Friday, January 18, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
सामाजिक सस्थाओं के कार्यो से प्रभावित होकर कनाडा मे रह रहे सहरावत ने बच्चो को वितरित किये वस्त्र।घरौंडा में अविश्वास प्रस्ताव के 15 दिन बाद आज पत्रकारों के समक्ष रूबरू हुए नगरपालिका प्रधान। कमीशनखोरी के चक्कर में टैंडर के बावजूद भी शुरू नही हो रहे काम तरावड़ी मेंकन्या जन्म पर नांगलमाला में किया गया कुआं पूजन कार्यक्रम का आयोजनसमाजसेवी व पत्रकार प्रिंस लाम्बा ने गौशाला में सवामणी लगा मनाया अपना 16वां जन्मदिनभूपेंद्र हुड्डा जींद के चुनावी मैदान में दिखे सुरजेवाला के साथ ,चुनाव प्रचार भी किया तरावड़ी में सप्ताह में घटी चौथी चोरी की वारदात, पुलिस नाकामअमेठीः खेममऊ ग्रामसभा में समाजवादी कार्यकर्ताओं ने लगाया चौपाल
Sports

बसताड़ा स्टेडियम की खस्ता हाल को लेकर खिलाडीयों मे रोष, खुले मे करते है खिलाडी लघुशंका

प्रवीण कौशिक | March 31, 2018 05:34 PM
प्रवीण कौशिक

बसताड़ा स्टेडियम की खस्ता हाल को लेकर खिलाडीयों मे रोष,
खुले मे करते है खिलाडी लघुशंका
संबंधित प्रशासन से शिकायत की है लेकिन असर वही ढाक के तीन पात...।
घरौंडा : 31 माच, प्रवीण कौशिक
एक तरफ जहां प्रदेश सरकार युवा खिलाडिय़ों को बढ़ावा देने के लिए ग्रामीण स्तर पर स्टेडियम व व्यायामशालाएं खोलने का दम भर रही है वहीं सरकार मौजूदा स्टेडियमों की ओर कोई ध्यान ही नही दे रही है।
खंड घरौंडा के बसताड़ा स्टेडियम में खिलाडिय़ों के लिए बनाए गए शौचालयों के हालत इतने बदतर है कि इनमें शौच करना तो दूर, अंदर घुसना भी मुश्किल है। आलम यह है कि खिलाडिय़ों को लघुशंका के लिए खुले में जाना पड़ता है। जबकि केंद्र व प्रदेश सरकार खुले में शौच मुक्त पर करोड़ों रुपए खर्च कर चुकी है। दूसरी ओर खिलाड़ी स्टेडियम में बिजली, पानी व अन्य सुविधाओं से महरूम है। स्टेडियम के बिगड़े हालातों से खिलाडिय़ों में प्रशासन के प्रति गहरा रोष है। खिलाडिय़ों का कहना है कि सरकार ओलम्पिक में खिलाडिय़ों से गोल्ड मेडल की उ म्मीद तो करती है लेकिन स्टेडियम में सुविधाओं के नाम पर ठेंगा है। खिलाडिय़ों का कहना है कि स्टेडियम में सुविधाओं को दुरूस्त करने के लिए संबंधित प्रशासन से शिकायत की है लेकिन वहीं ढाक के तीन पात...। खिलाड़ी विशाल नलीखुर्द, शुभम स्टौंडी, हरीश कुमार, बिट्टू, प्रवीण कुमार,विशाल, राजकुमार व अन्य खिलाडिय़ों का कहना है कि बसताड़ा स्टेडियम में दर्जनों गांवों से सैंकड़ों की संख्या में खिलाड़ी अभ्यास के लिए आते है, लेकिन कई एकड़ में फैले इस स्टेडियम में पीने के पानी तक की व्यवस्था तक भी नही है। खिलाडिय़ों को बोतलों में पानी भरकर लाना पड़ता है। अब गर्मी के दिनों में तो परेशानी ओर भी ज्यादा बढ़ जाएगी। शौचालय में भी पानी नही- खिलाडिय़ों का कहना है कि स्टेडियम में अंदर शौचालय बनाए गए है। लेकिन इन शौचालयों में पानी की कोई व्यवस्था नही है। इतना ही नही शौचालयों में इतनी ज्यादा गंदगी है कि इसमें शौच करना तो दूर घुसना भी मुश्किल है। ऐसे में खिलाडिय़ों को खेलने से पहले या तो अपने घर पेट साफ करके स्टेडियम में आना पड़ता है या फिर खुले में शौच जाना पड़ता है। ऐसे सरकार का शौचालयों पर करोड़ों रुपए खर्च करने का क्या फायदा जब उनमें मूलभूत सुविधा ही उपलब्ध नही है। एक ही स्टेडियम पर ध्यान दे ले सरकार- खिलाडिय़ों का कहना है कि स्टेडियम में सुविधाओं का टोटा है। सरकार गांव-गांव में तो स्टेडियम और व्यायामशालाएं तो्र खोलने के लिए आधारशिलाएं रख रही है। लेकिन जो स्टेडियम में प्रशासन से वो ही सही तरीके से संभाला जा खिलाडिय़ों का कहना है कि सरकार यदि बसताड़ा स्टेडियम में ही सुविधाओं को दुरूस्त कर दें तो गांव-गांव में स्टेडियम और व्यायामशालाएं बनाने की शायद जरूरत ही नही पड़ेगी। क्योंकि सरकार जब एक ही स्टेडियम में सही ढंग से सुविधाएं खिलाडिय़ों को मुहैया नही करवा पा रही है तो इतनी व्यायामशालाओं में कहां से सुविधाएं दे पाएगी।
-अनिल कुमार, डीएसओ, करनाल।
- बसताड़ा स्टेडियम में जो भी समस्याएं है। उसको लेकर सोमवार को बसताड़ा स्टेडियम का दौरा
करूंगा और दिक्कतों को दूर करने का प्रयास किया जाएगा।

Have something to say? Post your comment
More Sports News
रेनू ने राष्ट्रीय जूडो प्रतियोगिता में जीता रजत पदक
21वीं नार्थ इंडिया बॉक्सिंग चैंपियनशीप में सतनाली के खिलाड़ी विकेंद्र ने जीता गोल्ड मेडल
दिवेश ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए ओपन वेट पुरुष वर्ग में रजत पदक प्राप्त किया
नई खेल नीति से मिला युवाओं को प्रोत्साहन- मनोहर लाल
बालू गांव में कबड्डी टूर्नामेंट का हुआ आयोजन, अनीता ढुल बढसिकरी ने किया शुभारंभ
संस्था का मुख्य लक्षय शिक्षा व खेलों के स्तर को उच्चा उठाना- डॉ महेन्द्र सिंह मलिक
पाई की बेटियों का राष्ट्रीय स्कूली कबड्डी प्रतियोगिता के लिए हरियाणा की टीम में चयन
किक बॉक्सिंग प्रतियोगिता में रजत पदक विजेता तनिष्क वालिया का गांव फतेहपुर में पहुंचने पर हुआ भव्य स्वागत
खेलों से व्यक्ति का सर्वांगीण विकास होता : राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य
हरियाणा प्रदेश सरकार की खेल नीति का अनुसरण दूसरे प्रदेशों की सरकारें भी कर रही हैं-मुख्यमंत्री