AtalHind
चण्डीगढ़  टॉप न्यूज़ राजनीति

ओपी धनखड़ ने मनोहर  खुश चुनाव के संघर्ष में मात खाने वाले नेताओं को बनाया  सिपहसालार

ओपी धनखड़ ने मनोहर  खुश चुनाव के संघर्ष में मात खाने वाले नेताओं को बनाया  सिपहसालार

ओपी धनखड़ ने ठोक बजाकर बनाई अपनी टीम

पहली बार संगठन में 1 दर्जन से अधिक बड़े नेताओं को दी गई जिम्मेदारी

नाम और काम दोनों की जुगलबंदी के साथ धनखड़ ने बनाए सिपहसालार

मुख्यमंत्री के करीबी नेताओं को टीम में लेकर संतुलन और समझदारी दोनों दिखाई

-राजकुमार अग्रवाल –

haryana news। लंबे इंतजार के बाद बीजेपी हरियाणा अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने प्रदेश कार्यकारिणी के जरिए अपनी टीम का ऐलान कर दिया।ओमप्रकाश धनखड़ की इस टीम में कई सारी खुशियां नजर आती हैं।

धनखड़ ने अपनी टीम में ठोक बजा कर उन्हें लोगों को शामिल किया है जो कुछ कर गुजरने की क्षमता रखते हैं और अपने इलाकों में बड़ा नाम रखते हैं।मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के करीबी नेताओं को टीम में लेकर जहां धनखड़ ने समझदारी दिखाई है वही संतुलन कायम करने का काम बखूबी अंजाम दिया है।


एक दर्जन बड़े चेहरों को किया टीम में शामिल
ओमप्रकाश धनखड़ ने प्रदेश की राजनीति और भाजपा दोनों में ही नाम रखने वाले 1 दर्जन से अधिक बड़े चेहरों को साथ लेकर वजनदार टीम का गठन किया हैलोकसभा सांसद सुनीता दुग्गल, पानीपत के विधायक महिपाल ढांडा, राई के विधायक मोहनलाल बड़ोली, पटौदी के विधायक सत्य प्रकाश जराकता, पलवल विधायक दीपक मंगला को संगठन में खास जिम्मेदारियां देने के अलावा पूर्व मंत्रियों कविता जैन,  मनीष ग्रोवर, कृष्ण पंवार, कर्णदेव कंबोज, पूर्व विधायकों रविंद्र बलियाला, सुखविंदर श्योराण, संतोष यादव,नसीम अहमद और पवन सैनी पर भरोसा जताकर प्रदेश के हर हिस्से में संगठन को मजबूती देने में सक्षम नेताओं को टीम में शामिल किया है।

मोर्चों पर खास निगाह
ओमप्रकाश धनखड़ ने प्रदेश कार्यकारिणी बनाते समय मोर्चों के अध्यक्ष के रूप में काम करने वाले चेहरों को कमान सौंपने का काम किया है। एससी मोर्चा की जिम्मेदारी पूर्व मंत्री कृष्ण लाल पंवार को देकर अनुसूचित जाति के वोटरों में बड़ी पैठ जमाने की उम्मीद जताई गई है। प्रदेश के एससी वर्ग में कृष्ण लाल पंवार से बड़ा कोई दूसरा चेहरा नहीं है। उनको संगठन में लेना भाजपा को बड़ा फायदा पहुंचाने का काम करेगा।बीसी समाज को भाजपा के साथ जोड़े रखने के लिए पूर्व मंत्री करण देव कंबोज के कंधों पर बड़ी जिम्मेदारी रखी गई है। पिछले दो चुनाव में बीसी वोटरों ने भाजपा का सबसे अधिक साथ निभाया है ऐसे में करण देव कंबोज इन वोटरों को भाजपा के साथ बनाए रखने के लिए निर्णायक साबित होंगे।

कांग्रेस में तीन दशक तक अथक मेहनत करके खास पहचान बनाने वाली सुमित्रा चौहान को भाजपा में आने के डेढ़ साल के अंदर कर्मठता का इनाम देते हुए महिला मोर्चा की कमान सौंपी गई है। सुमित्रा चौहान की नियुक्ति ने यह दिखा दिया है कि कांग्रेस में जहां काबिलियत और मेहनत को अनदेखा किया जाता है वही बीजेपी में समर्पित और कर्मठ लोगों को सम्मान और बड़ी जिम्मेदारी दी जाती है। सुमित्रा चौहान को यह जिम्मेदारी देना भाजपा को दूरगामी में बड़े फायदे पहुंचाने का काम करेगा।बीजेपी से नाराज चल रहे किसानों को मनाने के लिए ओमप्रकाश धनखड़ ने बाढड़ा के पूर्व विधायक सुखविंदर श्योराण पर भरोसा जताया है।आम तौर पर भाजपा से दूरी बनाए रखने वाले मुस्लिम समुदाय को भाजपा से जोड़ने की उम्मीद धनखड़ को पूर्व विधायक नसीम अहमद में नजर आई।

ओमप्रकाश धनखड़ ने प्रदेश में पार्टी संगठन को मजबूत रखने के लिए सबसे बेहतरीन चेहरों का चयन किया है।

 विवाद में पड़े बगैर सुनीता दुग्गल, मनीष ग्रोवर, कविता जैन, करण देव कंबोज, कृष्ण लाल पंवार, महिपाल ढांडा और पवन सैनी जैसे बड़े चेहरों को बड़ी जिम्मेदारियां देकर ओमप्रकाश धनखड़ ने पार्टी के जनाधार को और मजबूती देने की प्लानिंग के तहत प्रदेश कार्यकारिणी का गठन किया है।प्रदेश भाजपा में बरसों बात प्रदेश कार्यकारिणी में एक साथ इतने बड़े चेहरों को शामिल किया गया है।

चुनाव के संघर्ष में मात खाने वाले नेताओं को संगठन में जिम्मेदारी देकर पूरी समझदारी दिखाई गई है।
कृष्ण लाल पंवार, करण देव कंबोज, सुमित्रा चौहान, नसीम अहमद जैसे कर्मठ चेहरों को मोर्चों की कमान देना भी भाजपा को बड़ा फायदा पहुंचाने का काम करेगा।मुख्यमंत्री के करीबी नेताओं को टीम में शामिल करना भी धनखड़ की अकलमंदी कही जाएगी क्योंकि संगठन के बेहतर परिणाम हासिल करने के लिए सरकार के साथ जुगलबंदी जरूरी है।ओमप्रकाश धनखड़ ने सीएम खट्टर की चाहतों को बराबर सम्मान देकर पार्टी और संगठन के मेल मिलाप को बेहतर दिशा देने का काम किया है। ओमप्रकाश धनखड़ ने अपनी तरफ से बेहतरीन टीम का गठन किया है। अब देखना यही है कि यह चेहरे भाजपा हाईकमान और ओमप्रकाश धनखड़ की उम्मीदों पर कितना खरा उतरते हैं।

Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

दिल्ली कोर्ट में गैंगवार : टिल्लू गैंग ने वकीलों के वेश में कुख्यात गैंगस्टर जितेंद्र गोगी को उड़ाया

atalhind

हम ‘तालिबान राज्य नहीं हैं.’मुख्य आरोपी भूपिंदर तोमर उर्फ़ पिंकी चौधरी को अग्रिम ज़मानत देने से इनकार-अदालत

admin

वे पांच कारण, जिनकी वजह से विजय रूपाणी को मुख्यमंत्री पद गंवाना पड़ा

atalhind

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL