Atal hind
Uncategorized

किस्मत में यू  दिन  भी देखना लिखा था ,कैदे तो भीड़ की लाइन कोनी टूटय थी ,आज फोन करके बुलाने पड़रे है 

किस्मत में यू  दिन  भी देखना लिखा था ,कैदे तो भीड़ की लाइन कोनी टूटय थी ,आज फोन करके बुलाने पड़रे है

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Leave a Comment

URL