AtalHind
खेल

कलायत में खेल स्टेडियम नहीं होने से खफा युवा वर्ग ने निकाला रोष मार्च 


कलायत में खेल स्टेडियम नहीं होने से खफा युवा वर्ग ने निकाला रोष मार्च 

कलायत में खेल स्टेडियम नहीं होने से खफा युवा वर्ग ने निकाला रोष मार्च

सरकार व प्रशासन के खिलाफ किया प्रदर्शन

Advertisement

खेल स्टेडियम की मांग को लेकर मुख्यमंत्री व राज्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

कलायत(tarsem singh/atalhind)

कलायत में खेल स्टेडियम नहीं होने से खफा युवा वर्ग ने निकाला रोष मार्च 

Advertisement

एक तरफ तो जहां केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा खेलों को बढ़ावा देने के लिए लंबे चौड़े वायदे किए जा रहे हैंं वहीं कलायत में 50 हजार से अधिक की आबादी होने के बावजूद भी युवा वर्ग के लिए खेल स्टेडियम नहीं होने से युवा वर्ग खेलों के साथ साथ डिफेंस व स्वास्थ्य में लगातार पिछड़ता जा रहा है। स्टेडियम न होने के कारण युवा वर्ग सडक़ों पर दौडऩे के लिए मजबूर हैं। खेल स्टेडियम की मांग को लेकर नगर के युवाओं ने पुलिस स्टेशन, रेलवे रोड़ से एसडीएम कार्यालय तक जोरदार प्रदर्शन किया। सैकड़ों की संख्या में युवाओं ने खेल स्टेडियम की मांग को लेकर एसडीएम कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन किया तथा सरकार, महिला राज्यमंत्री व प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। मौके पर एसडीएम नहीं होने के चलते युवाओं ने तहसीलदार हरदेव सिंह के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर जल्द स्टेडियम बनाए जाने की मांग की। उसके उपरांत सभी एकत्रित युवा वर्ग प्रदर्शन करते हुए नगर पालिका कार्यालय पहुंचे तथा पालिका चेयरपर्सन प्रतिनिधि राजू कौशिक के माध्यम से महिला एवं बाल कल्याण राज्यमंत्री कमलेश ढांडा के नाम ज्ञापन सौंपा। खेल स्टेडियम की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे युवाओं ने बताया कि कलायत की आबादी 50 हजार से भी अधिक है और बड़े शर्म की बात है कि कलायत में कोई भी खेल स्टेडियम नहीं है। कलायत हल्का में पिछले कई दशक से चुनावों के समय तो लंबे चौड़े वायदे करते हैं लेकिन सत्ता पाने के बाद सत्ता के नशे में सभी वायदों को भूल जाते हैं। उन्होंने कहा कि वे खेल स्टेडियम बनाए जाने की मांग को लेकर संबंधित विभाग से लेकर सरकार को कई बार अवगत करवा चुके हैं लेकिन दनकी मांग को दर किनार किया जाता रहा है। यदि जल्द ही उनकी खेल स्टेडियम की मांग को पूरा नहीं किया गया तो जिस प्रकार से सरकार को कृषि कानूनों को लेकर किसानों के विरोध समाना करना पड़ रहा है उसी प्रकार से युवा वर्ग के विरोध का भी सामना करना पड़ेगा। इस अवसर पर राघव राणा, अमित राणा, कुलदीप, सलिंद्र राणा, विवेक कुमार, गौरव, राजेश, अंकित राणा, निखिल, जगदीप, मंदीप, अभिषेक, शुभम, आर्यन सहित अनेक युवा मौजूद रहे। नायब तहसीलदार हरदेव सिंह ने कहा कि युवाओं ने  नगर में खेल स्टेडियम बनाए जाने के लिए माननीय मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया है। उनके मांग पत्र को एसडीएम के माध्यम से माननीय मुख्यमंत्री के पास भेज दिया जाएगा।

कलायत में खेल स्टेडियम नहीं होने से खफा युवा वर्ग ने निकाला रोष मार्च 

पूर्व में करीब 3 वर्ष तक पालिका के चेयरपर्सन रहते करवाया जाना चाहिए था खेल स्टेडियम निर्माण: कौशिक

Advertisement

पालिका चेयपर्सन शशि बाला कौशिक व पालिका उपप्रधान पूजा धीमान ने कहा कि खेल स्टेडियम के लिए चिंहित की गई जमीन के साथ लगते जमीन पर पूर्व चेयपर्सन द्वारा राजकीय महिला कालेज से बस अड्डा तक 40 फुट रोड़ के लिए जगह दे दी गई जिसके कारण खेल विभाग के खेल स्टेडियम के लिए 4 एकड़ का नोरम पूरा नहीं होने से खेल स्टेडियम का निर्माण नहीं हो सका। उन्होंने कहा कि नगर के युवा वर्ग की खेल स्टेडियम बनाए जाने की मांग जायज है तथा पूर्व चेयरपर्सन करीब 3 वर्ष तक सत्ता में रहे तो उन्हें खेल स्टेडियम निर्माण करवाया जाना चाहिए था जो स्वागत योग्य होता। मुख्यमंत्री द्वारा 13 अगस्त 2016 को विकास रैली के दौरान नगर में लघु सचिवालय, उपमंडल नागरिक अस्पताल, पीडब्लयूडी रेस्ट हाऊस, नगर पालिका भवन, कपिल मुनि महिला कालेज को सरकारी कालेज दर्जा दिए जाने, वार्ड 7 व 11 में सामुदायिक केंद्र निर्माण व पार्क तथा खेल स्टेडियम आदि के लिए स्वीकृति दी गई थी जिसमें से जगह उपलब्ध नहीं होने के कारण खेल स्टेडियम नहीं बन पाया। उन्होंने कहा कि महिला एवं बाल कल्याण राज्यमंत्री कमलेश ढांडा नगर के चहुमुखी विकास को लेकर सजग है तथा उनके द्वारा जहां करीब 5 करोड़ के नगर व नेशनल हाइवे पर स्ट्रीट लाइट तथा सीसीटीवी व नगर के विकास के लिए 5 करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत की गई है वहीं उनके निर्देशानुसार लघु सचिवालय का निर्माण पूरा होने के बाद तहसील कार्यालय में खेल स्टेडियम निर्माण के लिए पालिका पार्षदों द्वारा प्रस्ताव पास किया गया है।

Share this story

Advertisement
Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

कलायत में खेल स्टेडियम नहीं होने से खफा युवा वर्ग ने निकाला रोष मार्च 

atalhind

जनता के आग्रह’ नहीं, प्रधानमंत्री मोदी के ट्वीट के चलते बदला गया राजीव गांधी खेल रत्न का नाम

atalhind

अंधेरगर्दी का हरियाणा में सबसे विलक्षण नजारा,एथलेटिक ट्रैक के बीचों-बीच मैदान में छोड़ दिया  बिजली का खंभा

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL