Atal hind
Uncategorized

अफवाह : रात भर उल्टे चांद को लेकर बजती रही मोबाईल की घंटियां

बाबैन, 4 मार्च (सुरेश अरोड़ा): विश्व में कोरोना बीमारी को लेकर पिछले कई दिनों से नकारात्मक व सकारात्मक अफवाहों को दौर चरम सीमा पर है और लोग लॉकडाउन होने से घरों में रहकर केवल मोबाइल व टीवी से ही चिपके हुए पडे हैं और कोई भी छोटा या बडा घटनाक्रम कुछ ही देर में सोशल मीडिया व टीवी के माध्यम से हर तरफ तेजी से फैल जाता है। ऐसी ही एक अफवाह शुक्रवार की रात्रि को बाबैन क्षेत्र में तेजी से फैली की चांद उल्टा हो गया है और परिवारों पर संकट आने वाला है इसलिए घर की महिलाएं कच्ची लस्सी का घोल बनाकर उसमें चावल व चीनी डालकर चांद की ओर मंूह करके चांद को अराध्या दें। आपदा टल जाएगी। फिर क्या था महिलाओं ने आनन-फानन में अपने मायके, ननदों, नाना-मामा व बुआ व अन्य रिश्तेदारों तथा मित्रों के घरों में फोन करने शुरू कर दिए और मजे की बात रही कि बाबैन में भी महिलाओं के पास बाहर से ही रिश्तेदारों के ही फोन आए कि चांद उल्टा हो गया है। कुछ ही देर में यह अफवाह आग की तरह फैल गई और महिलाएं बताएं दिशा-निर्देशों के तहत एक छोटे लोटे में कच्ची लस्सी का घोल बनाकर और उसमें चावल व चीनी डालकर घर के आंगन तथा छतों पर आकर चांद को यह विविधत रूप से तैयार किया घोल चढाने लगी। गौरतलब है कि रात्रि को जैसे ही महिलाओं के पास चांद के उल्टा होने तथा उसे अराध्या देने बारे फोन आया तो उन्होंने घर के पुरूषों को उठाया और कहा कि चांद उल्टा हो गया है तो शहर व गांव के लोग घरों से बाहर आकर चांद को देखने लेगे और वाक्य में चांद के निकलने की दशा उल्टी थी और इस खगोलिया घटना के बारे में यह भी बताया गया कि ऐसा होना अशुभ है दुनिया पर भारी आपदा आनी वाली है और जो महिलाएं चांद को कच्ची लस्सी का अराध्या नहीं देंगी उसके परिवार पर दुख संकट आएगा। महिलाओं ने परिवार के ऊपर आने वाली आपदा को टालने के लिए रातभर चांद को कच्ची लस्सी का अराध्या दिया और परिवार की सुख-समृद्धि की कामना की और इस मैसेज को आगे तक रिश्तेदारों व मित्रों को सूचित करने सिलसिला रातभर चलता रहा।

Leave a Comment