Thursday, January 17, 2019
Follow us on
Literature

नवरात्रों के 6वे दिन श्रद्धालुओं ने की माँ भगवती की आराधना

अटल हिन्द ब्यूरो | March 24, 2018 08:45 AM
अटल हिन्द ब्यूरो

नवरात्रों के 6वे दिन श्रद्धालुओं ने की माँ भगवती की आराधना
सन्नी मग्गू
जींद, 23 मार्च
मां के दर पर मन्नत मांगने की, नाक रगडऩे की, झोली फैलाने की जितनी जरूरत है उससे कहीं अधिक जरूरी है कि हम अपनी पात्रता को विकसित करें, अर्थात् सत्पात्र बनकर हम मां के दर पर आएं, फिर देखो किस प्रकार चहुंओर से आपके उपर मां की कृपा बरसती है। उक्त पंक्तियां आचार्य पवन शर्मा ने माता वैष्णवी धाम में आयोजित नवार्ण महायज्ञ की पांचवीं रात्रि में उपस्थित मातृभक्तों के समक्ष अपने वक्तव्य में कहे । मुख्यमंत्री के निजी सचिव राजेश गोयल ने इस अवसर पर विषेश रूप से उपस्थित रहकर मां वैष्णवी की पूजा-अर्चना कर मां के पवित्र यज्ञ कुण्ड में आहुति अर्पित कर मां का आषीर्वाद प्राप्त किया। उन्होंने अपने संदेश में उपस्थित मातृभक्तों को नववर्ष व नवरात्र की शुुभकामना दी व मां के चरणों में सम्पूर्ण वसुन्धरा के लिए मंगलकामना की। उनके अलावा सोमवीर पहलवान, विनोद चन्दा, डा.एम.एल.गेरा, आर.एन.गिरोतरा, सुशील गुप्ता, डा.संजय शर्मा, नीलम डोडा, रणसिंह सैनी, सुरेष गर्ग लोन वाले, परमजीत गुम्बर, आर.के.कोहली, सुषील सिंगला ने सपरिवार मां स्कन्दमाता की पूजा-अर्चना कर नवार्ण महायज्ञ में आहुति दी। आचार्य ने कहा मां का आशीर्वाद यदि पाना है तो अपनी पात्रता को प्रमाणित करो क्योंकि मां की कृपा कभी भी कुपात्रों पर नहीं बरसती। उन्होंने कहा मां तो उस बादल की भांति है जो प्यासी भूमि को हरी-भरी कर देने के लिए बिना कीमत पानी बरसाता है किन्तु उस पानी से चट्टानों पर एक तिनका भी पैदा नहीं हो पाता। आचार्य ने कहा जिस प्रकार से नदी के बहने से उसके किनारे गीले हो जाते हैं, जमीन गीली हो जाती है किन्तु जो चट्टान का टुकड़ा नदी के बीच में सैंकड़ों वर्षों से पड़ा हुआ है उसे जरा तोडक़र तो देखिए नदी का कोई अनुग्रह वह प्राप्त नहीं कर पाया क्योंकि वह पत्थर जो है । हरीश एलाबादी, सुदर्शन गिरधर, सुभाश अनेजा, सुरेन्द्र आहुजा, सतपाल गुलाटी, मुनीष अरोड़ा, मुरारी परूथी, हरीश गिरधर, जवाहर परबंदा, आशुतोष शर्मा, हरीश परूथी, श्याम छाबड़ा, सुरेन्द्र सिंगला, डा.अष्विनी मिढ़ा, अशोक गुलाटी, विरेश मोंगा, सुखदयाल सिंह, सुरेश कोचर, राकेश ऑबराय, सतीश गुम्बर, अशोक नागी, राजेन्द्र अरोड़ा, हरीश मलिक, सूरज नागपाल, परमजीत सेठी, अमित मुंझाल, भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

Have something to say? Post your comment
More Literature News
अबकि बार मकर संक्रांति पर्व 14 जनवरी नहीं बल्कि 15 जनवरी को ही मान्य - पं. रामकिशन
सांई के जीवन से साधारण इंसान को अच्छा मनुष्य बनने में प्रेरणा मिलती है : सुमित पोंदा
कैथल में पूजा अर्चना के साथ हुआ श्री साई अमृत कथा का शुभारंभ
बोले सो निहाल-सत श्री अकाल धर्म हेत साका जिन किया, शीश दीया पर सिर न दिया
हजरत इलाही बू अली शाह कलंदर साहिब की दरगाह पर इन्द्री में चल रहें सालाना उर्स मुबारक व भंडारे पर आज एक विशेष शोभा-यात्रा
पूर्वाचलियों को छठ पूजा की बधाई देने आधा दर्जन स्थानों पर पहुंचे मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार
15 नवंबर को मनाया जाएगा शाह कलंदर का सालाना उर्स
5 नवंबर से दीवाली के पंच पर्व आरंभ
बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है: अचल मुनि 2
सोनीपत-बाबा जिन्दा मेले में हजारों भक्तों ने माथा टेका