Atal hind
कैथल टॉप न्यूज़ राजनीति हरियाणा

किसानों पर लागू तीन कृषि अध्यादेश किसान, मजदूर व आढती विरोधी – सुरजेवाला

किसानों पर लागू तीन कृषि अध्यादेश किसान, मजदूर व आढती विरोधी – सुरजेवाला

कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि इतिहास की सबसे जालिम, जाबर व निक्कमी सरकार साबित हुई खट्टर दुष्यंत चौटाला सरकार

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि अध्यादेश को लेकर रणदीप सुरजेवाला ने किया कार्यकर्ताओ के साथ धरना प्रदर्शन,  राष्ट्रपति के नाम नायब तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन

Kaithal, 02 अक्तूबर 2020(अटल हिन्द/राजकुमार अग्रवाल )
महात्मा गांधी व लाल बहादुर शास्त्री की जयंती को कांग्रेस ने आज देश भर में किसान-मजदूर बचाओ आंदोलन दिवस के रूप में मनाया। केंद्र की मोदी सरकार द्वारा अभी हाल ही में लाए गए किसान, मजदूर और आढ़ती विरोधी अध्यादेशों को लेकर कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने कैथल में हरियाणा शहीद स्मारक पर कांग्रेस कार्यकर्ताओ के साथ धरना दिया और वहाँ से पिहोवा चौंक तक पैदल मार्च करते हुए हजारो की संख्या में प्रदर्शन किया व राष्ट्रपति के नाम नायब तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा।

महात्मा गांधी व लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमा पर रणदीप सुरजेवाला (Randeep Surjewala)ने पुष्प अर्पित किए व कैथल में धरना की अध्यक्षता करते हुए सुरजेवाला ने कहा कि मोदी(modi) -खट्टर व दुष्यंत की जोडी ने खेत-खलिहान-अनाज मंडियों पर तीन अध्यादेशों का क्रूर प्रहार किया है। ये ‘काले कानून’ देश में खेती व करोड़ों किसान-मज़दूर-आढ़ती को खत्म करने की साजिश के दस्तावेज हैं। खेती और किसानी को पूंजीपतियों के हाथ गिरवी रखने का यह सोचा-समझा षडयंत्र है।

उन्होंने कहा कि अब यह साफ है कि मोदी सरकार पूंजीपति मित्रों के जरिए ‘ईस्ट इंडिया कंपनी’ बना रही है। अन्नदाता किसान व मजदूर की मेहनत को मुट्ठीभर पूंजीपतियों की जंजीरों में जकड़ना चाहती है। किसान को ‘लागत+50 प्रतिशत मुनाफा’ का सपना दिखा सत्ता में आए प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी ने तीन अध्यादेशों के माध्यम से खेती के खात्मे का पूरा उपन्यास ही लिख दिया। अन्नदाता किसान के वोट से जन्मी मोदी सरकार आज किसानों के लिए भस्मासुर साबित हुई है।

मोदी सरकार आरंभ से ही है ‘किसान विरोधी’। साल 2014 में सत्ता में आते ही किसानों के भूमि मुआवज़ा कानून को खत्म करने का अध्यादेश लाई थी। तब भी कांग्रेस व किसान के विरोध से मोदी जी ने मुँह की खाई थी।

सुरजेवाला ने कहा कि किसान-मजदूर-आढ़ती अनाज  मंडी व सब्जी मंडियों को जड़ से खत्म करने के तीन काले  कानूनों की सच्चाई इन दस बिंदुओं से उजागर हो जाती है:-

Ø  अनाज मंडी-सब्जी मंडी यानि APMC को खत्म करने से ‘कृषि उपज खरीद व्यवस्था’ पूरी तरह नष्ट हो जाएगी। ऐसे में किसानों को न तो ‘न्यूनतम समर्थन मूल्य’ (MSP) मिलेगा और न ही बाजार भाव के अनुसार फसल की कीमत। इसका जीता जागता उदाहरण भाजपा शासित बिहार है। साल 2006 में APMC Act यानि अनाज मंडियों को खत्म कर दिया गया। आज बिहार के किसान की हालत बद से बदतर है। किसान की फसल को दलाल औने-पौने दामों पर खरीदकर दूसरे प्रांतों की मंडियों में मुनाफा कमा MSP पर बेच देते हैं। अगर पूरे देश की कृषि उपज मंडी व्यवस्था ही खत्म हो गई, तो इससे सबसे बड़ा नुकसान किसान-खेत मजदूर को होगा और सबसे बड़ा फायदा मुट्ठीभर पूंजीपतियों को।

Ø  किसान को खेत के नज़दीक अनाज मंडी-सब्जी मंडी में उचित दाम किसान के सामूहिक संगठन तथा मंडी में खरीददारों के परस्पर कॉम्पटिशन के आधार पर मिलता है। मंडी में पूर्व निर्धारित ‘न्यूनतम समर्थन मूल्य’ (MSP) किसान की फसल के मूल्य निर्धारण का बेंचमार्क है। यही एक उपाय है, जिससे किसान की उपज की सामूहिक तौर से ‘प्राईस डिस्कवरी’ यानि मूल्य निर्धारण हो पाता है। अनाज-सब्जी मंडी व्यवस्था किसान की फसल की सही कीमत, सही वजन व सही बिक्री की गारंटी है। अगर किसान की फसल को मुट्ठीभर कंपनियां मंडी में सामूहिक खरीद की बजाय उसके खेत से खरीदेंगे, तो फिर मूल्य निर्धारण, वजन व कीमत की सामूहिक मोलभाव की शक्ति खत्म हो जाएगी। स्वाभाविक तौर से इसका नुकसान किसान को होगा।

Ø  मोदी सरकार का दावा कि अब किसान अपनी फसल देश में कहीं भी बेच सकता है, पूरी तरह से सफेद झूठ है। आज भी किसान अपनी फसल किसी भी प्रांत में ले जाकर बेच सकता है। परंतु वास्तविक सत्य क्या है? कृषि सेंसस2015-16 के मुताबिक देश का 86 प्रतिशत किसान 5 एकड़ से कम भूमि का मालिक है। जमीन की औसत मल्कियत 2 एकड़ या उससे कम है। ऐसे में 86 प्रतिशत किसान अपनी उपज नजदीक अनाज मंडी-सब्जी मंडी के अलावा कहीं और ट्रांसपोर्ट कर न ले जा सकता या बेच सकता है। मंडी प्रणाली नष्ट होते ही सीधा प्रहार स्वाभाविक तौर से किसान पर होगा।

Ø  मंडियां खत्म होते ही अनाज-सब्जी मंडी में काम करने वाले लाखों-करोड़ों मजदूरों, आढ़तियों, मुनीम, ढुलाईदारों, ट्रांसपोर्टरों, शेलर आदि की रोजी रोटी और आजीविका अपने आप खत्म हो जाएगी।

Ø  अनाज-सब्जी मंडी व्यवस्था खत्म होने के साथ ही प्रांतों की आय भी खत्म हो जाएगी। प्रांत ‘मार्केट फीस’ व ‘ग्रामीण विकास फंड’ के माध्यम से ग्रामीण अंचल का ढांचागत विकास करते हैं व खेती को प्रोत्साहन देते हैं। उदाहरण के तौर पर पंजाब ने इस गेहूं सीजन में 127.45 लाख टन गेहूँ खरीदा। पंजाब को 736 करोड़ रु. मार्केट फीस व इतना ही पैसा ग्रामीण विकास फंड में मिला। आढ़तियों को 613 करोड़ रु. कमीशन मिला। इन सबका भुगतान किसान ने नहीं, बल्कि मंडियों से गेहूँ खरीद करने वाली भारत सरकार की एफसीआई आदि सरकारी एजेंसियों तथा प्राईवेट व्यक्तियों ने किया। मंडी व्यवस्था खत्म होते ही आय का यह स्रोत अपने आप खत्म हो जाएगा।

Ø  कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि अध्यादेश की आड़ में मोदी सरकार असल में ‘शांता कुमार कमेटी’ की रिपोर्ट लागू करना चाहती है, ताकि एफसीआई के माध्यम से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद ही न करनी पड़े और सालाना 80,000 से 1 लाख करोड़ की बचत हो। इसका सीधा प्रतिकूल प्रभाव खेत खलिहान पर पड़ेगा।

Ø  अध्यादेश के माध्यम से किसान को ‘ठेका प्रथा’ में फंसाकर उसे अपनी ही जमीन में मजदूर बना दिया जाएगा। क्या दो से पाँच एकड़ भूमि का मालिक गरीब किसान बड़ी बड़ी कंपनियों के साथ फसल की खरीद फरोख्त का कॉन्ट्रैक्ट बनाने, समझने व साईन करने में सक्षम है? साफ तौर से जवाब नहीं में है।

Ø  कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग अध्यादेश की सबसे बड़ी खामी तो यही है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य यानि एमएसपी देना अनिवार्य नहीं। जब मंडी व्यवस्था खत्म होगी तो किसान केवल कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग पर निर्भर हो जाएगा और बड़ी कंपनियां किसान के खेत में उसकी फसल की मनमर्जी की कीमत निर्धारित करेंगी। यह नई जमींदारी प्रथा नहीं तो क्या है? यही नहीं कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के माध्यम से विवाद के समय गरीब किसान को बड़ी कंपनियों के साथ अदालत व अफसरशाही के रहमोकरम पर छोड़ दिया गया है। ऐसे में ताकतवर बड़ी कंपनियां स्वाभाविक तौर से अफसरशाही पर असर इस्तेमाल कर तथा कानूनी पेचीदगियों में किसान को उलझाकर उसकी रोजी रोटी पर आक्रमण करेंगी तथा मुनाफा कमाएंगी।

Ø  कृषि उत्पाद, खाने की चीजों व फल-फूल-सब्जियों की स्टॉक लिमिट को पूरी तरह से हटाकर आखिरकार न किसान को फायदा होगा और न ही उपभोक्ता को। बस चीजों की जमाखोरी और कालाबाजारी करने वाले मुट्ठीभर लोगों को फायदा होगा। वो सस्ते भाव खरीदकर, कानूनन जमाखोरी कर महंगे दामों पर चीजों को बेच पाएंगे। उदाहरण के तौर पर ‘कृषि लागत एवं मूल्य आयोग’ की रबी 2020-21 की रिपोर्ट में यह आरोप लगाया गया कि सरकार किसानों से दाल खरीदकर स्टॉक करती है और दाल की फसल आने वाली हो, तो उसे खुले बाजार में बेच देती है। इससे किसानों को बाजार भाव नहीं मिल पाता। 2015 में हुआ ढाई लाख करोड़ का दाल घोटाला इसका जीता जागता सबूत है, जब 45 रु. किलो में दाल का आयात कर 200 रु. किलो तक बेचा गया था। जब स्टॉक की सीमा ही खत्म हो जाएगी, तो जमाखोरों और कालाबाजारों को उपभोक्ता को लूटने की पूरी आजादी होगी।

Ø  अध्यादेशों में न तो खेत मजदूरों के अधिकारों के संरक्षण का कोई प्रावधान है और न ही जमीन जोतने वाले बंटाईदारों या मुजारों के अधिकारों के संरक्षण का। ऐसा लगता है कि उन्हें पूरी तरह से खत्म कर अपने हाल पर छोड़ दिया गया।

Ø  तीनों अध्यादेश ‘संघीय ढांचे’ पर सीधे-सीधे हमला हैं। ‘खेती’ व ‘मंडियां’ संविधान के सातवें शेड्यूल में प्रांतीय अधिकारों के क्षेत्र में आते हैं। परंतु मोदी सरकार ने प्रांतों से राय करना तक उचित नहीं समझा। खेती का संरक्षण और प्रोत्साहन स्वाभाविक तौर से प्रांतों का विषय है, परंतु उनकी कोई राय नहीं ली गई। उल्टा खेत खलिहान व गांव की तरक्की के लिए लगाई गई मार्केट फीस व ग्रामीण विकास फंड को एकतरफ़ा तरीके से खत्म कर दिया गया। यह अपने आप में संविधान की परिपाटी के विरुद्ध है।

Ø  मंडियो में धान की खरीद न होने के सवाल का जवाब देते हुए सुरजेवाला ने कहा कि आज मोदी,खट्टर व दुष्यंत चौटाला का ट्रेलर देखे कि 1509 किस्म की धान 1800रु प्रति क्विंटल पर पीट रही है जो पिछले साल की कीमत से 1000रु कम हैं। कांग्रेस के शासन में यही धान 4500रु प्रति क्विंटल तक बिकी लेकिन हरियाणा की खट्टर दुष्यंत चौटाला की सरकार में बदहाली का ये मंजर है कि धान की खरीद नही हो रही, किसान सडको पर हको की लडाई लड रहा है, फसलो की बेकद्री हो रही है और आढती व मजदूर बेहाल व लाचार है। किसानो को दर दर की ठोकरे खाने को मजबूर होना पड रहा है।

Ø   उत्तर प्रदेश के हाथरस में वाल्मिकी समाज की लडकी के साथ हुए दुराचार के सवाल का जवाब देते हुए सुरजेवाला ने कहा कि योगी सरकार को शर्म से डूब कर मर जाना चाहिए। जिस प्रकार का वहशीपन, दरिदापन व दरिंदगी वाल्मिकी समाज की एक लड्की के साथ उत्तर प्रदेश के हाथरस में हुई और उस पर पर्दा डालने के लिए रात के अढाई बजे हिंदू रीति रिवाज के खिलाफ उसका संस्कार किया गया। ये अपने आप में एक दर्द्नाक घटना थी। लेकिन कल रात आदित्यनाथ की कठपुतली वहाँ के डीआईजी कहते हैं कि बेटी से अनाचार ही नही हुआ। आदित्यनाथ जी काश आपको बेटी के उस दर्द और उसके परिवार के दुख का एहसास होता। आपको पता होना चाहिए कि मरने से पहले उस बेटी ने अपने साथ हुए गैंगरेप व बलात्कार की पुष्टि की लेकिन योगीसरकार ने उसे जीते जी भी मारा और मरने के बाद भी उसके बयान को गलत साबित करने का षड्यंत्र भाजपा की सरकार द्वारा किया जा रहा है।

सुरजेवाला ने कहा कि महामारी की आड़ में किसानों की आपदा को मुट्ठी भर पूंजीपतियों के अवसर में बदलने की मोदी, खट्टर व दुष्यंत चौटाला की साजिश को देश का अन्नदाता किसान व मजदूर कभी नहीं भूलेगा। भाजपा की सात पुश्तों को इस किसान विरोधी  दुष्कृत्य के परिणाम भुगतने पड़ेंगे।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

रिपोर्ट तैयार, नरेंद्र तोमर से मुलाकात कर सौंपी जाएगी 

admin

Hiren Chauhan Recognized as a 2020 Diversity in Business Award Winner by Long Island

admin

हरियाणा में सरकारी मंडियां बंद नहीं होंगी और एमएसपी पर फसलों की खरीद जारी रहेगी-मनोहर लाल

admin

Leave a Comment

URL