AtalHind
दिल्ली (Delhi)राष्ट्रीयहेल्थ

कल वे कहेंगे कि देश में कोविड-19 से कोई मौत नहीं हुई-सत्येंद्र जैन

कल वे कहेंगे कि देश में कोविड-19 से कोई मौत नहीं हुई-सत्येंद्र जैन
यह कहना बिल्कुल ग़लत कि ऑक्सीजन की कमी के कारण कोई मौत नहीं हुईः दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री

नयी दिल्लीः दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बुधवार को कहा कि कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के दौरान दिल्ली में और देश में कई अन्य स्थानों पर ऑक्सीजन की कमी के कारण कई लोगों की जान गई.उन्होंने कहा, ‘अगर ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं थी तो अस्पताल अदालत क्यों गए? अस्पताल और मीडिया रोज ऑक्सीजन की कमी के मुद्दे उठा रहे थे. टेलीविजन चैनलों ने दिखाया कि कैसे अस्पतालों में जीवनदायिनी गैस की कमी थी. यह कहना बिल्कुल गलत है कि ऑक्सीजन की कमी के कारण किसी की जान नहीं गई. दिल्ली तथा देश में कई अन्य स्थानों पर ऑक्सीजन की कमी के कारण कई लोगों की मौत हुई है.’दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने इस तरह की मौतों को लेकर कोई डेटा नहीं मांगा था. हालांकि, दिल्ली सरकार ने समिति का गठन कर खुद से इन आंकड़ों का पता लगाने की कोशिश की थी.उन्होंने आरोप लगाया, ‘दिल्ली सरकार ने इस तरह की मौतों का पता लगाने के लिए एक समिति का गठन किया था और मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये की मुआवजा राशि दी थी, लेकिन केंद्र ने उपराज्यपाल के जरिये इस समिति को भंग कर दिया.’जैन ने कहा, ‘वरना हमारे पास दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी से दम तोड़ चुके लोगों की मौत का सटीक आंकड़ा होता. मुझे लगता है कि केंद्र ने समिति को इस वजह से भंग किया, ताकि वह कह सके कि ऑक्सीजन संकट से किसी की मौत नहीं हुई.’उन्होंने कहा, ‘केंद्र सरकार ऑक्सीजन की कमी से अपनों को खो चुके लोगों के घाव पर नमक लगाने का काम कर रही है. कल वे कहेंगे कि देश में कोविड-19 से कोई मौत नहीं हुई.’दरअसल केंद्र सरकार ने मंगलवार को राज्यसभा को बताया था कि राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों में कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी के कारण कोई मौत नहीं हुई.
Advertisement

Tomorrow they will say that there is no death due to Kovid-19 in the country – Satyendra Jain
Absolutely wrong to say that no death occurred due to lack of oxygen: Delhi Health Minister

संसद को गुमराह किया कि ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं हुई: कांग्रेस
कांग्रेस ने मंगलवार को स्वास्थ्य राज्यमंत्री भारती प्रवीण पवार पर यह गलत सूचना देकर संसद को गुमराह करने का आरोप लगाया कि कोविड महामारी की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी के कारण किसी की मौत नहीं हुई.कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल ने कहा कि वह भाजपा मंत्री के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस लाएंगे, क्योंकि उन्होंने सदन को गुमराह किया है.वेणुगोपाल ने कहा कि सभी ने देखा है कि राष्ट्रीय राजधानी सहित कई राज्यों में ऑक्सीजन की कमी के कारण कैसे लोगों की मौत हुई.उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘मंत्री ने सदन को गुमराह किया और मैं निश्चित रूप से मंत्री के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव पेश करूंगा, क्योंकि मंत्री ने गलत जानकारी देकर सदन को गुमराह किया है.’इसी मामले पर सरकार पर कटाक्ष करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी कहा है कि सरकार में संवेदनशीलता और सच्चाई की भारी कमी है.
‘दोस्तो, जिसके लिए ऑक्सीजन सिलेंडर चाहिए था, वो अब नहीं रहे.” एक तरफ लोगों का भोगा हुआ ये सच. दूसरी तरफ़ संसद में मोदी सरकार का जवाब- ऑक्सीजन की कमी से किसी के मरने की सूचना नहीं.
Advertisement
ऑक्सीजन का निर्यात बढ़ाने से मौतें हुई: प्रियंका गांधी
कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने कहा कि ये मौतें इसलिए हुईं क्योंकि महामारी वाले साल में सरकार ने ऑक्सीजन का निर्यात बढ़ा दिया और ऑक्सीजन का परिवहन करने वाले टैंकरों की व्यवस्था नहीं की.कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा, ‘मौतें इसलिए हुईं क्योंकि महामारी वाले साल में केंद्र सरकार ने ऑक्सीजन निर्यात 700 प्रतिशत तक बढ़ा दिया.’कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि मौतें इसलिए हुईं क्योंकि सरकार ने ऑक्सीजन का परिवहन करने वाले टैंकरों की व्यवस्था नहीं की.उन्होंने कहा कि अधिकार संपन्न समूह और संसदीय समिति की सलाह को नजरअंदाज किया गया और ऑक्सीजन उपलब्ध कराने का कोई इंतजाम नहीं किया गया.उन्होंने कहा, अस्पतालों में ऑक्सीजन संयंत्र लगाने में कोई सक्रियता नहीं दिखाई गई.
केंद्र को अदालत में घसीटें: राउत
शिवसेना सांसद संजय राउत ने का कहना है कि कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से अपने परिजनों को खोने वाले लोगों को केंद्र सरकार को अदालत में ले जाना चाहिए.राउत ने सरकार के रुख पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘अनेक राज्यों में कई लोग ऑक्सीजन की कमी से मारे गए. जिन लोगों के रिश्तेदार ऑक्सीजन की कमी की वजह से मारे गए, उन्हें केंद्र सरकार को अदालत में ले जाना चाहिए.’शिवसेना के राज्यसभा सदस्य ने संवाददाताओं से बातचीत में सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, ‘केंद्र सरकार सच से भाग रही है. मुझे लगता है कि यह पेगासस (इजराइली स्पायवेयर) का असर है.’उन्होंने कहा कि यह पता लगाना होगा कि जिन लोगों के रिश्तेदारों की ऑक्सीजन की कमी की वजह से मृत्यु हुई, क्या वे इस मुद्दे पर संसद में दिए गए केंद्र के जवाब पर भरोसा करते हैं या नहीं.
Advertisement
Advertisement

Related posts

यूएन के विशेष दूतों ने कहा- भारत  के आईटी नियम अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार नियमों का उल्लंघन करते हैं

admin

JNU ELECTION-जेएनयू  में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी)की करारी हार

editor

BHARAT-भारत असभ्य-अभद्र-बर्बर ,जाति-धर्म-संप्रदाय आदि के नाम पर भयानक हिंसा वाले युग में प्रवेश कर चुका है

editor

Leave a Comment

URL