Atal hind
टॉप न्यूज़ राष्ट्रीय हरियाणा

एक और मौत.सुसाइड नोट में लिखा- कृषि कानूनों की वापसी ही मेरी अंतिम इच्छा

 

किसान आंदोलन में एक और मौत
टीकरी बॉर्डर के पास पेड़ पर लटका मिला युवक,
सुसाइड नोट में लिखा- कृषि कानूनों की वापसी
ही मेरी अंतिम इच्छा
टीकरी बॉर्डर(हरियाणा)(#अटल हिन्द ब्यूरो )। कृषि कानूनों के विरोध में लगातार चल रहे किसान आंदोलन में बहादुरगढ़ में टीकरी बॉर्डर पर एक और किसान ने आत्महत्या कर ली। सुबह किसानों ने धरनास्थल से थोड़ी दूर खेत में पेड़ पर लटका देखा। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए मोर्चरी में भिजवा दिया है। मौके से मिले दो पन्नों के पत्र में उसने अपने मरने की वजह लिखी है। कृषि कानूनों की समाप्ति को अपनी अंतिम इच्छा बताते हुए सरकार से पूरा करने की अपील की है। उधर, ग्रामीण टीकरी बॉर्डर के लिए रवाना हो गए हैं।
मृतक किसान की पहचान हिसार जिले के सिसाय गांव के निवासी राजबीर के रूप में हुई है। राजबीर शुरुआत से ही किसान आंदोलन से सक्रिय रूप से जुड़ा हुआ था। पिछले 10 दिन से यहां टीकरी बॉर्डर के धरने पर मौजूद था। शनिवार रात को वह अपने गांव के जत्थे से अलग हो गया और खेतों में जाकर आत्महत्या कर ली। इस बात का पता रविवार सुबह चला,जब लोगों ने पेड़ से उसका शव लटका देखा।
राजबीर ने दो पन्ने के सुसाइड नोट में अपनी मौत का जिम्मेदार सरकार को ठहराया है। उन्होंने सुसाइड नोट में लिखा है कि सरकार मरने वाली की आखिरी इच्छा पूरी करती है तो मेरी इच्छा ये है कि कृषि कानूनों को रद किया जाए। राजबीर सिंह के एक बेटा व बेटी है। राजबीर ने अपने सुसाइड नोट में सरकार पर गुस्सा जाहिर करते हुए लिखा है कि ये सरकार खून मांगती और मैं अपनी शहादत देता हूँ। मेरी ये शहादत खराब नहीं जानी चाहिए चाहे मेरा शव सड़क पर रखना पड़ा। उन्होंने लिखा कि भगत सिंह ने देश के लिए जान दी थी और मैं किसान के लिए जान दे रहा हूँ। उन्होंने अपने गांव के किसानों से अपील करते हुए लिखा कि वह अपना हक लेकर ही वापस जाएं।
अब तक 200 से ज्यादा मौतें 12 बार की बैठकें बेनतीजा
अब तक 200 से ज्यादा आंदोलनकारियों की मौत ठंड, दिल के दौरे और मानसिक तनाव में आत्महत्या कर लेने के चलते हो चुकी है। साथ ही 12 बार सरकार के साथ किसान नेताओं की बैठकें होने के बावजूद कोई नतीजा नहीं निकला तो शनिवार को ही 100 दिन पूरे होने के बाद 101वें दिन को काले दिन के रूप में मनाया गया था।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

न पैसे खाऊंगा और न ही किसी को खाने दूंगा– रणधीर गोलन

admin

haryana पूर्ण लाॅकडाउन खोलने के हक में नहीं,स्थितियां बिगड़ने की आशंका जताई

Sarvekash Aggarwal

खट्टर सरकार आपको शादी के लिए मनपसंद रिश्ते ढूंढ कर देगी।

admin

Leave a Comment

URL