अमेरिका से डिपोर्ट होकर आए   हरियाणा के लोगों की सूची-

 

 

अवैध रूप से अमेरिका में प्रवेश के आरोप में डिपोर्ट हुए 167 नागरिकों में 70 से भी अधिक लोग हरियाणा राज्य से ।*

 

अमेरिका से डिपोर्ट होकर आए
हरियाणा के लोगों की सूची-👇🏼👇🏼

68 वीरेंद्र कुमार-सांवंत, नीलोखेड़ी, करनाल
69. रमनदीप- बरना, तहसील थानेसर, कुरुक्षेत्र
70. अमरदीप- गगसीना, करनाल
71. मंजीत मान – घोगलपुर, करनाल
72. अंकुश- कैमला, घरौंडा, करनाल
73. गुरजीत सिंह – सौंकरा, तहसील नीलोखेड़ी, करनाल
74. हरप्रीत सिंह- अहमदपुर, नारायाणगढ़, अंबाला
75. रोहताश – गंगराठी, असंध, करनाल
76. जगसीर सिंह – भूना, गुहला, कैथल
77. गुरविंदर- ढांड, कैथल
78. संदीप सिंह-सरोला, गुहला, कैथल।
79. नवजोत सिंह- ग्राम मल्लौर, चौरमस्तपुर, अंबाला
80. अवतार गोरा- गोरापति मुंदरी, कैथल।
81. अमरजीत सिंह-ग्राम गेलडवा पिहोवा, कुरुक्षेत्र
82. जगजोत सिंह-खेसापुरा, मथेरी शेखां, अंबाला
83. रोहित-मानस, कैथल
84. राजिंदर पाल-अंबाला शहर,
85 अमित कुमार-ग्राम लोहार माजरा, तहसील पिहोवा, कुरुक्षेत्र
86 साहिल- पट्टी शाहजादपुर, तहसील शाहाबाद मारकंडा, कुरुक्षेत्र
87 रणजीत- गोहचाब, जींद
88. हितांशु मदान – अंबाला शहर
89 अमित कुमार- गोगरीपुर, करनाल
90 जरनैल सिंह- बकनौर, अंबाला
91. पलविंदर सिंह-बेगो माजरा, अंबाला
92. गुरपंत सिंह-गांव पोबला जडोला, तहसील ढांड, कैथल,
93. रिंकल शर्मा- करसौद, करनाल
94. दीपक- पुंडरी, कैथल
95. शुभम- सकरा, कैथल,
96 राहुल- ग्राम खीरी मान सिंह, इंद्री, करनाल
97 अभिषेक-कौल, तहसील ढांड, कैथल
98. नछत्तर सिंह- गग्‍गरपुर, किठौर कैथल। सावन- सकरा, ढांड, कैथल
100 तरनदीप सिंह-गुनियाना रोड, निसिंग, करनाल।
101. सुखविंदर सिंह-सियाना खुर्द डेरा सरम सिंह, पिहोवा, कुरुक्षेत्र
102. नितेश कुमार- मोहरी जागीर, सीतामई, करनाल
103. सचिन कुमार- बाकल, कैथल
104. विशाल वास्तिया- कुरुक्षेत्र
105. संदीप- निगदू, करनाल
106. जरनैल सिंह- औरंगाबाद, यमुनानगर
107. करनैल सिंह- धुरला, कुरुक्षेत्र
108. रवि-ग्राम जिरबारी, कुरुक्षेत्र
109. अमनप्रीत कुमार-सीकरी, तहसील नीलोखेड़ी, करनाल
110. कपिल- कुंजपुरा, करनाल
111. साहिल- मथाना, थानेसर, कुरुक्षेत्र
112 विशाल सिंह- पानीपत
113.जसमेर सिंह- गितलपुर जंबा, निगदू, करनाल
114. अमरजीत – गांव कसुहल, उचाना जींद
115. मंदीप-धनाना, अंबाला
116. मोहन लाल- कौल, जिला कैथल
117. अर्शदीप सिंह- करनाल
118. सावन कुमार-तिगरी खालसा, अमीन, कुरुक्षेत्र
119. विकास- कटलाहेरी, करनाल
120. अंकित- कैमला, करनाल।
121. योगिंदर- बहरी, असंध, करनाल
122. सचिन नैन- काना पट्टी, जींद,
123. परमजीत घोटरा- मनगा कलां, जीरा, जींद
124 प्रदीप – बनिया पट्टी, कलवान, जींद
125. गुरविनंदर सिंह- सलपनी कलीना अजराना,
126. सुरजीत सिंह- कराह साहब, पेहवा, कुरुक्षेत्र
127. कपिल सिंह- रंगरूटी खेड़ा, असंध, करनाल
128. दलजीत सिंह-बखली, पिहोवा, कुरुक्षेत्र
129. गुरप्रीत सैनी- बोधनी, तहसील-पिहोवा, कुरुक्षेत्र
130 भानू सिंह-सांभली, तहसील-निसिंग, करनाल
131. मयंक -गीतपुर, पीओ-जांबा, नीलोखेड़ी, करनाल
132 पुष्पिंदर सिंह-जनसुई, अंबाला
133 हरविंदर सिंह- करनाल
134. वरिंदर सिंह- करनाल
135. मंदीप जूड- मुंदरी, कैथल
136. अनुज पाल-कोरवा खुर्द, नारायाणगढ़, अंबाला
137. प्रभजोत सिंह- बनसा, करनाल
138. राजबीर सिंह -कैमला, करनाल
139. मनीष कुमार-मुन्ना रेह्हरी, सौंच, कैथल
140. रोहित कुमार- गांव पलवल, कुरुक्षेत्र
141. कुमार मोहित- गांव कुरुक्षेत्र, अंबाला
142. यशप्रीत सिंह- गणेशपुर, नारायणगढ़, अंबाला
143. परमजीत सिंह- गांव कुरुक्षेत्र, अंबाला
144. जसवंत सिंह-गणेशपुर, नारायणगढ़, अंबाला
145. दीपक-कैथल रोड, करनाल
146. अंकुश- गामरी, पुंडरी, कैथल।

 

 

Chandigarh: अमेरिका द्वारा डिपोर्ट किए गए हरियाणा वासी कबूतरबाजी व फर्जी ट्रैवल एजेंटों का शिकार होकर विदेश पहुंचने की आशंका है। हरियाणा के गृहमंत्री ने इस पूरे मामले की जांच के आदेश जारी कर दिए हैं। पुलिस विभाग के एंटी ह्यूमन सैल के इंचार्ज व डीजीपी (क्राइम) पीके अग्रवाल इस मामले की जांच करेंगे।

अमेरिका ने हालही में हरियाणा के 76 लोगों को डिपोर्ट किया है।

ये सभी व्यक्ति मैक्सिको के रास्ते अमेरिका गए थे। जिसके चलते इनके विरूद्ध यूएसए में केस भी चल रहे थे।

इस कारण अमेरिका सरकार ने नीतिगत फैसला लेते हुए हरियाणा के लोगों को डिपोर्ट किया गया है।

सरकार को आशंका है कि उक्त सभी लोग फर्जी ट्रैवल एजेंटों के चक्कर में फंसकर कबूतरबाजी से विदेश गए थे।

इन नागरिकों के हरियाणा लौटने के बाद यह भी संकेत मिल रहे हैं कि सरकार के दावों के उलट हरियाणा में फर्जी ट्रैवल एजेंट सक्रिय हैं।

हरियाणा के गृहमंत्री मंत्री अनिल विज के आदेशों पर गृह विभाग ने अमेरिका से डिपोर्ट किए यात्रियों की जांच का जिम्मा पुलिस विभाग के एंटी ह्यूमन सैल के इंचार्ज व डीजीपी (क्राइम) पीके अग्रवाल को सौंपा है।

अग्रवाल यह पता करेंगे कि ये यात्री अमेरिका किस माध्यम से गए थे।

मतलब कानूनी तरीके से इनकी एंट्री अमेरिका में हुई या फिर गैर-कानूनी तरीके से।

अगर बिना मंजूरी व दस्तावेजों के भी अमेरिका में गए, तो इसके लिए उन्होंने मैक्सिको का रास्ता चुना या फिर अन्य किसी चैनल से गए।

अग्रवाल यह भी पता लगाएंगे कि ये सभी कबूतरबाजी का शिकार तो नहीं हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Our COVID-19 India Official Data
Translate »
error: Content is protected !! Contact ATAL HIND for more Info.
%d bloggers like this: