AtalHind
उत्तर प्रदेशराष्ट्रीय

कथित तौर पर पाकिस्तानी झंडा फहराने के आरोप में चार के ख़िलाफ़ राजद्रोह का मामला दर्ज

GORAKHPUR police

हिंदू संगठन ब्राह्मण जन कल्याण समिति के अध्यक्ष कल्याण पांडेय ने चौरी चौरा पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज कराई.एक भीड़ इन घरों के बाहर इकट्ठा हो गई और हिंदू धर्म से जुड़े नारे लगाने लगी और घरों पर पथराव किया. आरोपियों में से एक का दोपहिया वाहन भी भीड़ ने क्षतिग्रस्त कर दिया.

कथित तौर पर पाकिस्तानी झंडा फहराने के आरोप में चार के ख़िलाफ़ राजद्रोह का मामला दर्ज

Advertisement

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश की गोरखपुर पुलिस ने दो घरों के ऊपर कथित तौर पैट पाकिस्तानी झंडे फहराए जाने को लेकर ब्राह्मण जन कल्याण समिति की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए राजद्रोह के आरोप में 10 नवंबर को चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया.इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, सोशल मीडिया पर इससे संबंधित एक वीडियो वायरल हो गया था, जिसमें दो घरों की छतों पर लटके पाकिस्तानी झंडों की कथित तस्वीरें देखी जा सकती है.इसके बाद हिंदू संगठन ब्राह्मण जन कल्याण समिति के अध्यक्ष कल्याण पांडेय ने चौरी चौरा पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज कराई.एक भीड़ इन घरों के बाहर इकट्ठा हो गई और हिंदू धर्म से जुड़े नारे लगाने लगी और घरों पर पथराव किया. आरोपियों में से एक का दोपहिया वाहन भी भीड़ ने क्षतिग्रस्त कर दिया.

इस मामले में दर्ज एफआईआर में चार स्थानीय कारोबारी तलीम, पप्पू, आशिक और आसिफ के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है.

गोरखपुर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार अवस्थी ने कहा कि चार लोगों ने इस्लामिक झंडे लगाने का दावा किया है, जिसका पाकिस्तान से कोई लेना-देना नहीं है.

Advertisement

हालांकि, सोशल मीडिया पर इन झंडों को पाकिस्तानी झंडे बताए जाने के बाद इन्हें हटा लिया गया.

पुलिस ने दोनों घरों की तलाशी ली लेकिन उन्हें कोई पाकिस्तानी झंडा नहीं मिला. आरोपियों ने इन धार्मिक झंडों को पुलिस को सौंप दिया है. गोरखपुर पुलिस ने गुरुवार को ट्वीट कर घटना का उल्लेख किया था.

पुलिस ने ट्वीट कर बयान जारी कर कहा था कि पुलिस ने चार लोगों के खिलाफ इस सूचना पर मामला दर्ज किया है कि इन्होंने पाकिस्तानी झंडे लगाए थे. इन झंडों को कब्जे में ले लिया गया है.

Advertisement

दरअसल पुलिस के इस बयान में कहीं भी यह नहीं कहा गया था कि उनकी तलाशी में उन्हें कोई पाकिस्तानी झंडा मिला है या फिर उन्होंने जिन झंडों को कब्जे में लिया है, वे पाकिस्तानी झंडे हैं.

गोरखपुर के एसएसपी विपिन टाडा ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है और इनमें से एक झंडे पर उर्दू में लिखे शब्दों की जांच कर रही है.

उन्होंने कहा कि पुलिस को अभी इसकी भी पुष्टि करनी है कि क्या इन चारों लोगों के घर वही है, जिनकी तस्वीरें ऑनलाइन वायरल हुई है. क्षेत्र में भारी संख्या में पुलिसबलों को तैनात किया गया है.

Advertisement

Share this story

Advertisement

Related posts

किसान आंदोलन के 300 दिन पूरे

admin

घर घर में है रावण बैठा, अब इतने राम कहां से लाऊं !

admin

हरियाणा सरकार का दावा, उनके राजस्व रिकॉर्ड में ‘अरावली’ नाम का कोई शब्द नहीं है

admin

Leave a Comment

URL