CBI जांच की खबर मिलने पर मृतक की पत्नी बोलीं सर प्लीज इसे छापते रहना

सीबीआई जांच की खबर मिलने पर मृतक की पत्नी बोलीं सर प्लीज इसे छापते रहना

-खाद्यापूर्ति विभाग में चल रहे बड़े भ्रष्टाचार को उजागर कर रही हैं तीन फोन कॉल

-तीनों फोन कॉल में अनाज मंडी से 60 लाख की उगाही करने का हो रहा है खुलासा

-विभाग के अधिकारी ने  सौंपी है तीनों फोन कॉल रिकार्डिंग

-मौत से पहले वीडियों में डांगी के आरोपों को पुख्ता कर रही है ये तीनों रिकार्डिंग

-आज एक सप्ताह हो गया डीएफएसआई आशीष डांगी सुसाइड प्रकरण को

(राजेश शांडिल्य)
कुरुक्षेत्र।

 

On receiving the news of the CBI investigation, the wife of the deceased said, please continue printing it
Three phone calls are exposing the big corruption going on in the Food Department
In three phone calls, collection of 60 lakhs from the grain market is being disclosed.
-The department official has handed over all three phone call recordings
Before the death, these three recordings are confirming the allegations of Dangi in the video.
-It has been a week for DFSI Ashish Dangi suicide episode

 

 

डीएफएसआई के सुसाइड प्रकरण को आज पूरा सप्ताह हो चुका है और इस बीच उनके विभाग में फैले व्यापक भ्रष्टाचार की पोल खोलती तीन फोन काल रिकार्डिंग सामने आ गई। ये तीनों फोन कॉल रिकार्डिंग उन आरोपों को भी पुख्ता कर रही हैं,जो आरोप मौत से पहले डीएफएसआई आशीष डांगी ने लगाये थे। यह फोन कॉल और डीएफएसआई आशीष डांगी की मौत से पहले आरोपों वाली वायरल वीडियो को आधार मान कर गहन जांच हुई तो,इस मामले में ना केवल कई लोग नप सकते हैं,बल्कि विभाग में चल रहे भ्रष्टाचार का खुलासा हो सकता है। बहरहाल इस घटनाक्रम के बाद जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी और दो इंस्पेक्टरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के साथ एसआईटी गठित हो चुकी है। वहीं मृतक डीएफएसआई आशीष डांगी की पत्नी न्याय के लिये गुहार लगा रही है। भले इस मामले में अभी तक किसी भी आरोपी पर और कोई ठोस कार्रवाई ना हुई हो,मगर मौत से पहले डीएफएसआई आशीष डांगी ने एक वीडियो में जो कहा था,उसकी वीडियो वायरल होने के बाद ऐसे कई तथ्य सामने आ रहे हैं,जो वायरल वीडियो में लगाये गये आरोपों को ना केवल पुख्ता कर रहे हैं,बल्कि खाद्यापूर्ति विभाग में बड़े पैमाने पर चल रहे भ्रष्टाचार और अवैध उगाही के प्रमाण भी सामने लाते दिख रहे हैं। खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के ही एक अधिकारी ने  ऐसी पेन ड्राईव मुहैया कराई है,जिसमें फोन पर हुई बातचीत की तीन रिकार्डिंग लोड की हुई हैं। एक एक बाद एक जब इन फोन काल रिकार्डिंग में हुई बातचीत को सुनाई दे रही है,जैसे आरोप मौत से पहले डीएफएसआई आशीष डांगी ने अस्पताल में उपचार के दौरान ऑन कैमरा लगाए थे। इन तीनों फोन कॉल रिकार्डिंग में अलग अलग चरण में जिला खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अधिकारी एक दूसरे का नाम लेकर बातचीत कर रहे हैं। जिसमें बीच बीच में साहब यानी डीएफएससी नरेंद्र सहरावत का भी जिक्र है।ड्यूटियों के फेरबदल और मनमर्जी से अपने चहेतों को खास जगहों पर तैनाती देने और 60 लाख रुपये की उगाही में से हिस्सा न देने जैसी तमाम बातों का जिक्र है। यह बात साफ है कि यह तीनों फोन कॉल रिकार्डिंग डीएफएसआई आशीष डांगी के सुसाइड प्रकरण से चंद दिन पहले की हैं,क्योंकि इन फोन कॉल रिकार्डिंग में आशीष डांगी का भी जिक्र बीच में आ रहा है। वहीं जिला खाद्यापूर्ति अधिकारी नरेंद्र सहरावत इन सभी आरोपों को खारिज करते हुए विभाग द्वारा जनहित में कार्य करने की बात कह रहे हैं।

 

 

बाक्स
इन अधिकारियों के बीच बातचीत की है कॉल रिकार्डिंग
————-

1-पहली फोन काल रिकार्डिंग डीएफएसआई अंकित हुड्डा और डीएफएसआई अजीत सिंह दलाल के बीच

2-दूसरी फोन काल रिकार्डिंग डीएफएसआई अंकित हुड्डा और डीएफएसआई अश्विनी काजल के बीच

3-तीसरी फोन काल रिकार्डिग डीएफएसआई अंकित हुड्डा और डीएफएसआई अशोक शर्मा के बीच

 

 

बाक्स

इन चार के पास यहां है चार्ज

———————————————-

अंकित हुड्डा के पास लाडवा में वितरण का चार्ज है और डीएफएसआई आशीष डांगी की मौत के बाद ठोल मंडी में सैकेंट सेट के रुप में चार्ज है,जबकि जिससे डीएफएसआई अजीत दलाल से वह बात कर रहे हैं,उनके पास इस्माईलाबाद गेहूं खरीद केंद्र तथा 2019-20 लाडवा की गेंहू खरीद का चार्ज भी है। वहीं खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के इंस्पेक्टर अशोक शर्मा के पास पिहोवा और लाडवा का चार्ज है।

 

 

 

बाक्स

तीसरी बातचीत उनसे, जिनके पास दो जिलों का चार्ज

———–

इन तीन मोबाइल काल रिकार्डिंग में एक काल डीएफएसआई अश्वनी काजल से हुई बातचीत की है,कालज के पास जिला जींद के पिल्लू खेड़़ा में गेहूं खरीद का चार्ज है,जबकि साथ ही कुरुक्षेत्र जिला की मेन मंडी में कस्टम मीलिंग राइस (सीएमआर) का चार्ज अभी भी है। उन्हें डीएफएससी नरेंद्र सहरावत का नजदीकी माना जाता है। बताया गया है कि जहां कई इंस्पेक्टर लोकल में भी चार्ज न मिलने से खफा हैं,वहीं काजल जनहित और अपनी क्षमता व योग्यता के दम पर दो जिलों में चार्ज संभाल रहे है।

 

 

बाक्स

तीनों फोन काल में 60 लाख उगाही के हिस्सेदारी की चर्चा

———————

तीनों फोन कॉल रिकार्डिंग में एक खास बात यह है कि अंकित हुड्डा तीनों अधिकारियों से बातचीत करते हुए पिहोवा की अनाज मंडी से इकट्ठे किये गये 60 लाख रुपये और इसका बंटवारे में हुए भेदभावपूर्ण रवैये का दुःखड़ा सुना रहे हैं। उनका कहना है कि सारी जिम्मेदारी लेंगे वे और 60 लाख इकट्ठे करके ले गया वो। बता दें कि यह 60 लाख रुपये राइस मिल को धान अलाट करने की एवज में पिहोवा अनाज मंडी से इक्ट्ठे किये गये थे।

 

 

 

बाक्स

साहब से मिलकर अच्छी जगह चार्ज दिलाने की बात…

—————————–

फोन काल रिकार्डिंग में अपने चहेतों को मेन मंडियों और मनमर्जी की जगह पर चार्ज देने की बात भी सामने आ रही है। वहीं इसी के साथ साहब से मिलकर अच्छी जगह का चार्ज दिलाने संबंधित बात और लाडवा में बड़ी गड़बड़ी का खुलासा भी इस काल रिकार्डिंग में हो रहा है। साथ ही शुभचिंतक के रुप में चेताया भी जा रहा है कि लाडवा मंडी का चार्ज छोड़ दो,वरना वहां हुई गड़बड़ी भारी पड़ सकती है।

 

 

बाक्स

डीसी ने मांगी तीनों काल रिकार्डिंग

—————————–

डीसी धीरेंद्र खड़गटा से जब खाद्यापूर्ति विभाग में चल रहे प्रकरण संबंधित जानकारी ली गई तो उन्होंने बताया कि इस मामले की जांच पुलिस कर रही है,जबकि प्रशासनिक स्तर पर इसमें कोई जांच नहीं कराई जा रही है। वहीं जब उन्हें विभाग की तीन आडियो रिकार्डिंग बारे और उसमें हुई बातचीत बारे विस्तार से बताया तो उन्होंने तीनों आडियों भेजने के साथ यह आश्वासन दिया कि इस मामले में जो संभव कार्रवाई होगी वह प्रशासन आवश्य कराएगा।

 

 

 

आखिरकार सरकार कराएगी सीबीईजांच
-मुझे तो अब भी यह डर है कि कई प्रभावशाली लोग उल्टा मेरे पति पर मामला बनवा दें

सर प्लीज इसे छापते रहना,ताकि मेरे पति को न्याय और दोषियों को सजा मिल सके…हरियाणा सरकार द्वारा खाद्यापूर्ति विभाग के डीएफएसआई आशीष डांगी सुसाइड प्रकरण में सीबीआई जांच की कार्रवाई आगे बढ़ाने के बाद जब इस बारे मृतक इंस्पेक्टर की पत्नी अनु डांगी से बात की गई वे रो पड़ी। हालांकि साथ ही वह इस बात से भयभीत थीं कि कहीं प्रभावशाली लोग अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर बच न जाए और उल्टा उनके मृतक पति पर ही कोई मामला न बन जाए। मृतक इंस्पेक्टर की पत्नी ने जिला खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अधिकारी और विभाग पर कई गंभीर आरोप लगाये। बहरहाल जिला खाद्य एवं आपूर्ति विभाग पर बड़ी गाज गिरने की खबर वीरवार शाम को मिली है,क्योंकि हरियाणा सरकार ने डीएफएसआई आशीष डांगी सुसाइड प्रकरण की जांच सीबीआई को सौंपने की कार्रवाई आगे बढ़ा दी है। गत दिनों कुरुक्षेत्र जिला खाद्य एवं आपूर्ति विभाग में कार्यरत इंस्पेक्टर आशीष डांगी ने जहरीला पदार्थ निकल लिया था,जिसके बाद उसे तत्काल नगर के एक प्राईवेट अस्पताल में दाखिल कराया गया था। यहां मौत से पहले उसने ऑन कैमरा एक बयान दिया था,जिसमें अपनी मौत के लिये जिम्मेदार कुरुक्षेत्र के जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी नरेंद्र सहरावत और इंस्पेक्टर अंकुर जांगड़ा तथा प्रवीण कुमार चानना पर गंभीर आरोप लगाते हुए विभाग में चल रहे भ्रष्टाचार और पैसे लेकर तैनाती देने जैसी बातें कहीं थी। इंस्पेक्टर की मौत के बाद यह वीडियो वायरल हो गया था,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Our COVID-19 India Official Data
Translate »
error: Content is protected !! Contact ATAL HIND for more Info.
%d bloggers like this: