AtalHind
कैथलहरियाणा

अंजना पंवार ने कैथल प्रशासन से कहा सफाई कर्मचारियों का  समय-समय पर हो हैल्थ चैकअप, मौसम अनुसार दिए जाएं वर्दी जूतें

सफाई कर्मियों की बुनियादी सुविधाओं का प्रशासन रखे ध्यान, समय-समय पर हो हैल्थ चैकअप, मौसम अनुसार दिए जाएं वर्दी जूतें : अंजना पंवार
राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की सदस्य अंजना पंवार ने कोयल कॉम्प्लैक्स में ली अधिकारियों की बैठक,
सफाई कर्मियों से सम्बंधित समस्याएं सुनी और समाधान के लिए दिए आवश्यक दिशा निर्देश।
कैथल, 16 जुलाई (अटल हिन्द/राजकुमार अग्रवाल  )
राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की सदस्य अंजना पंवार ने कहा कि सफाई कर्मियों की सभी बुनियादी जरूरतों का ध्यान रखकर उन्हें समयबद्ध प्रशासन मुहैया करवाएं। सभी कर्मचारियों का तिमाही हेल्थ चैकअप होना चाहिए। इसके साथ-साथ मौसम के अनुसार वर्दी, जूते, गलब्ज इत्यादि मूलभूत चीजें समय पर दी जाएं। वेतन भत्ते भी ठीक समय पर मिलने चाहिए, ताकि इस वर्ग को किसी भी प्रकार की परेशानी नही हो।

राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की सदस्य अंजना पंवार कोयल कॉम्प्लेक्स के सभागार में अधिकारियों की बैठक तथा सफाई कर्मचारियों की समस्याएं सुनने के दौरान बोल रही थी। इस मौके पर उपायुक्त प्रदीप दहिया, पुलिस अधीक्षक लोकेंद्र सिंह, डीएमसी समवर्तक सिंह आदि अन्य अधिकारी मौजूद रहे। सदस्य अंजना पंवार ने कहा कि सफाईकर्मी हमारे समाज का अभिन्न अंग है।
कोविड के समय में इन्होंने अपनी जान जोखिम में डालकर सफाई व्यवस्था को संभाला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सफाई कर्मियों से सम्बंधित समस्याओं को भी सकारात्मकता के साथ हल करने का आह्वान किया है। सफाई कर्मचारियों की समस्याओं के निदान, उनके बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य इत्यादि सुविधाओं को विशेष ध्यान रखा जाए। सभी अधिकारी व कर्मचारी एक दूसरे के पूरक हैं इसलिए इन कामों को गंभीरता के साथ करें।
बैठक में राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की सदस्य अंजना पंवार ने कहा कि सफाई कर्मियों को साल में दो बार वर्दी के साथ-साथ बरसात के मौसम में काम करने के लिए रेनकोट भी उपलब्ध करवाए जाएं।

आउटसोर्सिंग पर लगे सफाई कर्मचारियों को भी बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाए। सभी कर्मचारियों का ईपीएफ और और ईएसआई स्टेटस भी चैक किया जाए और इसका विवरण उनके कार्यालय को उपलब्ध करवाया जाए। उन्होंने कहा कि महिला कर्मचारियों के लिए सामुदायिक या अन्य स्थान पर वस्त्र बदलने के लिए व आराम करने के लिए कमरों की व्यवस्था की जाए। इसके साथ-साथ उन्होंने सफाई कर्मचारी वर्ग से अधिकारी बनी आशा कंडारा का उदाहरण देते हुए कहा कि बच्चों को शिक्षित करने के लिए प्रयास करें और जिला प्रशासन को सुझाव दिया कि सफाई कर्मचारी बहुल बस्तियों में लाईब्रेरी बनवाई जाए, ताकि इस वर्ग के बच्चों को पढ़ाई करके आगे बढ़ने का मौका मिल सके।
डीसी प्रदीप दहिया ने आयोग की सदस्य को फीडबैक देते हुए कहा कि प्रशासन द्वारा समय-समय पर सफाई कर्मियों का हैल्थ चैकअप करवाया जाता है। कोरोना काल में सभी को सैनिटाईजर, मास्क, गलब्ज व अन्य जरूरत की चीजें मुहैया करवाई जाती है। जिला में सिर पर मैला ढोने का कोई भी मामला नही है। कर्मचारियों के लिए विशेष शिविर आयोजित कर टीकाकरण भी करवाया जा रहा है। बैठक में डीएमसी समवर्तक सिंह ने आयोग की सदस्य को जिला की भौगोलिक स्थिति से रूबरू करवाते हुए कहा कि क्षेत्रफल और जनसंख्या के हिसाब से अगर नियमित कर्मचारियों की भर्ती हो जाए तो सभी समस्याओं का स्वत: समाधान हो जाएगा। उन्होंने कहा कि जो भी सुझाव व दिशा-निर्देश आयोग की सदस्य द्वारा दिए गए हैं, उन सभी को पूरा किया जाएगा। इस मौके पर कर्मचारी यूनियन के पदाधिकारियों ने आयोग की सदस्य को मांग पत्र भी सौंपा। जिला स्तर पर पूरी होने वाली मांगों पर उपायुक्त ने निर्देश जारी किए कि संबंधित अधिकारी, विभाग जल्द सभी समस्याओं को दूर करें और जो भी कर्मचारी के हित में सरकार द्वारा योजनाएं चलाई जा रही है, उनका लाभ दिलवाना भी सुनिश्चित करें।
इस मौके पर डीसी प्रदीप दहिया, एसपी लोकेंद्र सिंह, डीएमसी समवर्तक सिंह, एसडीएम संजय कुमार, विरेंद्र ढुल, नवीन कुमार, सीटीएम अमित कुमार, डीडीपीओ जसविंद्र सिंह, ईओ बलबीर रोहिला, शिव चरण, महेंद्र बिढलान, अनूप कुमार, विक्की टांक, अनिल सौदा, बसाऊ रामके अलावा सभी नगर पालिका सचिव व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।
Advertisement

Related posts

कांग्रेस ने षड्यंत्र के तहत सीबीआई से मिलकर ओमप्रकाश चौटाला को जेल करवाई: अभय चौटाला

admin

लोगों को जीवित रहने के लिए दो जून की रोटी के लाले पड़े: आप

admin

राव इंद्रजीत का प्रभाव “खत्म” करने के लिए मुख्यमंत्री का खेमा हुआ सक्रिय

admin

Leave a Comment

URL