Atal hind
Uncategorized

काले धन की जड़े भिवानी में भी करोड़ों रुपयों के अवैध कारोबार हो रहे है पर्ची से

काले धन की जड़े भिवानी में भी करोड़ों रुपयों के अवैध कारोबार हो रहे है पर्ची से

अवैध तरीके से हो रहा करोड़ों का लेन-देन, आंखे मूंदे बैठी पुलिस, नहीं किसी के पास आरबीआई से कोई लाइसेंस -स्वास्थ्य शिक्षा सहयोग संगठन के प्रदेश अध्यक्ष बृजपाल परमार ने 74 पेजों के सबूतों के साथ पीएम व सीएम विंडों में शिकायत. आरटीआई में दी सूचना में भिवानी पुलिस ने भी माना कच्ची पर्ची से दो करोड़ तक का हुआ लेनदेन

भिवानी (अटल हिन्द ब्यूरो )   काले धन की जड़े भिवानी में भी करोड़ों रुपयों के अवैध कारोबार की जड़ों को मजबूत कर रही है। इसका खुलासा आरटीआई में मांगी गई सूचना में हुआ है। पुलिस विभाग ने खुद आरटीआई के जवाब में माना है कि कच्ची पर्ची पर दो करोड़ रुपये तक का लेन-देन हुआ है। मगर फिर भी पुलिस आंखे मूंदे बैठी हैं। स्वास्थ्य शिक्षा सहयोग संगठन के प्रदेश अध्यक्ष बृजपाल परमार ने 74 पेजों के कच्ची पर्चियों व आरटीआई के सबूतों सहित मनी लैंडिंग(काला धन) के अवैध कारोबार की शिकायत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व सीएम मनोहरलाल को भेजी है। इसी मामले की शिकायत एक सीएम विंडों पर भी डाली गई है।
स्वास्थ्य शिक्षा सहयोग संगठन के प्रदेश अध्यक्ष बृजपाल परमार ने पीएम मोदी को भेजी शिकायत में बताया कि भिवानी में हर माह करोड़ों रुपयों का लेन-देन कच्ची पर्ची के सहारे किया जा रहा है, जो काले धन की श्रेणी में आता है। नियमों के अनुसार आयकर विभाग के नियमानुसार दस हजार से अधिक नकद में लेन-देन नहीं किया जा सकता है। दस हजार से अधिक का नकदी में लेन-देन बैंक के माध्यम से अनिवार्य है। मगर कच्ची पर्ची के इस अवैध कारोबार से जुड़े फाइनेंसरों व दलालों ने अपना जाल इतना फैला रखा है कि उसके झांसे कई लोगों को लिया जा चुका है, कई लोग तो मोटी ब्याज सहित रकम को चुकता नहीं कर पाने पर आत्महत्या तक मजबूर हो चुके हैं या फिर भय से शहर छोड़कर भागने पर मजबूर हो चुके हैं। पुलिस विभाग के समक्ष भी कुछ ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें कच्ची पर्ची पर दो करोड़ रुपये तक का लेन-देन हुआ है, मगर देनदार की शिकायत पर लेनदार पर तो केस दर्ज कर देते हैं, लेकिन कालाधन देनदार पर पुलिस जांच की सुई तक नहीं घुमाती है।

ये हैं आरबीआई के नियम
किसी भी तरह के कारोबार में रुपयों का लेन-देन करने के लिए पहले रजिस्ट्रार ऑफ कंपनी का गठन जरूरी है। जिसका रजिस्ट्रेशन भी अनिवार्य है। इसके उपरांत आरबीआई से लेन-देन का अलग से रजिस्ट्रेशन कराना पड़ता है। इसी के बाद नियमानुसार लाखों व करोड़ों रुपयों का लेन-देन संभव है। लेकिन बाजार में काला धन का अवैध कारोबार से जुड़े फाइनेंसर व दलाल कच्ची पर्ची यानी एक छोटे से कागज पर रसीदी टिकट लगाकर केवल हाथ से लिखकर ही करोड़ों का लेन-देन कर रहे हैं। अवैध फाइनेंसर व दलाल अपनी दबगई से लेनदारों की प्रॉपर्टी भी हथिया लेते हैं, जिसके बाद मजबूरन व्यक्ति आत्महत्या जैसा कदम भी उठा रहे हैं।

ये है सजा का प्रावधान
आयकर विभाग ने किसी भी तरह के लेन-देन को लेकर नियम बनाए हुए हैं। इसमें दस हजार से अधिक राशि का नकदी में लेनदेन नहीं किया जा सकता। इसके बाद लाखों और करोड़ों के लेन-देन का अगर कोई व्यक्ति या व्यापारी अवैध तरीके से लेन-देन करता है तो उसकी संपत्ति जप्त करने और सात साल तक की सजा का भी प्रावधान किया हुआ है।

Leave a Comment