्वार खोल देना चाहे।
तो जो रहस्य लाओत्से ने जाना है वह बड़े से बड़ा वैज्ञानिक भी नहीं जान पाता। क्योंकि जानने का ढंग ही अलग है। लाओत्से का ढंग शुद्ध धर्म का ढंग है। धर्म यानी प्रेम। धर्म यानी अनाक्रमण। धर्म यानी प्रतीक्षा। और धीरे-धीरे राजी करना है। धर्म एक तरह की कोघटग है। जैसे तुम किसी स्त्री के प्रेम में पड़ते हो, उसे धीरे-धीरे राजी करते हो। हमला नहीं कर देते।

ताओ उपनिषद भाग # 6 , प्रवचन # 121
****ओशो

Have something to say? Post your comment

More in Fashion/Life Style

टैलेंट शो में प्रतिभागियों ने दिखाया अपना दम।

रजनी बेनीवाल का मिसेज वर्ल्ड प्रतियोगिता में हुआ चयन.लन्दन जाएगी

मेंहदी रचाओ प्रतियोगिता में रीना अव्वल

भाई ने बहन को गोद में क्या उठाया ,दूल्हे ने वरमाला निकाल फेंकी

व्यर्थ समझ फेंकी जाने वाली लकड़ी को उपयोगी वस्तुओं में तब्दील कर रहे अरशद

युवती ने नन्दोई पर रेप का आरोप जड़ किया ब्लैकमेल

बेटियां समाज की सबसे बड़ी पूंजी, बढ़ाती है सम्मान : दीपक सहारण

ऋषिकेश की दीया पांडेय चुनी गई फैशन एक्स क्वीन

फैशन डिजायनिंग में स्वर्णिम भविष्य निर्माण की अपार संभावना : ललिता

ब्यूटी-पार्लर की कार्यशाला के दूसरे दिन सुशीला ने छात्राओं को फेशियल करना सिखाया