Atal hind
जींद टॉप न्यूज़ हरियाणा

करसिंधु गांव में टूटने लगा है किसानों के सब्र का बांध…..

टूटने लगा है किसानों के सब्र का बांध…..

हलके के करसिंधु गांव में किसान ने गेहूं की खड़ी फसल की जुताई की, गांव से किसानों ने पहुंच कर किसान को रोका
सनी नाथ /atal hindउचाना/ किसानों के सब्र का बांध अब टूट रहा है। प्रदेश के कई हिस्सों में खेतों खड़ी फसल की जुताई किसानों द्वारा किए जाने के मामले सामने आ रहे है। मंगलवार को हलके के करसिंधु गांव के कुचराना खुर्द के कच्चे रास्ते पर किसान लीला अपने खेतों में खड़ी गेहूं की फसल की जुताई के लिए टै्रक्टर लेकर खेत में पहुंच गया। गांव में जैसे ही किसानों को इसका पता लगा तो काफी संख्या में किसान लीला के खेत में पहुंच गए। यहां किसानों ने बड़ी मशक्त के बाद लीला को खड़ी गेहूं की फसल की जुताई करने से रोका। जब तक किसान खेत में पहुंचे तब तक लीला एक एकड़ में खड़ी गेहूं की फसल की जुताई कर चुका था।
भावुक होते हुए लीला ने कहा कि तीन महीनों से अधिक का समय किसानों को दिल्ली बॉर्डर पर धरना देते हुए हो गया है लेकिन केंद्र सरकार किसानों की कोई सुनवाई नहीं कर रही है। तीनों कृषि कानूनों खेती के लिए नुकसान दायक है ऐसे में तीनों कानूनों को सरकार रद्द करें। पांच एकड़ में गेहूं की फसल उसकी है। उसके मन में आया कि सरकार तो उनकी सुनवाई नहीं कर रही है ऐसे में पांच एकड़ में खड़ी गेहंू की फसल की जुताई कर दे। गांव से काफी संख्या में किसानों ने पहुंच कर उसे रोका दिया। एक एकड़ के करीब गेहूं की फसल की जुताई उसने कर दी।
पूर्व पंच नन्हा, संदीप, नरेश, होकम, काला, जुगड़, संदीप ने बताया कि लीला खुद के खेत में गेहूं की खड़ी फसल की जुताई की जानकारी किसानों को मिली तो वो तुरंत लीला के खेत में पहुंच गए। यहां लीला ट्रैक्टर से गेहूं की फसल की जुताई करने में लगा था। बार-बार समझाने के बाद भी लीला मान नहीं रहा था। हाथ जोड़ कर बड़ी मुश्किल से किसानों से ऐसा कर खुद का नुकसान न करने के लिए मनाया। किसान अपनी खड़ी फसल की जुताई न करें, क्योंकि इससे सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ता बल्कि गेहूं की फसल को पकने दे।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

हरियाणा के 242 गांव और तीन शहर होंगे लाल डोरा मुक्त

Sarvekash Aggarwal

दुष्यंत चौटाला पर टिप्पणी ,सरकार ने ड्राइवर पन्ना लाल को हटाया,कोर्ट ने वापिस लगाया

admin

हरियाणा में  शिक्षकों के तबादले अगले माह व पदोन्नतियांभी जल्द,

admin

Leave a Comment

URL