AtalHind
राजनीति

इस साल पांच राज्यों में चुनाव प्रचार पर भाजपा ने 252 करोड़ रुपये ख़र्चे, 60 फीसदी बंगाल में

भाजपा ने पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस सरकार को सत्ता से हटाने के लिए पूरा दमखम झोंक दिया. इस राज्य में पार्टी ने 151 करोड़ रुपये खर्च किए

इस साल पांच राज्यों में चुनाव प्रचार पर भाजपा ने 252 करोड़ रुपये ख़र्चे, 60 फीसदी बंगाल में

Advertisement

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इस साल असम, पुडुचेरी, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और केरल में हुए विधानसभा चुनावों में प्रचार पर 252 करोड़ रुपये खर्च किए और इस राशि के 60 प्रतिशत हिस्से का इस्तेमाल उसने सिर्फ तृणमूल कांग्रेस शासित राज्य में किया.

भाजपा की ओर से निवार्चन आयोग को सौंपे गए खर्च के ब्योरे के मुताबिक, पार्टी ने इन पांच राज्यों के चुनाव में प्रचार में 2,52,02,71,753 रुपये खर्च किए. इनमें से असम में उसने 43.81 करोड़ रुपये और पुडुचेरी में 4.79 करोड़ रुपये खर्च किए.

Advertisement

तमिलनाडु में पार्टी ने 22.97 करोड़ रुपये खर्च किए. दक्षिण के इस राज्य में द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) अपने चिर प्रतिद्वंद्वी ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कषगम (अन्नाद्रमुक) से सत्ता छीनने में सफल रही. भाजपा को राज्य में सिर्फ 2.6 प्रतिशत मत मिले थे.भाजपा ने पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस सरकार को सत्ता से हटाने के लिए पूरा दमखम झोंक दिया. इस राज्य में पार्टी ने 151 करोड़ रुपये खर्च किए.

केरल में जहां वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) अपनी सत्ता बचाने में सफल रहा वहां भाजपा ने 29.24 करोड़ रुपये खर्च किए.

विभिन्न दलों की ओर से सौंपे गए खर्च को ब्योरे को निर्वाचन आयोग सार्वजनिक किया है.

Advertisement

तृणमूल कांग्रेस की ओर से सौंपे गए खर्च के ब्योरे के मुताबिक उसने पश्चिम बंगाल में भाजपा से कुछ ज्यादा 154.28 करोड़ रुपये खर्च किए

इस साल पांच राज्यों में चुनाव प्रचार पर भाजपा ने 252 करोड़ रुपये ख़र्चे, 60 फीसदी बंगाल मेंनई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इस साल असम, पुडुचेरी, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और केरल में हुए विधानसभा चुनावों में प्रचार पर 252 करोड़ रुपये खर्च किए और इस राशि के 60 प्रतिशत हिस्से का इस्तेमाल उसने सिर्फ तृणमूल कांग्रेस शासित राज्य में किया.

भाजपा की ओर से निवार्चन आयोग को सौंपे गए खर्च के ब्योरे के मुताबिक, पार्टी ने इन पांच राज्यों के चुनाव में प्रचार में 2,52,02,71,753 रुपये खर्च किए. इनमें से असम में उसने 43.81 करोड़ रुपये और पुडुचेरी में 4.79 करोड़ रुपये खर्च किए.

Advertisement

तमिलनाडु में पार्टी ने 22.97 करोड़ रुपये खर्च किए. दक्षिण के इस राज्य में द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) अपने चिर प्रतिद्वंद्वी ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कषगम (अन्नाद्रमुक) से सत्ता छीनने में सफल रही. भाजपा को राज्य में सिर्फ 2.6 प्रतिशत मत मिले थे.भाजपा ने पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस सरकार को सत्ता से हटाने के लिए पूरा दमखम झोंक दिया. इस राज्य में पार्टी ने 151 करोड़ रुपये खर्च किए.

केरल में जहां वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) अपनी सत्ता बचाने में सफल रहा वहां भाजपा ने 29.24 करोड़ रुपये खर्च किए.

विभिन्न दलों की ओर से सौंपे गए खर्च को ब्योरे को निर्वाचन आयोग सार्वजनिक किया है.

Advertisement

तृणमूल कांग्रेस की ओर से सौंपे गए खर्च के ब्योरे के मुताबिक उसने पश्चिम बंगाल में भाजपा से कुछ ज्यादा 154.28 करोड़ रुपये खर्च किए

Advertisement

Related posts

क्या नरेंद्र मोदी को हीरो मानने वाले लोगों की संख्या में बड़ी गिरावट आई है?

admin

एग्जिट पोल्स के निष्कर्ष महज़ -हवाई -फायर

atalhind

अनिल विज और मनोहर लाल खटर को बता दिया की जनता राज हरियाणा में आ रहा है जिसके चलते  भाजपा हरियाणा में अपने लिए सबसे “बड़ी” चुनौती आप को मान रही है?

atalhind

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL